Google Doodle Celebrates Poet And Women’s Rights Activist Kamini Roy

Share Button

Google Doodle celebrates the Bengali poet, social worker and feminist Kamini Roy on her 155th birth anniversary. She was the first woman honours graduate in British India……”

India News Reporter Desk.  Today’s Google Doodle celebrates the 155th birth anniversary of the first woman to graduate with honors in the history of India, who went on to advocate for the rights of all women — Kamini Roy. She was a Bengali poet, educator, and activist.

Born on October 12 in 1864 in the Bakerganj district of British India-now part of Bangladesh- Ms Roy grew up in a prominent family. Her brother was elected Mayor of Calcutta, and her sister was a physician for Nepal’s Royal Family. Though interested in mathematics, Kamini Roy began writing poetry at an early age.

In 1886, she graduated with a degree in Sanskrit from Bethune College, earning her BA with honors. In college, she met another student, Abala Bose, who went on to be known for her social work in women’s education and alleviating the condition of widows. Her friendship with Abala Bose would inspire her interest in advocating for women’s rights.

According to Google, after graduation, Kamini Roy became a teacher at Bethune and published Alo O Chhaya, the first of her many books of poems, in 1889. By forming organizations to champion causes she believed in, she helped advance feminism on the Indian subcontinent.

“Why should a woman be confined to home and denied her rightful place in society?” the poet once wrote.

She also worked to help Bengali women win the right to vote in 1926. For her literary accomplishments, Kamini Roy was awarded the Jagattarini medal by Calcutta University in 1929.

Kamini Roy died in 1933.

गूगल के डूडल में आज कामिनी रॉय

कामिनी रॉय ने तत्कालीन बंगाल में महिलाओं को वोट का अधिकार दिलाने के लिए उन्होंने लंबा कैंपेन चलाया। आखिर में 1926 के आम चुनाव में महिलाओं को वोट डालने का अधिकार दिया गया था। 1933 में उनका देहांत हुआ था………”

गूगल ने आज अपना डूडल बंगाली कवयित्री, ऐक्टिविस्ट और शिक्षाविद् कामिनी रॉय को समर्पित किया है। 12 अक्टूबर, 1864 को तत्कालीन बंगाल के बाकेरगंज जिले (अब बांग्लादेश का हिस्सा) में जन्मी कामिनी रॉय की आज 155वीं जयंती है।

महिला अधिकारों के लिए समर्पित रहने वाली कामिनी रॉय भारत की ऐसी पहली महिला हैं, जिन्होंने ब्रिटिश इंडिया में ग्रैजुएशन ऑनर्स किया था। संभ्रांत परिवार में जन्मीं रॉय के भाई कोलकाता के मेयर रहे थे और उनकी बहन नेपाल के शाही परिवार की फिजिशियन थीं।

भारतीय उपमहाद्वीप में उस दौर में उन्होंने महिलाओं के अधिकारों और उनकी पढ़ाई की वकालत की, जब कई कुप्रथाएं समाज में मौजूद थीं। कामिनी रॉय की बहुमुखी प्रतिभा को आप इससे भी समझ सकते हैं कि उन्हें बचपन से ही गणित में रुचि थी, लेकिन आगे की बढ़ाई उन्होंने संस्कृत में की। कोलकाता स्थित बेथुन कॉलेज से उन्होंने 1886 में बीए ऑनर्स किया था और फिर वहीं टीचिंग करने लगी थीं।

कॉलेज में ही उनकी एक और स्टूडेंट अबला बोस से मुलाकात हुई थी। अबला महिला शिक्षा और विधवाओं के लिए काम करने में रुचि लेती थीं। उनसे प्रभावित होकर कॉमिनी रॉय ने भी अपनी जिंदगी को महिलाओं के अधिकारों के लिए समर्पित करने का फैसला किया। कामिनी रॉय ने इल्बर्ट बिल का भी समर्थन किया था।

वायसराय लॉर्ड रिपन के कार्यकाल के दौरान 1883 में इल्बर्ट बिल लाया गया था, जिसके तहत भारतीय न्यायाधीशों को ऐसे मामलों की सुनवाई का भी अधिकार दिया गया, जिनमें यूरोपीय नागरिक शामिल होते थे। इसका यूरोपीय समुदाय ने विरोध किया, लेकिन भारतीय इसके समर्थन में आंदोलन करने लगे।

1909 में पति केदारनाथ रॉय के देहांत के बाद वह बंग महिला समिति से जुड़ीं और महिलाओं के मुद्दों के लिए पूरी तरह से समर्पित हो गईं। कामिनी रॉय ने अपनी कविताओं के जरिए महिलाओं में जागरूकता पैदा करने का काम किया था।

1 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
100 %
Surprise
Share Button

Related News:

अफसरों से बोले नितिन गडकरी- ‘काम करो नहीं तो लोगों से कहूंगा धुलाई करो’
कांग्रेस की जन आकांक्षा रैली में राहुल गांधी का मोदी पर आक्रामक हमला
झारखंड के 81 विधायकों में 48 विधायकों पर 126 126 एफआईआर
बोफ़ोर्स की तरह ही 'पीएम 2019' का खेल कहीं बिगाड़ न दे रफ़ाएल
नोटबंदी फेल, मोदी का हर दावा निकला झूठ का पुलिंदा
सड़ गई है हमारी जाति व्यवस्था
परमिट के नाम पर बसों की चांदी, यात्रियों की जान के साथ कर रहे खिलवाड़
इस 'नाग-फांस' से मुक्ति कैसे पाएंगे झारखंड के डीजीपी!
कूटनीतिः ‘पैगाम-ए-खीर’ के निशाने पर कमल-तीर
नहीं रहे पूर्व रक्षा मंत्री एवं गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर, समूचे देश में शोक की लहर
पीएम ने फिलीपींस में वैज्ञानिक अरविंद से धान की पैदावार को लेकर की लंबी चर्चा
भाजपा की हालत 'माल महाराज की और मिर्जा खेले होली' जैसीः ममता बनर्जी
दैनिक भास्कर रोहतक के एडीटोरियल हेड जितेंद्र श्रीवास्तव ने ट्रेन से कटकर की आत्महत्या
‘टाइम’ ने मोदी को 'इंडियाज डिवाइडर इन चीफ’ के साथ ‘द रिफॉर्मर’ भी बताया
जयरामपेशों का अड्डा बना आयडा पार्क
एक करोड़ के ईनामी ये 2 माओवादी ने सरकार मांग रखी है देहदान की ईच्छा  
मई 2020 तक फ्रांस से भारत पहुंचेगा राफेल, 2021 तक होगा ऑपरेशनल
कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?
अगर ऐसा है तो आप इन्सान हैं, अन्यथा जानवर..!
हत्यारोपी BJP MLA संजीव सिंह की जेल में रोजाना सजते दरबार और लालू पर कसे शिकंजे को लेकर उठे सबाल
कुख्यात नक्सली के सरेंडर मामले में रघुबर सरकार की मुश्किलें बढ़ी, HC के बाद PMO ने लिया कड़ा संज्ञान
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि पर सफेदपोशों के अवैध होटलों-मकानों से बिजली-पानी कनेक्शन तक काटने में क...
गैस सिलेंडर लदी बस में आग, 10 लोग जिन्दा जले, हरनौत बाजार के पास लगी आग
मीटिंग के बहाने पुलिस सब इंस्पेक्टर की विधवा संग गैग रेप, हुई गर्भवती, पुलिस ने नहीं की कार्रवाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter