» मीडिया की ABCD का ज्ञान नहीं और चले हैं पत्रकार संगठन चलाने   » ‘सीएम नीतीश का माफिया कनेक्शन किया उजागर, अब पूर्व IPS को जान का खतरा’   » नीतिश के बिहार एनडीए के चेहरे होने पर भाजपा में ‘रार’   » आधार कार्ड का सॉफ्टवेयर हुआ हैक, कोई भी बदल सकता है आपका डिटेल   » न्यू एंंटी करप्शन लॉ के तहत अब सेक्स डिमांड होगी रिश्वत   » इस तरह तैयार की जाती है बढ़ते मांग के बीच सेक्स डॉल्स   » 3 स्टेट पुलिस के यूं संघर्ष से फिरौती के 40 लाख संग धराये 5 अपहर्ता, अपहृत भी मुक्त   » राहुल की छड़ी ढूंढने के चक्कर में फिर फंसे गिरि’सोच’राज, यूं हुए ट्रोल   » राहुल गांधी का सचित्र ट्वीट- ‘मानसरोवर के पानी में नहीं है नफरत’   » पटना साहिब सीटः एक अनार सौ बीमार, लेकिन…  

झारखंड :चिरकुटों के हाथ में चौथा स्तंभ

Share Button
By Satya
Sharan Mishra

झारखंड में पत्रकारिता की साख काफी गिर चुकी है, महज एक दशक में यहां
मीडिया ने जिस तेजी से उत्थान किया उसी तेजी से इसका पतन भी हुआ, प्रिंट
मीडिया की स्थिति तो थोड़ी ठीक भी है अनुभवी लोगों के देखरेख में अखबार
निकल रहा है, लेकिन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में जो कुछ चल रहा है वो
पत्रकारिता में आने वाले नस्ल के लिए एक बुरा संदेश है. क्योंकि झारखंड का
इलेक्ट्रॉनिक मीडिया अब उन फर्जी पत्रकारों के हाथ की कठपुतली बन चुका है
जो कल तक निजी टीवी चैनलों की आईडी लिए एक अदद बाईट के लिए दर-दर भटकते
फिरते थे. बिल्डरों, नेताओं और अधिकारियों से हफ्ता-महिना वसूलने वाले ये
चिरकुट पत्रकार आज रिजनल चैनलों के मालिक बन बैठे हैं. जिन्हें समाचार
संकलन से ज्यादा ब्लैकमेलिंग का अनुभव है. नेताओं-बिल्डरों की ब्लैकमनी को
व्हाईट करने के लिए खुले झारखंड के कई रिजनल चैनलों के शटर डाउन हो चुके
हैं, लेकिन चैनल चलाने वाले तथाकथित सीईओ और एडिटरों नें अपनी जेबें भर ली.
साथ ही कई युवा पत्रकारों के भविष्य को अंधकार में छोड़ दिया, जिसमें से
कइयों नें तो कलम से दोस्ती तोड़ ही दी और कई पत्रकार आज भी बेरोजगार हैं,
और बाकि जो बचे जिनकी पत्रकारिता मजबूरी या जूनून थी उन्होंने महानगरों का
रुख कर लिया. दरअसल पत्रकारिता का जो ग्लैमर टीवी पर नजर आता है हकीकत में
इसका चेहरा कितनी वीभत्स है ये जनना हो तो झारखंड के किसी न्यूज चैनल में
काम करके देखिये, यहां आप देख पाएंगे कि कैसे अच्छे और अनुभवी पत्रकार हर
दिन चैनल मालिकों के निजी हितों के बली चढ़ते हैं. इन चैनलों में जॉब की
कोई सिक्युरिटी नहीं है, कब आपके हाथ बांध दिये जाएं या फिर कब बाहर का
रास्ता दिखा दिया जाए इस बात का डर हमेशा जेहन में रहता है. कई चैनलों के
प्रमुख ने तो दफ्तर को ही अय्याशी का अड्डा बना लिया, जिसकी खबर लगभग सभी
पत्रकार बंधुओं को है मगर कोई आवाज उठाना नहीं चाहता, शायद हम भी इसी
सिस्टम में ढ़ल चुके हैं और ऐसी छोटी-मोटी बातों को गंभीरता से लेना नहीं
चाहते. झारखंड में सिर्फ नये पत्रकारों का ही बुरा हाल नहीं है कई बुजुर्ग
पत्रकार भी शोषण और उपेक्षा की मार झेल रहे हैं, जिन्होने पत्रकारिता को
मिशन समझकर अखबारों और चैनलों को दशकों से अपनी सेवा दी वो आज भी वहीं खड़े
हैं जहां से उन्होने शुरुआत की थी. झारखंड के रिजनल चैनल एक एक ऐसा बाजार
हैं जहां थोक के भाव पत्रकारों की बहाली और विदाई होती है, कुल मिलाकर मैं
इसी निष्कर्ष पर पहुंचा हूं कि बेहतर काम करने वाले और सच्चे पत्रकारों के
लिए झारखंड की मीडिया में कोई जगह नहीं है. और अगर पत्रकारिता की यही
परिभाषा है तो शायद मै गलत हूं. लेकिन अगर मैं सही हूं तो हमें इस सिस्टम
को बदलने के लिए काफी संघर्ष करना होगा. पत्रकारिता को बचाना है तो एक नये
आंदोलन की शुरुआत करनी होगी.

Related Post

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

» पटना साहिब सीटः एक अनार सौ बीमार, लेकिन…   » राम भरोसे चल रहा है झारखंड का बदहाल रिनपास   » नोटबंदी फेल, मोदी का हर दावा निकला झूठ का पुलिंदा   » फालुन गोंग का चीन में हो रहा यूं अमानवीय दमन   » सड़ गई है हमारी जाति व्यवस्था   » भारतीय लोकतांत्रिक इतिहास का काला पन्ना आपातकाल   » भारत दर्शन का केंद्र है राजगीर मलमास मेला   » ‘संपूर्ण क्रांति’ के 44 सालः ख्वाहिशें अधूरी, फिर पैदा होंगे जेपी?   » चार साल में मोदी चले सिर्फ ढाई कोस   » सवाल न्यायपालिका की स्वायत्तता का  
error: Content is protected ! india news reporter