More
    10.1 C
    New Delhi
    Monday, January 24, 2022
    अन्य

      आशा की किरण बन कर उभर रहे हैं ये कृत्रिम ग्लेशियर

      85,124,792FansLike
      1,188,842,671FollowersFollow
      6,523,189FollowersFollow
      92,437,120FollowersFollow
      85,496,320FollowersFollow
      40,123,896SubscribersSubscribe

      INR. एक तरफ देश इन दिनों उत्तराखंड में कुदरत की तबाही देख रहा है तो वहीं हिमालय के उत्तरी सीमांत क्षेत्रों में स्थित कई गांव पानी की कमी के संकट से जूझ रहे हैं। जिसके कारण स्थानीय लोग अपने सदियों पुराने मूल स्थान को छोड़ कर पलायन कर रहे हैं।

      इन दोनों स्थितियों का कारण हिमालय क्षेत्र में जलवायु परिवर्तन का प्रतिकूल प्रभाव माना जा रहा है। इस बीच लद्दाख के इन गांव में कृत्रिम यानी मानव निर्मित ग्लेशियर आशा की किरण बन कर उभरे हैं, ताकि पानी की कमी हो हल किया जा सके।

      सिंधु नदी के किनारे लेह में स्थित कुछ गांव पानी की भयंकर कमी का सामना कर रहे हैं। कम होती बर्फबारी और पिघलते ग्लेशियर के कारण अब ग्रामीण पलायन करने के लिए मजबूर हो रहे हैं।

      पिछले कुछ वर्षों में सर्दियों के मौसम में जितनी बर्फबारी होनी चाहिए थी, उतनी नहीं हुई। जिसके कारण यहां के गांव अब पानी की भारी कमी का सामना कर रहे हैं। इतना ही नहीं अब खेती की गतिविधियां भी बंद हो रही हैं।

      कृत्रिम ग्लेशियर का निर्माण
      लेकिन अब इन गांव में सर्दियों के मौसम में पानी की कमी की समस्या को हल करने के लिए बर्फ के स्तूपों का निर्माण किया जा रहा है। खासकर बसंत के महीने में जब लोग बुआई के काम में लगे होते हैं।

      इस बीच इनोवेटर और रेमन मैग्सेसे अवार्ड से सम्मानित सोनम वांगचुक ने लद्दाख में आइस स्तूप के रूप में कृत्रिम ग्लेशियर के काम को सुधारा और तीन आइस स्तूप बनाने के लिए स्थानीय लोगों की मदद की।

      सोनम वांगचुक कर रहे हैं मदद
      इस बारे में सोनम वांगचुक ने बताया कि जलवायु परिवर्तन के कारण लद्दाख जैसे पहाड़ों में ग्लेशियर पिघलते जा रहे हैं। इस वजह से लद्दाख में पिछले कई वर्ष से कृत्रिम मानव निर्मित ग्लेशियर बनाने की योजना शुरू हुई।

      खास तौर पर गांव में पानी के संकट के को कम करने के लिए सर्दियों में जो पानी बहता है, जिसका कोई प्रयोग नहीं है उसे जमा कर आइस स्तूप बनाने का सिलसिला शुरू हुआ है।

      ग्रामीणों को सोनम वांगचुक के इस कृत्रिम ग्लेशियर से बहुत उम्मीदें हैं और वे सोनम वांगचुक के द हिमालयन इंस्टीट्यूट ऑफ अल्टरनेटिव्स लद्दाख के प्रति आभारी हैं। लेकिन अहम विषय यहां जलवायु परिवर्तन हैं और इसके प्रतिकूल प्रभाव इसके साफ दिखाई दे रहा है।

      LEAVE A REPLY

      Please enter your comment!
      Please enter your name here

      Expert Media Video News
      Video thumbnail
      पियक्कड़ सम्मेलन करेंगे सीएम नीतीश कुमार के ये दुलारे
      00:58
      Video thumbnail
      देखिए वायरल वीडियोः पियक्कड़ सम्मेलन करेंगे सीएम नीतीश के चहेते पूर्व विधायक श्यामबहादुर सिंह
      04:25
      Video thumbnail
      मिलिए उस महिला से, जिसने तलवार-त्रिशूल भांजकर शराब पकड़ने गई पुलिस टीम को भगाया
      03:21
      Video thumbnail
      बिरहोर-हिंदी-अंग्रेजी शब्दकोश के लेखक श्री देव कुमार से श्री जलेश कुमार की खास बातचीत
      11:13
      Video thumbnail
      भ्रष्टाचार की हदः वेतन के लिए दारोगा को भी देना पड़ता है रिश्वत
      06:17
      Video thumbnail
      नशा मुक्ति अभियान के तहत कला कुंज के कलाकारों का सड़क पर नुक्कड़ नाटक
      02:36
      Video thumbnail
      झारखंडः देवर की सरकार से नाराज भाभी ने लगाए यूं गंभीर आरोप
      02:57
      Video thumbnail
      भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष एवं सांसद ने राँची में यूपी के पहलवान को यूं थप्पड़ जड़ा
      01:00
      Video thumbnail
      बोले साधु यादव- "अब तेजप्रताप-तेजस्वी, सबकी पोल खेल देंगे"
      02:56
      Video thumbnail
      तेजस्वी की शादी में न्योता न मिलने से बौखलाए लालू जी का साला साधू यादव
      01:08