More
    11.1 C
    New Delhi
    Monday, January 24, 2022
    अन्य

      उत्तर प्रदेश, पंजाब, गोवा, मणिपुर में विधानसभा चुनाव कराने में चुनाव आयोग असमर्थ, बताई ये वजह

      85,124,792FansLike
      1,188,842,671FollowersFollow
      6,523,189FollowersFollow
      92,437,120FollowersFollow
      85,496,320FollowersFollow
      40,123,896SubscribersSubscribe

      INR (एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क)। विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत में आगामी वर्ष 2022 में उत्तर प्रदेश, पंजाब, गोवा, मणिपुर में विधानसभा चुनाव होने हैं, लेकिन चुनाव आयोग ने इन राज्यों में चुनाव आयोजित कराने पर असमर्थता जताई है।

      Unable to hold assembly elections in Uttar Pradesh Punjab Goa Manipur next year told this reason 1भारतीय निर्वाचन आयोग का कहना है कि ईवीएम असम, केरल, तमिलनाडु, दिल्ली, पुडुचेरी और पश्चिम बंगाल राज्यों में है। इन राज्यों में फंसी ईवीएम के दोबारा प्रयोग की अनुमति के लिए चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है।

      चुनाव आयोग का कहना है कि असम, केरल, दिल्ली, पुदुचेरी, तमिलनाडु और पश्चिम पंगाल में हुए चुनाव के बाद इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) और वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल मशीन (वीवीपीएटी) वहीं हैं।

      उन्होंने मांग की है कि सुप्रीम कोर्ट उन सभी राज्य के हाईकोर्ट में चुनाव याचिकाओं के दाखिल होने की समय सीमा तय करे, जिससे ईवीएम आगे प्रयोग के लिए मुक्त हो सके।

      मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष आयोग द्वारा वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह ने कहा कि बड़ी संख्या में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) और वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल मशीन (वीवीपीएटी) का इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है, जबकि आने वाले चुनावों के लिए आयोग को इनकी आवश्यकता है।

      पीठ ने आयोग का कथन सुनने के बाद इस याचिका पर अगले हफ्ते सुनवाई करने का फैसला लिया।

      वरिष्ठ वकील ने मांग की कि असम, केरल, दिल्ली, पुडुचेरी, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनावों से संबंधित चुनाव याचिकाएं दाखिल करने के लिए एक समयसीमा तय की जाए। पीठ ने कहा, ‘ठीक है हम इस पर अगले हफ्ते सुनवाई करेंगे।’

      बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर की शुरुआत को ध्यान में रखते हुए, सीजेआई की अगुवाई वाली पीठ ने 27 अप्रैल, 2021 को, जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 के तहत चुनाव याचिकाओं सहित याचिका दायर करने की वैधानिक अवधि में ढील दी थी।

      नतीजतन, कोई भी अभी भी निर्वाचित प्रत्याशी के चुनाव को चुनौती दे सकता है। प्रक्रिया के अनुसार, न्यायिक कार्यवाही में अपने विचार रखने के लिए मतदान पैनल को ईवीएम और वीवीपीएटी मशीनों को संरक्षित करने की आवश्यकता होती है।

       

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Expert Media Video News
      Video thumbnail
      पियक्कड़ सम्मेलन करेंगे सीएम नीतीश कुमार के ये दुलारे
      00:58
      Video thumbnail
      देखिए वायरल वीडियोः पियक्कड़ सम्मेलन करेंगे सीएम नीतीश के चहेते पूर्व विधायक श्यामबहादुर सिंह
      04:25
      Video thumbnail
      मिलिए उस महिला से, जिसने तलवार-त्रिशूल भांजकर शराब पकड़ने गई पुलिस टीम को भगाया
      03:21
      Video thumbnail
      बिरहोर-हिंदी-अंग्रेजी शब्दकोश के लेखक श्री देव कुमार से श्री जलेश कुमार की खास बातचीत
      11:13
      Video thumbnail
      भ्रष्टाचार की हदः वेतन के लिए दारोगा को भी देना पड़ता है रिश्वत
      06:17
      Video thumbnail
      नशा मुक्ति अभियान के तहत कला कुंज के कलाकारों का सड़क पर नुक्कड़ नाटक
      02:36
      Video thumbnail
      झारखंडः देवर की सरकार से नाराज भाभी ने लगाए यूं गंभीर आरोप
      02:57
      Video thumbnail
      भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष एवं सांसद ने राँची में यूपी के पहलवान को यूं थप्पड़ जड़ा
      01:00
      Video thumbnail
      बोले साधु यादव- "अब तेजप्रताप-तेजस्वी, सबकी पोल खेल देंगे"
      02:56
      Video thumbnail
      तेजस्वी की शादी में न्योता न मिलने से बौखलाए लालू जी का साला साधू यादव
      01:08