रांची के अखबार : सेमिनार एक,लेकिन समाचार बने अनेक

Share Button

दैनिक रांची एक्सप्रेस

समझ मे नही आता कि ऐसे लोगो को क्या कहा जाय. संवाददाता या कार्यकर्ता या……….या कुछ और. मै नही समझता रांची से प्रकाशित अखबारो के संवाददाता के बारे मे लिखने जा रहा हूँ, वह यह सब लिखने लायक है भी कि नही? राजधानी रांची जिले के ओरमांझी क्षेत्र मे पहली बार कंपूटर शिक्षा से जुडे आई एल एफ एस और कंप्यूटर निर्माण से जुडे कंपणी इंटेल ने एक स्थानीय “सियाजी इंस्च्यूट ओफ कंप्यूटर एजुकेशन+मैनेजमेंट“ के अथक प्रयास से “ग्रामीण क्षेत्रो के छात्र-छात्राओ के व्यक्तित्व विकास और कंप्यूटर शिक्षा” विषय पर राष्ट्रीय स्तर का सेमीनार का आयोजन किया गया. लेकिन संवाददाताओ ने जिस की मानसिकता दिखाई और समाचार प्रकाशित किये वह हमे बहुत कुछ सोचने को वाध्य कर देता है. प्रस्तुत है, उन समाचारो के कतरन. इसके अवलोकन के बाद आप क्या कहेगे:………………………..
दैनिक जागरण

दैनिक हिन्दुस्तान

दैनिक प्रभात खबर

दैनिक आज

दैनिक सन्मार्ग
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

राहुल गांधी का सचित्र ट्वीट- 'मानसरोवर के पानी में नहीं है नफरत’
और इस कारण बिखर चला 'द कपिल शर्मा शो'
"झारखंड में दिखेगी विनाश की रेखा !!"
साईबर अपराधियों का यूं हुआ भंडाफोड़,भारी सबूत बरामद
आरक्षण फिल्म के निर्माता प्रकाश झा के घर-दफ्तर पर हमला
झारखंड : राज्यपाल ने लोकतंत्र का गला घोंटकर नई मिशाल कायम की
राम रहीम के बाद अब फलाहारी बाबाः पीएम मोदी, भागवत, राजनाथ तक है कनेक्शन
मोदी-मनमोहन मिलन में यूं दिखा भारतीय लोकतंत्र की खूबसूरती
.....और पटना से यूं फुर्र हो गये बिग बी
लापरवाही की हदः गोरखपुर BRD मेडिकल कॉलेज में 5 दिनों में 60 की मौत
मेरी सरकार को प्रमाण-पत्र देने से पहले राहुल बताये कि वे बिहार के विकास के लिए वे क्या कर रहे: नीतीश...
नेताओं के निकम्मेपन के बीच शिबू परिवार की अंदरूनी कलह का विकृत नतीजा है झारखंड के ताजा सूरत
सीएम अर्जुन मुंडा के प्रेस कॉन्फ्रेस में हावी रहे झारखंड के चिरकुट पत्रकार
ऐसे होगा 21वीं शताब्दी के भारत का निर्माण !
बजट- 2020 में कई अंतर्विरोध, वित्तीय घाटा नियंत्रण बड़ी चुनौती, सरकार को दृष्टि दोष
मुझे माफ करना अन्ना,मैं इन दलालों पर शर्मिंदा हूं.....
बिहारियों के दर्द को समझिए सीएम साहब
एक तो करै़ल दूजे नीम चढ़ाय:होली कैसे मनाएँ?
झारखण्ड की बदहाली के लिये बिहारियो को दोषी मानते है शिबू सोरेन
रजरप्पा : मां के आंचल में महापाप का तांडव और मीडिया-3
सरकारी आकड़ों में जानिए अपना बिहार, परखिए यहां सुशासन-विकास का हाल
कानून के अन्धा होने के बात को प्रमाणित कर रहा है झारखंड मे पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराने की स...
प्रेस क्लब भवन कब्जाने के लिये हो रहा है फर्जी संस्था का अवैध चुनाव !
"ये है झारखण्ड नगरिया तू लूट बबुआ"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter