IIMC तक पहुंची JNU की आंच, महंगी फीस का विरोध

Share Button

इंडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्रावास शुल्क में बढ़ोतरी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन विश्वविद्यालय परिसर में स्थित भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) में भी फैल गया है।

आईआईएमसी में छात्रों ने महंगी फीस के खिलाफ प्रदर्शन किया और दावा किया कि आईआईएमसी प्रशासन ने उनके मुद्दों पर “आंख बंद” कर ली है।

छात्रों के अनुसार उनका प्रदर्शन भारी शिक्षण शुल्क और “असंगत” छात्रवास तथा भोजनालय शुल्क के खिलाफ है। चूंकि आईआईएमसी एक सरकारी संस्थान है, इसे देखते हुए यह शुल्क बहुत अधिक है।

आईआईएमसी में अंग्रेजी पत्रकारिता की छात्र आस्था सव्यसाची ने कहा कि दस महीने के पाठ्यक्रम के लिए 1,68,500 रुपये देने पड़ते हैं, जबकि छात्रवास तथा भोजनालय का शुल्क अलग है।

उन्होंने कहा कि गरीब और मध्य वर्ग के छात्र इतनी फीस का भार नहीं उठा सकते हैं। इसके चलते कई छात्रों को पहले सेमेस्टर के बाद संस्थान छोड़ना पड़ता है।

एक छात्र ने बताया कि रेडियो और टीवी पत्रकारिता के डिप्लोमा पाठ्यक्रम की फीस 1,68,500 रुपये है, जबकि विज्ञापन तथा जनसंपर्क के लिए यह फीस 1,31,500 रुपये है।

हिंदी पत्रकारिता के लिए यह फीस 95,500 रुपये, अंग्रेजी पत्रकारिता के लिए यह फीस 95,500 रुपये और उर्दू पत्रकारिता के लिए 55,500 रुपये है।

छात्रावास और भोजनालय का शुल्क महिलाओं के लिए लगभग 6,500 रुपये प्रति माह और पुरुषों के लिए 4,800 रुपये प्रति माह है।

छात्रों की यह भी शिकायत है कि प्रत्येक छात्र को छात्रावास में जगह नहीं मिलती है।

इससे पहले जेएनयू में छात्रावास शुल्क में बढ़ोतरी के विरोध में भारी प्रदर्शन हुआ।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

झूठे साबित हो चुके हैं एग्जिट पोल के नतीजे
सुबोधकांत बनेंगे मुख्यमंत्री!
नादानी बाड़मेर एसपी की, बदनामी पटना पुलिस-बिहार की
अब परचून की दुकानों में शराब बेचेगी भाजपा सरकार
राहुल गांधी का सचित्र ट्वीट- 'मानसरोवर के पानी में नहीं है नफरत’
कांग्रेसियो ने हार का ठीकरा केन्द्रीयमंत्री सुबोधकांत के सिर फोडा
करगिल युद्धः एक और विजय कहानी
मुख्यमंत्री जी देखिए रांची बीच कांके अंचल के नजारे
संवैधानिक व्यवस्था से भी ऊपर है कांग्रेस:नीतीश कुमार
कांग्रेस एक सर्कसः मणिशंकर अय्यर, कांग्रेस में शिखंडी जैसी हालतः जयराम रमेश
एक सफल फैशन डिजाइनर बनने के पहले इस तरह करें खुद को तैयार
झारखंड :चिरकुटों के हाथ में चौथा स्तंभ
देश के निकम्मे सांसदो को भी चाहिए अब लालबती
संविधान दिवस रौशनः अबकी बार खो दी सरकार
"ये झारखंड नगरिया तू लूट बबुआ"
मीडिया : आखिर सोच-सोच में फर्क क्यों है ?
Keep the faith, keep up the fight :Arvind Kejriwal
बिहारः यहां माता सीता ने की थी प्रथम छठ व्रत, मंदिर में मौजूद आज भी उनके चरण !
बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार का जीवन और उनकी उपलब्धियों पर एक नज़र
नीतीश-पासवान राज्यो का पुनर्गठन एकसाथ करने के पक्षधर
जेटली चुने हुए नेता नहीं हैं इसलिये वे लोगों का दर्द नहीं समझतेः यशवंत सिन्हा
भगवान बुद्ध के विचार आज के दौर में अधिक प्रासंगिक  :राष्ट्रपति
पीएम मोदी के खिलाफ महागठबंधन प्रत्याशी तेज बहादुर का नामांकण रद्द! जाएंगे सुप्रीम कोर्ट
भारत में भ्रष्टाचार रहित शहरी जीवन की कल्पना की जा सकती है !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter