बढ़ी उम्मीदः केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री की ट्वीट- ‘निर्णायक दौर में कोरोना जंग, ह्यूमन ट्रॉयल पॉजेटिव’

INR.   देश में कोरोना का संकट लगातार बढ़ता जा रहा है, इसी बीच इसके वैक्सीन को लेकर स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने शुभ संकेत दिये हैं।

उन्होंने आज कुछ देर पहले ट्‌वीट किया है- स्वदेशी कोरोना वैक्सीन का ह्यूमन ट्रॉयल शुरू हो गया! COVID19 के खिलाफ जंग अब निर्णायक दौर में है। पिछले कई महीनों से कोरोना वैक्सीन के विकास के लिए जारी प्रयास के सकारात्मक संकेत मिलने लगे हैं। हम जल्द ही इस महामारी पर पूरी तरह जीत प्राप्त कर लेंगे।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन के इस ट्‌वीट से यह उम्मीद बंध गयी है कि जल्द ही देश में कोरोना का वैक्सीन बनकर तैयार हो जायेगा। जुलाई के पहले सप्ताह में आईसीएमआर और भारत बायोटेक ने संभावना व्यक्त की थी कि देश में 15 अगस्त तक कोरोना वायरस का वैक्सीन लॉन्च हो जायेगा।

स्वास्थ्य मंत्री के ट्‌वीट में इस बात का जिक्र है कि देश में ह्यूमन ट्रॉयल दो स्टेज में होगा। इस वैक्सीन का कोई साइट इफेक्ट मरीज पर नजर नहीं आया है। साथ ही उन्होंने यह जानकारी भी दी है कि 14 रिसर्च इंस्टीट्‌यूट वैक्सीन का ट्रॉयल हो रहा है।

कल ही हरियाणा के रोहतक में तीन लोगों को भारत बायोटेक द्वारा बनायी गयी वैक्सीन का डोज दिया गया है। पटना के एम्स अस्पताल में भी कोरोना वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल शुरू हो गया है। इन्हें दो बार वैक्सीन का डोज दिया जायेगा और 28 दिनों बाद उनकी जांच की जायेगी।

भारत में जायडस कैडिला और भारत बायोटैक जैसी दवा बनाने वाली कंपनी कोरोना के वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल शुरू कर चुकी है, ऐसे में स्वास्थ्य मंत्री का यह ट्‌वीट काफी अहम है।

भारत में कोरोना वैक्‍सीन पर रिसर्च के लिए डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्‍नोलॉजी और उसके 16 रिसर्च इंस्‍टीट्यूट काम कर रहे हैं, ताकि वैज्ञानिकों को वायरस के बारे में सही सूचना मिले और कम लागत में रिसर्च हो पाये।

भारत की वैक्सीन बनाने वाली बड़ी कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया भी वैक्सीन बनाने में जुटी है और पिछले दिनों कंपनी के सीईओ ने कहा था कि कोरोना का सबसे सुरक्षित और कारगर वैक्सीन अब से छह महीने यानी जनवरी 2021 के बाद ही आम लोगों के लिए उपलब्ध हो पायेगा।

कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीन बनाने में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय का साझेदार है। कंपनी कोरोना वायरस का वैक्सीन में जुटी हुई है और कई ट्रायल भी कर रही है। इनका प्रयास यह है कि जल्दी से जल्दी कोरोना का वैक्सीन बाजार में उपलब्ध हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here