इसी साल होगी राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी की पहली संयुक्त परीक्षा

INR.  सरकारी नौकरियों के लिए भर्ती और उससे संबंधित परीक्षा के लिए अगस्त 2020 में केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी (NRA) की स्थापना करने का निर्णय लिया।

इस दिशा में तेजी से कार्य आगे बढ़ रहा है। ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि इसी वर्ष ही संयुक्त परीक्षा का आयोजन किया जा सकता है।

इस बारे में कार्मिक, लोक शिकायत तथा पेंशन मंत्रालय राज्य मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने लोकसभा में विस्तार से जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि एनआरए के जरिए किन विभागों में भर्ती की जाएगी और कब तक इसके जरिए परीक्षाओं का आयोजन किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि वर्तमान में सरकारी नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों को विभिन्न पदों के लिए अलग-अलग भर्ती एजेंसियों द्वारा संचालित की जाने वाली विभिन्न टियर-1 परीक्षाओं में सम्मिलित होना पड़ता है।

उम्मीदवारों को टियर-1 प्रथम चरणीय कंप्यूटर आधारित परीक्षा में भाग लेने के लिए भिन्न-भिन्न भर्ती एजेंसियों को शुल्क का भुगतान करना पड़ता है और इन परीक्षाओं में भाग लेने के लिए लंबी दूरियां तय करनी पड़ती है।

उन्होंने कहा कि अलग-अलग भर्ती परीक्षाएं उम्मीदवारों के साथ-साथ संबंधित भर्ती एजेंसियों पर भी बोझ होती हैं जिसमें परिहार्य बार-बार होने वाला खर्च, कानून और व्यवस्था सुरक्षा संबंधी मुद्दे और परीक्षा केन्द्रों संबंधी समस्याएं शामिल हैं। प्रतिवर्ष लगभग 1.25 लाख रिक्तियों के लिए लगभग 2.5 करोड़ उम्मीदवार विभिन्न भर्ती परीक्षाओं में शामिल होते हैं।

कैसे होगी भर्ती परीक्षा
सरकार ने दिनांक 28 अगस्त 2020 के आदेश के माध्यम से राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी (एनआरए) की स्थापना की है, जिसका उद्देश्य कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी), रेलवे भर्ती बोर्डी (आरआरबी) और बैंकिंग कार्मिक चयन संस्थान (आईबीपीएस) के लिए स्नातक, उच्चतर माध्यमिक और मैट्रिकुलेट स्तर पर एक सामान्य पात्रता परीक्षा (सीईटी) के माध्यम से उम्मीदवारों की प्रथम चरण की स्क्रीनिंग का संचालन करना है।

2021 में प्रथम सीईटी का संचालन किए जाने की संभावना
सीईटी में की गई उम्मीदवारों की स्क्रीनिंग के आधार पर, अंतिम चयन संबंधित भर्ती एजेंसियों द्वारा संचालित की जाने वाली विशेष परीक्षाओं/परीक्षणों के माध्यम से किया जाएगा।

एनआरए के साथ किए गए समझौता ज्ञापन के आधार पर सीईटी में उम्मीदवारों द्वारा प्राप्त किए गए अंकों का उपयोग राज्य सरकारों, सार्वजनिक क्षेत्र तथा निजी क्षेत्र द्वारा उनकी भर्तियों में भी किया जा सकता है।

एनआरए द्वारा वर्ष 2021 में प्रथम सीईटी का संचालन किए जाने की संभावना है।

एनआरए प्रथम चरण की करेगा स्क्रीनिंग
इसके साथ ही सांसद ने जानकारी दी कि एनआरए एक स्वतंत्र, व्यावसायिक तथा विशेषज्ञ एजेंसी है जिसे दिनांक 24 दिसंबर 2020 को सोसाइटी पंजीकरण अधिनियम, 1860 के तहत सोसाइटी के रूप में पंजीकृत किया गया है।

राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी (एनआरए) का अधिदेश समूह ‘ख’ अराजपत्रित पदों, समूह ‘ख’ राजपत्रित पदों, जिन्हें यूपीएससी के परामर्श से छूट प्राप्त है तथा समूह ‘ग’ के पदों पर भर्ती के लिए उम्मीदवारों की प्रथम चरण की स्क्रीनिंग करना है, जिसके लिए एसएससी, आरआरबी और आईबीपीएस द्वारा भर्ती की जाती है।

एनआरए का मूल उद्देश्य
एनआरए का उद्देश्य प्रत्येक जिले में कम से कम एक परीक्षा केन्द्र में सीईटी का संचालन करना है ताकि उम्मीदवार को अपने जिले/राज्य में परीक्षा में शामिल होने का अवसर मिल सके।

लेट्स्ट न्यूज़