स्थापना दिवस विशेषः जानिए प्रकृति की गोद में बसा उगते सूर्य का पर्वत अरुणाचल प्रदेश

INR (PBNS). उगते सूर्य का पर्वत यानी अरुणाचल प्रदेश, भारत में हर सुबह सूर्य की पहली किरण अरुणाचल प्रदेश में पड़ती है। भोर होते ही जंगल और आदिवासी क्षेत्रों में चिड़ियों की चहचहाने की आवाज और हरी पत्तियों और रंग बिरंगे फूलों लाल सूरज की धूप एक अद्भुत सौंदर्य का नज़ारा बनाती हैं।

प्राकृतिक सौंदर्य से लबरेज अरुणाचल प्रदेश अपनी हरियाली, सांस्कृतिक परम्पराओं, भाषा और परिधानों के लिए अलग पहचान रखता है। बर्फीली धुंध, प्रसिद्ध बौद्ध मठ, अनदेखे दर्रे तथा शांत झीलें मिलकर अरुणाचल प्रदेश को सुंदर पर्वतीय स्थल बनाता है।

सुनहरा इतिहास रखने वाले अरुणाचल प्रदेश को 1972 तक नॉर्थ-ईस्ट फ्रंटियर एजेंसी के रूप में जाना जाता था। 20 जनवरी 1972 को इसे संघ शासित प्रदेश का दर्जा मिला और इसका नाम बदलकर अरुणाचल प्रदेश कर दिया गया। विधानसभा का गठन किया गया और सरकारी शासन की शुरुआत हुई।

फिर 20 फरवरी 1987 को अरुणाचल को पूर्ण राज्य का दर्जा प्राप्त हुआ। तब से लेकर आज तक हर साल आज के दिन राज्य का स्थापना दिवस मनाया जाता है।

अरुणाचल प्रदेश से जुड़ी खास बातें
• हर रोज जब सूर्योदय होता है तो भारत में पहली किरण अरुणाचल के जंगलों पर पड़ती है।

• अरुणाचल प्रदेश में 16 जिले हैं और यहां की राजधानी इटानगर है।

• अरुणाचल प्रदेश पश्चिम में भूटान से, पूर्व में म्यांमार से, उत्तर तथा पूर्वोत्तर में चीन से से घिरा है।

• यहां 26 कस्बे और 3863 गांव हैं।

• इटानगर का नाम यहां के इटा फोर्ट के नाम पर पड़ा, जिसका निर्माण 14वीं शताब्दी में हुआ था।

• अरुणाचल प्रदेश का जिक्र कलिका पुराण और महाभारत में भी किया गया है।

• कहा जाता है कि व्यास ऋषि ने यहां पर तप किया था और इस साम्राज्य की खोज राजा भीस्माका ने की थी।

• यहां असमी, बांग्ला, हिन्दी और अंग्रेजी भाषाएं बोली जाती हैं।

• राज्य की साक्षरता दर 65.38 प्रतिशत है।

• यहां शिल्प कला, बुनकर, गन्ना, बांस, कार्पेट, वुड कार्विंग, फल उत्पादन, आभूषण और पर्यटन के उद्योग प्रमुख हैं।

• 2011 के सेंसस के अनुसार अरुणाचल प्रदेश की जनसंख्या 13,82,611 है।

• सरकार द्वारा राज्य के लिए उठाए गए कुद महत्वपूर्ण कदम

• ऊर्जा मंत्रालय ने नई योजनाओं- दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत यहां के सभी गांवों में बिजली पहुंचाई।

• सौभाग्य योजना के तहत करीब 43 हजार घरों में बिजली पहुंचाने का काम किया जा रहा है।

• 2019 के राज्य के बजट में शहरी विकास के लिए 15 करोड़ रुपए का आवंटन किया गया।

• 2018 में प्रदेश को पहला मेडिकल कॉलेज मिला- टोमो रिबा इंस्टीट्यूट आफ हेल्थ एंड मेडिकल साइंसेस।

• सरकार ने यहां आरोग्य अरुणाचल योजना शुरू की, जिसके तहत सभी परिवारों को 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा देने का प्रावधान किया गया।

• 2018 में 17 निजी कंपनियों के साथ समझौते किए गए, जिसके अंतर्गत यहां नॉर्थ ईस्ट कनेक्टिविटी स्कीम को आगे बढ़ाया गया।

• नवंबर 2019 तक यहां की 83 ग्राम पंचायतों को भारत नेट प्रोग्राम से जोड़ा जा चुका है।

• अरुणाचल प्रदेश द्वारा राज्य ने मार्च, 2023 तक सभी परिवारों को 100% नल कनेक्शन प्रदान करने का प्रस्ताव रखा गया है। भारत सरकार ने वर्ष 2020-21 में जल जीवन मिशन (जेजेएम) के तहत राज्य के लिए 255 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं।

संबंधित खबरें...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

अन्य खबरें