झारखंड :चिरकुटों के हाथ में चौथा स्तंभ

Share Button
By Satya
Sharan Mishra

झारखंड में पत्रकारिता की साख काफी गिर चुकी है, महज एक दशक में यहां
मीडिया ने जिस तेजी से उत्थान किया उसी तेजी से इसका पतन भी हुआ, प्रिंट
मीडिया की स्थिति तो थोड़ी ठीक भी है अनुभवी लोगों के देखरेख में अखबार
निकल रहा है, लेकिन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में जो कुछ चल रहा है वो
पत्रकारिता में आने वाले नस्ल के लिए एक बुरा संदेश है. क्योंकि झारखंड का
इलेक्ट्रॉनिक मीडिया अब उन फर्जी पत्रकारों के हाथ की कठपुतली बन चुका है
जो कल तक निजी टीवी चैनलों की आईडी लिए एक अदद बाईट के लिए दर-दर भटकते
फिरते थे. बिल्डरों, नेताओं और अधिकारियों से हफ्ता-महिना वसूलने वाले ये
चिरकुट पत्रकार आज रिजनल चैनलों के मालिक बन बैठे हैं. जिन्हें समाचार
संकलन से ज्यादा ब्लैकमेलिंग का अनुभव है. नेताओं-बिल्डरों की ब्लैकमनी को
व्हाईट करने के लिए खुले झारखंड के कई रिजनल चैनलों के शटर डाउन हो चुके
हैं, लेकिन चैनल चलाने वाले तथाकथित सीईओ और एडिटरों नें अपनी जेबें भर ली.
साथ ही कई युवा पत्रकारों के भविष्य को अंधकार में छोड़ दिया, जिसमें से
कइयों नें तो कलम से दोस्ती तोड़ ही दी और कई पत्रकार आज भी बेरोजगार हैं,
और बाकि जो बचे जिनकी पत्रकारिता मजबूरी या जूनून थी उन्होंने महानगरों का
रुख कर लिया. दरअसल पत्रकारिता का जो ग्लैमर टीवी पर नजर आता है हकीकत में
इसका चेहरा कितनी वीभत्स है ये जनना हो तो झारखंड के किसी न्यूज चैनल में
काम करके देखिये, यहां आप देख पाएंगे कि कैसे अच्छे और अनुभवी पत्रकार हर
दिन चैनल मालिकों के निजी हितों के बली चढ़ते हैं. इन चैनलों में जॉब की
कोई सिक्युरिटी नहीं है, कब आपके हाथ बांध दिये जाएं या फिर कब बाहर का
रास्ता दिखा दिया जाए इस बात का डर हमेशा जेहन में रहता है. कई चैनलों के
प्रमुख ने तो दफ्तर को ही अय्याशी का अड्डा बना लिया, जिसकी खबर लगभग सभी
पत्रकार बंधुओं को है मगर कोई आवाज उठाना नहीं चाहता, शायद हम भी इसी
सिस्टम में ढ़ल चुके हैं और ऐसी छोटी-मोटी बातों को गंभीरता से लेना नहीं
चाहते. झारखंड में सिर्फ नये पत्रकारों का ही बुरा हाल नहीं है कई बुजुर्ग
पत्रकार भी शोषण और उपेक्षा की मार झेल रहे हैं, जिन्होने पत्रकारिता को
मिशन समझकर अखबारों और चैनलों को दशकों से अपनी सेवा दी वो आज भी वहीं खड़े
हैं जहां से उन्होने शुरुआत की थी. झारखंड के रिजनल चैनल एक एक ऐसा बाजार
हैं जहां थोक के भाव पत्रकारों की बहाली और विदाई होती है, कुल मिलाकर मैं
इसी निष्कर्ष पर पहुंचा हूं कि बेहतर काम करने वाले और सच्चे पत्रकारों के
लिए झारखंड की मीडिया में कोई जगह नहीं है. और अगर पत्रकारिता की यही
परिभाषा है तो शायद मै गलत हूं. लेकिन अगर मैं सही हूं तो हमें इस सिस्टम
को बदलने के लिए काफी संघर्ष करना होगा. पत्रकारिता को बचाना है तो एक नये
आंदोलन की शुरुआत करनी होगी.
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

बजट सत्र के बाद बदल जाएगा देश की उपरी सदन राज्यसभा का रंग
“अंकल माओवादी हमारे स्कूल क्यो उडाते है?”उग्रवादियो की हितैषी बनी “शिबूसरकार” को शर्म नही आती?
IAS की तर्ज पर AIJS परीक्षा की कवायद शुरु,  CJI के साथ होगी PM की मीटिंग
इस भाजपा सांसद ने दी ठोक डालने की धमकी, ऑडियो वायरल, पुलिस बनी पंगु
जामिया मिलिया इस्लामिया में नकली डिग्री के धंधे का भंडाफोड़,5 गिरफ्तार
...शिकारी होंगे खुद शिकार !  2007 की भूमिका में PK?
अब परचून की दुकानों में शराब बेचेगी भाजपा सरकार
बलिया-सियालदह ट्रेन से भारी मात्रा में नर कंकाल समेत अंतर्राष्ट्रीय तस्कर धराया
महाराष्ट्रः बनी NCP-BJP की सरकार, फडणवीस CM तो DCM बने पवार
कौन है रांची के इस चैनल का मालिक! कौन चला रहा है इसे!
कश्मीर का आखिरी सुल्तान, जिसे बिहार के नालंदा में यहां क़ब्र मिली
बिहारः यहां माता सीता ने की थी प्रथम छठ व्रत, मंदिर में मौजूद आज भी उनके चरण !
सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने की प्रेस कांफ्रेंस, कहा- खतरे में है लोकतंत्र
मामला 365दिन चैनल के प्रमुख के अमर्यादित वयान का
कूटनीतिः ‘पैगाम-ए-खीर’ के निशाने पर कमल-तीर
राहुल गांधी लापता !! अखबार में छपा विज्ञापन
सुबोधकांत ने खेली मुख्यमंत्री बनने की दांव!
भागलपुर मे राहुल गान्धी का विरोध: सर्वत्र अफरातफरी का महौल,मुस्लिम यूनाईटेड फ्रंट ने विरोध मे व्यापक...
अब बिरसा नगर कहलाएगा 'पाकिस्तान'
भारतीय संस्कृति का मूल आधार है गाय
शपथ ग्रहण से पहले किसान कर्जमाफी की तैयारी शुरू
निर्भया गैंगरेप के दोषियों की फांसी पर अगले आदेश तक रोक
बड़ा रेल हादसाः रावण मेला में घुसी ट्रेन, 100 से उपर की मौत
सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार पेसा कानून के तहत यदि झारखंड मे चुनाव हुआ तो आदिवासियो और सदानो के बीच स...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter