अन्य

    ये रही भारतीय नौसेना में शामिल हुई विभिन्न श्रेणी की पनडुब्ब्बियाँ

    INDIA NEWS REPORTER 1 1INR.  भारतीय नौसेना में स्कॉर्पीन श्रेणी की पनडुब्बी INS करंज बुधवार को भारतीय नौसेना में शामिल हुई। करंज भारतीय नौसेना की ऐसी तीसरी पनडुब्बी है जो परमाणु हमला करने में सक्षम है। नौसेना स्टाफ के प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह और (सेवानिवृत्त) एडमिरल वीएस शेखावत की उपस्थिति में INS करंज को नौसेना के बेड़े में शामिल किया गया।

    आज भारतीय नौसेना में आईएनएस करंज के शामिल होने के बाद भारत की समुद्री ताकत कई गुना और बढ़ गई है। इसे आज उस समय नौसेना का हिस्सा बनाया गया है, जब पाकिस्तान से युद्ध के 50 साल पूरे होने पर इस साल को भारत ‘स्वर्णिम विजय वर्ष’ के तौर पर मना रहा है।Here is the various category of submarines that have joined the Indian Navy 1

    कैसे पड़ा नाम आईएनएस करंज?
    आईएनएस करंज के नाम के फुल-फॉर्म में (K से किलर इंसटिंक्ट, A से आत्मनिर्भर भारत, R से रेडी, A से एग्रेसिव, N से निम्बल और J से जोश) है। I

    NS करंज से पहले इसी श्रेणी(स्कॉर्पीन) की दो अन्य पनडुब्बियों (आईएनएस खंडेरीऔर आईएनएस कलवरी) को भी भारतीय नौसेना के बेड़े में शामिल किया जा चुका है। इसी श्रेणीं की चौथी पनडुब्बी आईएनएस वेला फिलहाल समुद्री ट्रायल मोड पर है।

    भारतीय नौसेना के पास पनडुब्बियों की संख्या
    भारतीय नौसेना इस समय कुल 18 पनडुब्बियों का संचालन कर रही है. इनमें से INS अरिहंत और INS चक्र परमाणु शक्ति संचालित पनडुब्बियां हैं। अरिहंत का निर्माण भारत में ही किया गया है।

    साल 2015 में भारत सरकार ने भारतीय नौसेना के लिए लंबित परियोजना को आगे बढ़ाते हुए छह परमाणु शक्ति चलित अटैक पनडुब्बियों (एसएसएन) के निर्माण को मंजूरी दी थी।

    इनको नौसेना के डिजाइन निदेशालय में डिजाइन किया था और विशाखापत्तनम में इसका शिप बिल्डिंग सेंटर बनाया गया था।

    सिंधुघोष श्रेणी
    सिंधुघोष श्रेणी की पनडुब्बियां कीलो श्रेणी की डीजल-इलेक्ट्रिक चलित पनडुब्बियां हैं। जिन्हें 877 ईकेएम नाम से निर्दिष्ट किया गया है।

    इनका निर्माण रूसी रक्षा निर्यात कंपनी रोसवोरुझेनी और रक्षा मंत्रालय (भारत) के बीच एक अनुबंध के तहत किया गया था। पताका संख्या एस 55 से लेकर एस 65 तक की पनडुब्बियां इस श्रेणी में आती हैं।

    शिशुमार श्रेणी
    शिशुमार श्रेणी के पोत (1500 प्रकार) की डीजल-इलेक्ट्रिक पनडुब्बियां हैं। इन पनडुब्बियों को जर्मन कंपनी एचडीडब्लू के साथ अनुबंध विकसित किया गया है।

    पहली दो पनडुब्बियों को काइल एचडीडब्लू द्वारा बनाया गया था, जबकि शेष का निर्माण मझगांव डॉक लिमिटेड (एमडीएल) मुंबई में किया गया है। पताका संख्या एस 44 से लेकर एस 47 तक की पनडुब्बियां इस श्रेणी में आती हैं।

    कलवरी श्रेणी
    कलवरी प्रोजेक्ट 75 के तहत निर्मित छह स्कोर्पीन श्रेणी की पनडुब्बियों में से एक है। इस श्रेणी की प्रमुख पनडुब्बियां कलवरी, खंडेरी, करंज, वेला और वागीर हैं.

    चक्र श्रेणी
    प्रोजेक्ट चक्र के तहत अकुला श्रेणी की फिलहाल एक ही पनडुब्बी है। परमाणु ऊर्जा चालित यह पनडुब्बी 8,140 टन वजनी है।

    आईएनएस चक्र को 04 अप्रैल, 2012 में आधिकारिक तौर पर नौसेना में कमीशन किया गया था। इस पनडुब्बी के पैनेट नंबर यानी पताका संख्या एस 71 हैं।

    Comments

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Expert Media News_Youtube
    Video thumbnail
    झारखंड की राजधानी राँची में बवाल, रोड़ेबाजी, लाठीचार्ज, फायरिंग
    04:29
    Video thumbnail
    बिहारः 'विकासपुरुष' का 'गुरुकुल', 'झोपड़ी' में देखिए 'मॉडर्न स्कूल'
    06:06
    Video thumbnail
    बिहारः विकास पुरुष के नालंदा में देखिए गुरुकुल, बेन प्रखंड के बीरबल बिगहा मॉडर्न स्कूल !
    08:42
    Video thumbnail
    राजगीर बिजली विभागः एसडीओ को चाहिए 80 हजार से 2 लाख रुपए तक की घूस?
    07:25
    Video thumbnail
    देखिए लालू-राबड़ी पुत्र तेजप्रताप यादव की लाईव रिपोर्टिंग- 'भागा रे भागा, रिपोर्टर दुम दबाकर भागा !'
    06:51
    Video thumbnail
    गुजरात में चरखा से सूत काट रहे हैं बिहार के मंत्री शहनवाज हुसैन
    02:13
    Video thumbnail
    एक छोटा बच्चा बता रहा है बड़ी मछली पकड़ने सबसे आसान झारखंडी तारीका...
    02:21
    Video thumbnail
    शराबबंदी को लेकर अब इतने गुस्से में क्यों हैं बिहार के सीएम नीतीश कुमार ?
    01:30
    Video thumbnail
    अब महंगाई के सबाल पर बाबा रामदेव को यूं मिर्ची लगती है....!
    00:55
    Video thumbnail
    यूं बेघर हुए भाजपा के हनुमान, सड़क पर मोदी-पासवान..
    00:30