सावधान !! सुअर की चर्बी खा रहे हैं हम और हमारे बच्चें

Share Button

“Laysचिप्स के पैकेट में दरअसल सूअर की चर्बी है
इस बात को लेकर कुछ अरसे पहले पाकिस्तान में काफी हंगामा हुआ था,जिस पर ढेरों आरोप और सफाइयां दस्तावेजों सहित मौजूद हैं। हैरत की बात यह दिखी कि इस पदार्थ को कई देशों में प्रतिबंधित किया गया है किन्तु अपने देश में धड़ल्ले से उपयोग हो रहा।
मूल तौर पर यह पदार्थ सूअर और मछली की चर्बी से प्राप्त होता है और ज्यादातर नूडल्स, चिप्स में स्वाद बढाने के लिए किया जाता है। रसायन शास्त्र में इसे Disodium Inosinate कहा जाता है जिसका सूत्र है C10H11N4Na2O8P1
होता यह है कि अधिकतर (ठंडे) पश्चिमी देशों में सूअर का मांस बहुत पसंद किया जाता है। वहाँ तो बाकायदा इसके लिए हजारों की तादाद में सूअर फार्म हैं। सूअर ही ऐसा प्राणी है जिसमे सभी जानवरों से अधिक चर्बी होती है। दिक्कत यह है कि चर्बी से बचते हैं लोग। तो फिर इस बेकार चर्बी का क्या किया जाए? पहले तो इसे जला दिया जाता था लेकिन फिर दिमाग दौड़ा कर इसका उपयोग साबुन वगैरह में किया गया और यह हिट रहा। फिर तो इसका व्यापारिक जाल बन गया और तरह तरह के उपयोग होने लगे। नाम दिया गया ‘पिग फैट’
1857 का वर्ष तो याद होगा आपको? उस समयकाल में बंदूकों की गोलियां पश्चिमी देशों से भारतीय उपमहाद्वीप में समुद्री राह से भेजी जाती थीं और उस महीनों लम्बे सफ़र में समुद्री आबोहवा से गोलियां खराब हो जाती थीं। तब उन पर सूअर चर्बी की परत चढ़ा कर भेजा जाने लगा। लेकिन गोलियां भरने के पहले उस परत को दांतों से काट कर अलग किया जाना होता था। यह तथ्य सामने आते ही जो क्रोध फैला उसकी परिणिति 1857 की क्रांति में हुई बताई जाती है।
इससे परेशान हो अब इसे नाम दिया गया ‘ऐनिमल फैट’ ! मुस्लिम देशों में इसे गाय या भेड़ की चर्बी कह प्रचारित किया गया लेकिन इसके हलाल न होने से असंतोष थमा नहीं और इसे प्रतिबंधित कर दिया गया। बहुराष्ट्रीय कंपनियों की नींद उड़ गई। आखिर उनका 75 प्रतिशत कमाई मारी जा रही थी इन बातों से। हार कर एक राह निकाली गई। अब गुप्त संकेतो वाली भाषा का उपयोग करने की सोची गई जिसे केवल संबंधित विभाग ही जानें कि यह क्या है! आम उपभोक्ता अनजान रह सब हजम करता रहे। तब जनम हुआ E कोड का।
तब से यह E631 पदार्थ कई चीजों में उपयोग किया जाने लगा जिसमे मुख्य हैं टूथपेस्ट, शेविंग क्रीम, च्युंग गम, चॉकलेट, मिठाई, बिस्कुट, कोर्न फ्लैक्स, टॉफी, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ आदि। सूची में और भी नाम हो सकते हैं। हाँ, कुछ मल्टी-विटामिन की गोलियों में भी यह पदार्थ होता है। शिशुयों, किशोरों सहित अस्थमा और गठिया के रोगियों को इस E631 पदार्थ मिश्रित सामग्री को उपयोग नहीं करने की सलाह है लेकिन कम्पनियाँ कहती हैं कि इसकी कम मात्रा होने से कुछ नहीं होता।
अब बताया तो यही जा रहा है कि जहां भी किसी पदार्थ पर लिखा दिखे
E100, E110, E120, E 140, E141, E153, E210, E213, E214, E216, E234, E252,E270, E280, E325, E326, E327, E334, E335, E336, E337, E422, E430, E431, E432, E433, E434, E435, E436, E440, E470, E471, E472, E473, E474, E475,E476, E477, E478, E481, E482, E483, E491, E492, E493, E494, E495, E542,E570, E572, E631, E635, E904
समझ लीजिए कि उसमे सूअर की चर्बी है। (साभार)
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

अन्ना हजारे की मांगे सही नहीं हैः अरूंधती रॉय
कांग्रेस ने मुझे फिल्मी "डॉन" बना दिया: मधु कोडा
"ये है झारखण्ड नगरिया तू लूट बबुआ"
प्रियंका के इंकार के बाद रिंग में दस्ताने पहन यूं अकेले रह गए मोदी
अर्जुन मुंडा का आत्मघाती खेल
रांची का कशिश न्यूज चैनल बना ऐय्याशी का अड्डा, न्यूज हेड गंगेश गुंजन की जय हो!
कम से कम कॉल तो कर लो पत्रकारिता के निकम्मों !!
मढ़वा के दिन प्रेमी संग फरार प्रेमिका ने ग्राम कचहरी में रचाई शादी !
आख़िर भारतीय फिल्म ‘नगीना’ की मौत हुई कैसे?
जयरामपेशों का अड्डा बना आयडा पार्क
बाबा रामदेव ने हरिद्वार में खाई भ्रष्टाचार के खात्मे को गंगा की कसम
मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः सजा पर फैसला सुरक्षित, अब 11 फरवरी को सजा का ऐलान
पुलिस तंत्र के खौफ की कहानी है ‘द ब्लड स्ट्रीट’
हाय रे राजनीति! हाय रे अखबार!!
 ‘ओछी टिप्पणियां’ कर रहे हैं केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटलीः यशवंत सिन्हा
झारखण्ड उग्रवाद का दूसरा कुख्यात नाम
पटना साहिब सीटः एक अनार सौ बीमार, लेकिन...
यूं गेंहू काटने वाली 'बंसती' को जिताने 'वीरू' पहुंचे मथुरा, बोले- मैं  किसान हूं
मीडिया : आखिर सोच-सोच में फर्क क्यों है ?
झारखंड विधानसभा चुनाव:रांची जिला, रांची क्षेत्र के उम्मीदवारो को मिले मत
वाह रे दैनिक हिन्दुस्तान ! भीड़ को गाली....खुद को ताली !!
महाराष्ट्र: शिवसेना के नेतृत्व में यूं सरकार बननी तय
‘सीएम नीतीश का माफिया कनेक्शन किया उजागर, अब पूर्व IPS को जान का खतरा’
अन्ना अनशन करें या तोड़ें उनकी समस्या है, सरकार नहीं झुकेगीः प्रणव मुखर्जी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter