पीएम मोदी की दो टूकः लॉकडाउन को अंतिम विकल्प के रुप में देखे राज्य सरकारें

हमें आजीविका को भी बचाना है और जिंदगियों को भी बचाना है। राज्य सरकारें लॉकडाउन को अंतिम विकल्प के तौर पर देखें

इडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क। पीएम नरेंद्र मोदी ने आज देश के नाम संबोधन में 19 मिनट बात करते हुए उन्होंने देश को आगाह किया कि कोरोना अनुशासन का पालन कीजिए ताकि लॉकडाउन की स्थिति न आए।

उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी वेव तूफान बनकर आ गई है। ऐसे में सभी डॉक्टरों मेडिकल स्टाफ, पैरा मेडिकल स्टाफ, सफाई कर्मी, एम्बुलेंस ड्राइवर, पुलिस सभी के कार्य सराहनीय है।

पीएम ने माना कि आक्सीजन की डिमांड बहुत ज्यादा बढ़ी है। इस विषय पर पूरी संवेदनशीलता के साथ काम किया जा रहा है। आक्सीजन प्रोडक्शन और सप्लाई बढ़ाने के लिए कई स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। 1 लाख नए सिलेंडर पहुंचाने, आक्सीजन रेल आदि तमाम प्रयास किया जा रहा है।

दुनिया की सबसे सस्ती वैक्सीन भारत के पास है। 1 मई के बाद से 18 साल से ज्यादा का कोई भी व्यक्ति वैक्सीन ले सकेगा। सरकारी अस्पतालों में मुफ्त वैक्सीन मिलती रहेगी। 45 से ज्यादा वाला वैक्सीन अभियान केंद्र सरकार का जारी रहेगा।

पीएम ने कहा कि प्रयास का तरीका ऐसा रखा गया है ,ताकि आर्थिक व्यवस्था और स्वास्थ्य व्यवस्था दोनों ठीक रहे। श्रमिकों को तेजी से वैक्सीन दिया जाएगा। राज्य इन श्रमिकों को भरोसा दें ताकि वे जहां भी हैं वहीं रहें।

उन्होंने आह्वाहन किया अधिक से अधिक भारतीय नागरिक आएं और लोगों की मदद करें। सेवा भाव से ही हम इस जंग को जीत पाएंगे। युवा साथी छोटी छोटी कमेटियां बनाकर कोविड अनुसान का पालन करवाएं। ऐसा करने से सरकारों को न लॉकडाउन लगाना होगा न कर्फ्यू।  घर में ऐसा माहौल बनाएं कि बिना काम बिना कारण घर से कोई भी बाहर न निकले।

पीएम मोदी ने राज्य सरकारों से दो टूक कहा कि देश को लॉकडाउन से बचाना है। राज्यों से अपील है कि लॉकडाउन से बचें और उसे आखिरी विकल्प के तौर पर ही सोचें। माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने का प्रयास करें। रमजान, नवरात्रि और राम नवमी का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने अनुशासन बनाए रखने की अपील की।

लेट्स्ट न्यूज़