» बच सकती थी एम्स में आग से हुई तबाही, अगर…   » तीन तलाक और अनुच्छेद 370 के बाद एक चुनाव कराने की तैयारी   » बोले रक्षा मंत्री-  अब सिर्फ POK पर होगी बात   » अफसरों से बोले नितिन गडकरी- ‘काम करो नहीं तो लोगों से कहूंगा धुलाई करो’   » तीन तलाक को राष्ट्रपति की मंजूरी, 19 सितंबर से लागू, यह बना कानून!   » तीन तलाक कानून पर कुमार विश्वास का बड़ा रोचक ट्विट….   » मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » बिहार के विश्व प्रसिद्ध व्यवसायी सम्प्रदा सिंह का निधन   » पत्नी की कंप्लेन पर सस्पेंड से बौखलाया था हत्यारा पुलिस इंस्पेक्टर   » कर्नाटक में सरकार गिरना लोकतंत्र के इतिहास में काला अध्याय : मायावती  

झारखण्ड:कौन बनेगा सीएम?तीसरी बार अर्जून मुण्डा!

Share Button

तीसरी बार अर्जून मुण्डा! भारतीय जनता पार्टी ने झारखण्ड मे जिसे “स्टार” बना रखा है,वह है पूर्व मुख्यमंत्री व वर्तमान सांसद अर्जून मुंडा. प्रथम मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के बाद आपातस्थिति कहिये या आनन-फानन मे पार्टी के वरिष्ठ नेता कडिया मुंडा को एक बार फिर नजरन्दाज कर एक ऐसे नेता को पदभार दिया गया, जिसके पास न तो स्वतंत्र प्रशासनिक अनुभव था और न ही पार्टीगत जनाधार. श्री मुंडा की सबसे बडी काबलियत थी कि वे प्रदेश मे दूसरे नम्बर की पार्टी झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन की गोद से उछलकर अचानक आ गये थे.तब भाजपा को शायद यह लगा था कि वे अपने साथ झामुमो के युवाझुंड को साथ लाकर मजबूती प्रदान करेगे.लेकिन हुआ ठीक उलटा. आज तक वे पार्टी के लिये इस कदर मजबूरी बन गये है कि आसन्न विधानसभा चुनाव मे टिकट बंटबारे मे सिर्फ उन्ही की चली है.
आज आजादी के इतने वर्षो बाद भी वेहद बदहाल इस प्रदेश मे खरीद-फरोख्त और जोड-तोड की कूटनीति की शुरूआत करने का श्रेय अर्जून मुंडा को ही जाता है. निर्दलीय मधु कोडा मुख्यमंत्री बनककर लूटेरो की फौज खडी कर ली. उनके राज मे सबो ने खूब छक कर मधु पिया. दरअसल श्री कोडा ने लूटो,लूटवाओ और राज करो के गुर श्री मुंडा से ही सीखे थे. भाजपानीत प्रदेश सरकार मे वे पांच साल तक मुख्यमंत्री रहे. इस दौरान उन्होने राज्यहित मे कई गलत व विवादास्पद फैसले किये.उधोग के लिये उन्होने 52 एमओयू किया लेकिन, धरातल पर एक भी न दिखा. नतीजतन वे पार्टी के एक गुट के अगुआ बन कर रह गये है. इन्हे तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने मे दल के अन्दर ही प्रमुख दो प्रतिद्वन्दी प्रदेश अध्यक्ष रघुवर दास तथा पूर्व केन्द्रीय मंत्री व सांसद यशवंत सिन्हा के राजनीतिक प्रहार झेलने होगे.
Share Button

Related News:

"सुशासन बाबू" के सुशासन को मुहँ चिढ़ाता उनका घर-जिला नालंदा का ताजातरीन सूरत
हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!
अन्ना को लेकर पीएम का कड़ा रुख
विकास(राँची)-बरही(हजारीबाग) एन.एच.-३३ फोलेनिंग में भारी अनियामियता व गबन-घोटाले की आशंका
झारखंड मे धन-बल का खेल: भ्रष्टाचारी जीते, शोर मचाने वाले दिग्गज हारे
बोफ़ोर्स की तरह ही 'पीएम 2019' का खेल कहीं बिगाड़ न दे रफ़ाएल
झारखंड विधानसभा चुनाव:रांची जिला, मांडर क्षेत्र के उम्मीदवारो को मिले मत
धौनी के बाद सुबोध महतो बने झारखंड की शान, कभी साथ खेले धौनी मे इर्ष्या इतनी कि दो शब्द भी न बोले, ने...
ऐसे होगा 21वीं शताब्दी के भारत का निर्माण !
बिहारशरीफ में घुसा पंचाने नदी का पानी,नालंदा जिले में बाढ़ की स्थिति
पत्थर माफियाओं के तांडव के बीच “तेलकटवा” गिरोह का आतंक
......और तब ‘मिसाइल मैन’ 60 किमी का ट्रेन सफर कर पहुंचे थे हरनौत
कांग्रेस का अब “राम नाम सत्य” होगा:लालू
3 स्टेट पुलिस के यूं संघर्ष से फिरौती के 40 लाख संग धराये 5 अपहर्ता, अपहृत भी मुक्त
हॉट-स्टाइलिश दिखने है तो अपनाएं ये फैशन
तीन तलाक को राष्ट्रपति की मंजूरी, 19 सितंबर से लागू, यह बना कानून!
अर्जुन मुंडा जी, ई आपका मुख्य सचिव भू-माफ़ियाओं के साथ बड़ा "गेम" कर रहा है
नागफनी के कांटो से घिरे झारखंड के "गुरूजी"
दैनिक प्रभात खबर की यह कैसी पत्रकारिता
झारखण्ड:पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराना सिबू सरकार के लिये एक गंभीर चुनौती/आपस मे खुलकर टकरायेग...
कांग्रेस एक सर्कसः मणिशंकर अय्यर, कांग्रेस में शिखंडी जैसी हालतः जयराम रमेश
केन्द्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय बाल-बाल बचे : उनकी पिकनिक मे समर्थक ने शरीर मे आग लगाई
लोकसभा चुनाव नहीं लड़ सकेंगे हार्दिक पटेल
हाय री राजनीति! हाय री मीडिया!!

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» तीन तलाक और अनुच्छेद 370 के बाद एक चुनाव कराने की तैयारी   » मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’  
error: Content is protected ! india news reporter