अनशन में अन्ना पीते हैं विटामिन मिला पानीः जी. आर. खैरनार

Share Button

इन दिनों जारी आंदोलन को आज भले ही मीडिया द्वारा ऐतिहासिक क्रांति कह कर पुकारा जा रहा हो, लेकिन मेरे खयाल से इसके नेता अन्ना हजारे की तुलना जयप्रकाश नारायण या महात्मा गांधी से करना कतई ठीक नहीं होगा। उनदोनों नेताओं और अन्ना हजारे में आसमान और जमीन का अंतर है। जब मैं मुंबई में शरद पवार सरकार के दौरान भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम छेड़े था तब कुछ लोगों ने मुझे उनसे मिलने की सलाह दी।

मैं अन्ना से मुलाक़ात करने के लिए उनके गांव रेलेगन सिद्धी गया था। लेकिन इस यात्रा ने मेरी आंखों पर से पर्दा उठा दिया। वहां पहुंच कर मैंने पाया कि मीडिया ने अन्ना की जो तस्वीर बना रखी है वे हकीक़त में उससे बिल्कुल ही अलग शख्सियत थे। उन्होंने किसी तरह तीन सरकारी गाड़ियां अपने निजी इस्तेमाल के लिए रखवा ली थीं। इसके अलावा सरकारी प्रोजेक्ट में लगे कई कर्मचारी भी उनके निजी कार्यों में जुटे हुए थे। मुझे यह देखकर बड़ा झटका लगा कि जो शख्स भ्रष्टाचार के खिलाफ इतनी बड़ी लड़ाई लड़ने का दावा कर रहा है वह खुद इसके बारे में कुछ जानता ही नहीं।
मेरा मानना है कि अन्ना ने यह सब कुछ भोलेपन में किया होगा। अन्ना ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं हैं। उन्होंने कोई सातवीं-आठवीं तक की ही पढ़ाई की है, इसीलिए उनकी बौद्धिक क्षमता अधिक नहीं है। वो अक्सर अनशन पर चले जाते हैं। कभी चार-पांच दिन, कभी सात दिन। उन्होंने मुझसे एक बार कहा कि वो पास के गांव में अनशन करना चाहते हैं। उन्होंने मुझसे कहा कि आपको सिर्फ मामले का प्रचार करने की जरूरत है, फिर ये सरकारी अधिकारी उनके आगे-पीछे दौड़ेगे। लेकिन जब मुझे पता चला कि वो अनशन के दौरान जो पानी पीते हैं उसमें विटामिन मिला होता है, तो मुझे आघात लगा। मैं उनसे अलग हो गया।
मेरा मानना है कि कोई सफेद कपड़े पहन लेने भर से गांधी नहीं बन जाता। आपको उनके सिद्धांतों पर भी चलने की जरूरत है। बहरहाल, मैं इस आंदोलन के समर्थन में हूं क्योंकि यह देश की भलाई के लिए हो रहा है।
(डिमोलिशन मैन’ के नाम से मशहूर रहे जी आर खैरनार मुंबई नगर महापालिका के कमिश्नर रह चुके हैं और भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई में उन्हें एक प्रतीक के तौर पर जाना जाता है। वे तब चर्चा में आए थे जब उन्होंने मुंबई में कई नामी हस्तियों की बिल्डिंगों से अवैध कंस्ट्रंक्शन हटवाया था। उनकी आपबीती कई पत्रों में प्रकाशित  है)
(www.mediadarbar.com से साभार)
0 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise
Share Button

Related News:

टीम अन्ना की ईमानदारी का गज़ब खुलासा !
भारत बंद:  समूचे देश में हुआ सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में हिंसक प्रदर्शन
भारत का विश्वास या अंधविश्वास? राफेल के पहियों के आगे रखवाई नींबू!
झारखंड में चल रहा है हाई वोल्टेज सियासी ड्रामा
"सिर्फ़ सनसनी फैलाकर झारखण्ड में आगे बढना चाहती है "दैनिक जागरण" !!"
राम रहीम उर्फ कैदी नंबर1997 को दफा 376, 511, 501 के तहत 10 साल की सजा
बोले रक्षा मंत्री-  अब सिर्फ POK पर होगी बात
बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि विवादः इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका मंजूर
एक तो करै़ल दूजे नीम चढ़ाय:होली कैसे मनाएँ?
केन्द्रीय मंत्री जयराम ने स्वागत माला से जूतें पोंछे, किया खादी का अपमान
"भारतीय कानून के तहत"
भ्रष्टाचारी जीते, भ्रष्टाचार का शोर मचाने वाले सारे दिग्गज हारे
'शत्रु'हन की 36 साल की भाजपाई पारी खत्म, अब कांग्रेस से बोलेंगे खामोश
वीडिय़ोः MP  ने मंत्री-पुलिस के सामने MLA को जूतों से यूं जमकर पीटा
मुखबिर और ठग है दैनिक भास्कर का पत्रकार सुबोध मिश्रा !
सिल्ली MLA अमित कुमार ने केन्द्रीय मंत्री से मुलाकात कर रखी ये समस्याएं
जामिया मिलिया इस्लामिया में नकली डिग्री के धंधे का भंडाफोड़,5 गिरफ्तार
नागफनी के कांटो से घिरे झारखंड के मुख्यमंत्री: देखना है कि क्या कर पाते है?
टीम अन्‍ना -सरकार की लड़ाई अंतिम दौर में, गृह सचिव पहुंचे रामलीला मैदान
नालन्दा:शैक्षणिक चेतना का प्रमुख पर्यटन स्थल
मंत्री पद से हटाये जा सकते है सुबोधकांत सहाय
बिहार की ये तिकड़ी संभालेगें इन राज्यों की कमान, शिक्षा माफियाओं के दवाब में हटाए गए मल्लिक?
राफेल डील पर हाइड एंड सीक का खेल क्यों खेल रही मोदी सरकार : CJI
हरनौत रेल कारखाना का निर्माण अंतिम चरण में

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter