अन्य

    ऐलोपैथ विरोधी कारोबारी बाबा रामदेव ने मारी गुलटी, कहा- जल्द लगवाउंगा कोविड वैक्सिन

    सभी अच्छे डॉक्टर्स भगवान के भेजे हुए दूत हैं। ये इस पृथ्वी के लिए एक तोहफा हैं। लेकिन, अगर कोई डॉक्टर होते हुए भी गलत काम करता है तो ये उस व्यक्ति की ही गलती है….

    नई दिल्ली (इंडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क)। अपने अजीबोगरीब हरकतों और बयानों से हमेशा सुर्खियों में रहने वाले बाबा रामदेव जल्द ही कोविड वैक्सीन लगवाएगें।

    खबर है कि एलोपैथी से इलाज को सबसे बड़ा झूठ बताकर विवादों में घिरे बाबा रामदेव ने यू-टर्न ले लिया है। उन्होंने जल्द ही वैक्सीन लगवाने का ऐलान किया है। साथ ही कहा है कि सभी लोग जल्द से जल्द वैक्सीन लगवा लें।

    रामदेव ने कहा कि लोगों को योगा और आयुर्वेद भी अपनाना चाहिए। ये दोनों चीजें बीमारियों के खिलाफ कवच का काम करेंगी और कोरोना के चलते होने वाली मौतों में भी कमी आएगी।

    रामदेव ने सरकार के फ्री वैक्सीनेशन के ऐलान और वैक्सीनेशन ड्राइव के डीसेंट्रलाइजेशन के फैसले की सराहना करते हुए कहा कि 21 जून से देश के हर नागरिक का वैक्सीनेशन मुफ्त किया जाएगा, यह सरकार का ऐतिहासिक ऐलान किय है।

    उन्होंने कहा कि सभी अच्छे डॉक्टर्स भगवान के भेजे हुए दूत हैं। ये इस पृथ्वी के लिए एक तोहफा हैं। लेकिन, अगर कोई डॉक्टर होते हुए भी गलत काम करता है तो ये उस व्यक्ति की ही गलती है।

    बता दें कि हाल ही में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने योग गुरु बाबा रामदेव पर एलोपैथी इलाज के खिलाफ झूठ फैलाने का आरोप लगाया था।

    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को लिखे पत्र में आइएमए ने कहा था कि सोशल मीडिया पर रामदेव का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें बाबा एलोपैथी को बकवास और दिवालिया साइंस कह रहे हैं।

    इसके बाद आइएमए ने रामदेव को एक लीगल नोटिस भेजा था। डॉक्टर्स की संस्था ने रामदेव पर मुकदमा चलाने की मांग भी की थी।

    आइएमए ने पत्र में लिखा था कि इससे पहले कोरोना के लिए बनाई गई अपनी दवा की लॉन्चिंग के दौरान भी रामदेव ने डॉक्टर्स को हत्यारा कहा था। कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री भी मौजूद थे।

    इसके बाद रामदेव की संस्था पतंजलि ने बयान जारी कर आरोपों को गलत बताया था। पतंजलि ने कहा था कि मॉडर्न साइंस और उसकी प्रैक्टिस करने वाले लोगों के प्रति बाबा रामदेव कोई दुर्भावना नहीं रखते हैं।

    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने चिट्‌ठी लिखकर बाबा रामदेव से बयान वापस लेने के लिए कहा। हर्षवर्धन ने कहा था कि एलोपैथी से जुड़े हेल्थ वर्कर्स और डॉक्टर बहुत मेहनत से कोरोना मरीजों की जान बचा रहे हैं। आपके बयान से कोरोना के खिलाफ चल रही लड़ाई कमजोर पड़ सकती है। उम्मीद है कि आप अपने बयान को वापस लेंगे।

    इस पर स्वास्थ्य मंत्री के पत्र का जवाब देते हुए रामदेव ने कहा कि वह इस मामले को शांत करना चाहते हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि आपका पत्र प्राप्त हुआ। उसके संदर्भ में चिकित्सा पद्धतियों के संघर्ष के इस पूरे विवाद को खेदपूर्वक विराम देते हुए मैं अपना वक्तव्य वापस लेता हूं।

    इसके बाद आइएमए ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर रामदेव की शिकायत की। पत्र में आइएमए ने कहा कि एक वीडियो में रामदेव ने दावा किया कि वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद भी 10,000 डॉक्टर और लाखों लोग मारे गए हैं। यह एकदम गलत डाटा है। उन पर देशद्रोह के आरोपों के तहत कार्रवाई की जानी चाहिए। आइएमए के मुताबिक, कोरोना की पहली और दूसरी लहर में कुल 1266 डॉक्टर्स की जान गई।

    Comments

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Expert Media News_Youtube
    Video thumbnail
    वोट के सौदागरः ले मुर्गा, ले दारु!
    00:33
    Video thumbnail
    बिहारः मुजफ्फरपुर में देखिए रावण का दर्शकों पर हमला
    00:19
    Video thumbnail
    रामलीलाः कलयुगी रावण की देखिए मस्ती
    00:31
    Video thumbnail
    बिहारः सासाराम में देखिए दुर्गोत्सव की मनोरम झांकी
    01:44
    Video thumbnail
    पटना के गाँधी मैदान में रावण गिरा
    00:11
    Video thumbnail
    झारखंड की राजधानी राँची में बवाल, रोड़ेबाजी, लाठीचार्ज, फायरिंग
    04:29
    Video thumbnail
    बिहारः 'विकासपुरुष' का 'गुरुकुल', 'झोपड़ी' में देखिए 'मॉडर्न स्कूल'
    06:06
    Video thumbnail
    बिहारः विकास पुरुष के नालंदा में देखिए गुरुकुल, बेन प्रखंड के बीरबल बिगहा मॉडर्न स्कूल !
    08:42
    Video thumbnail
    राजगीर बिजली विभागः एसडीओ को चाहिए 80 हजार से 2 लाख रुपए तक की घूस?
    07:25
    Video thumbnail
    देखिए लालू-राबड़ी पुत्र तेजप्रताप यादव की लाईव रिपोर्टिंग- 'भागा रे भागा, रिपोर्टर दुम दबाकर भागा !'
    06:51