Saturday, April 17, 2021

FLDI ने मंत्रालय से यूं ट्वीट कर पूछा- डिलीवरी बॉय नहीं हैं कोरोना वॉरियर्स? नहीं मिला जबाव !

6 अप्रैल, नई दिल्ली (इंडिया न्यूज रिपोर्टर)। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए देश में निर्मित स्वदेशी वैक्सीन फ्रंट लाइन वर्करों एवं कोरोना वारियर्स को मुफ्त में दिया जा रहा है। वैश्विक महामारी के कारण देश में लगाए गए लॉकडाउन से लेकर अब तक एलपीजी सिलेंडर वितरक एजेंसी  और पेट्रोल पंप कर्मियों ने जिस मुश्तैदी से काम किया उसको देखते हुए क्या उन्हें फ्रंटलाइन वर्कर की श्रेणी में नहीं रखा जाना चाहिए ?

यह अहम सवाल देश भर के एलपीजी वितरक और पेट्रोल पंप संचालकों के कर्मचारियों की ओर से पेट्रोलियम मंत्रालय के ऑफिशियल टि्वटर हैंडल पर ट्वीट कर सवाल पूछा जा रहा है। हालांकि इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल रही है।

देश भर के पेट्रोल पंप संचालक और एलपीजी वितरक अपने यहां काम करने वाले कर्मचारियों के लिए स्वदेशी वैक्सीन मुफ्त में दिए जाने की मांग उठा रहे हैं।

इनका कहना है, कि हमारे यहां काम करने वाले रिफिल बॉय से लेकर पेट्रोल देने के काम में लगे कर्मचारी दिन भर सैकड़ों उपभोक्ताओं के संपर्क में रहते हैं।

कोरोना महामारी के पहले चरण में सभी कर्मचारियों ने मुस्तैदी से काम किया और उपभोक्ताओं को गैस और पेट्रोल की किल्लत होने नहीं दी।

ऐसे में सरकार और जिला प्रशासन को इन्हें कोरोना वॉरियर मानते हुए स्वदेशी वैक्सीन देने की पहल करनी चाहिए।

फेडरेशन ऑफ एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटर ऑफ इंडिया ने अपने ट्वीट में लिखा है….

“मैं एलपीजी वितरक जो कोरोना काल के दौरान किसी भी सपोर्ट के बिना डिलीवरी/ ऑफिस स्टाफ का हौसला बढ़ाकर उनकी आवश्यक जरूरतों को पूरा कर ग्राहकों को समय पर सिलेंडर पहुंच पा रहा हूं। आज अपने ही स्टाफ के आगे शर्मिंदा हूं। इन्हें कोरोना वारियर घोषित कर वैक्सीन में प्राथमिकता देने की कृपा करें।”

अन्य खबरें

- Advertisment -