हरनौत रेल कारखाना का निर्माण अंतिम चरण में

Share Button
दिलीप कुमार गुप्ता



बिहारशरीफः हरनौत रेल कारखाना का निर्माण अंतिम चरण में है। वहां व्हिल टर्निग का ट्रायल शुरू हो चुका है और बोगी का ट्रायल तीन माह में प्रारंभ हो जाएगा। ट्रायल के लिए पूर्व मध्य रेलवे ने वहां करीब दो दजर्न बोगियां भेजी है. 

रेलकर्मियों को कारखाना के संचालन की तकनीक का विशेष प्रशिक्षण पश्चिम बंगाल के लिलुआ (कोलकाता) के निकट चल रहा है। कर्मियों की एक टीम प्रशिक्षण पाकर वापस भी आ चुकी है। इस समय पूर्व मध्य रेलवे के पास तकरीबन 3000 बोगियां हैं और इनमें से 15 फीसदी से अधिक को हर वर्ष मेन्टेनेंस की जरूरत पड़ती है। इन्हें जरूरत के हिसाब से मेन्टेनेंस के लिए पश्चिम बंगाल के लिलुआ और उत्तर प्रदेश के गोरखपुर भेजा जाता है। हालांकि पैसेन्जर ट्रेनों की बोगियों का मेन्टेनेंस डिविजन में ही हो जाता है। मेल-एक्सप्रेस बोगियों को राज्य से बाहर भेजना पड़ता है।
    137 एकड़ में निर्मित बिहार के इस पहले कोच मेन्टेनेंस फैक्ट्री का शिलान्यास तत्कालीन रेलमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर तत्कालीन राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ने 30 जून 2003 को किया था। हालांकि इसके निर्माण की गति बेहद धीमी रही। हरनौत वर्कशाप पूरी तरह कम्प्यूटराइज्ड होगा और यहां विश्व की अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल होगा। सिर्फ वर्कशाप पर ही पांच करोड़ रुपए से अधिक की धनराशि खर्च हो रही है। 
रेल डिब्बों का मेन्टेनेंस दो स्तरों पर:
पहला: नौ माह पर
दूसरा:18 माह पर
क्या होगा:
हर साल 600 डिब्बों का मेन्टेनेंस
कोचों का बॉडी, व्हिल, बोगी वर्कशाप
इस समय मेन्टेनेंस होता है:
लिलुआ (कोलकाता, प. बंगाल) में
दानापुर, मुगलराय व धनबाद रेल मंडल के डिब्बों का
गोरखपुर (यूपी) में
सोनपुर व समस्तीपुर मंडल के डिब्बों का
हरनौत रेल कारखाना की खास बातें-
वर्ष 2003 में शिलान्यास
2006 में बनकर होना था तैयार
निर्धारित समय से पांच वर्ष पीछे
98 करोड़ का प्रारंभिक बजट
225 करोड़ रुपए का वर्तमान बजट
300 करोड़ रुपए से अधिक खर्च का अनुमान
137 एकड़ में होगी फैक्ट्री
33 एकड़ में स्टाफ क्वार्टर
इसमें होंगे लगभग 600 स्टाफ 
लगभग 10 हजार अप्रत्यक्ष रोजगार

 “फैक्ट्री निर्माण की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। शीघ्र ही इसका ट्रायल शुरू होगा। इसके बन जाने से पूर्व मध्य रेलवे को बड़ी सुविधा होगी”   -ए.के. चन्द्रा, चीफ इंजीनियर (यांत्रिक), पूर्व मध्य रेलवे

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

...और खून से लथपथ इंदिरा जी का सिर अपनी गोद में रख सोनिया चल पड़ी अस्पताल
अंधेर नगरी चौपट राजा यानि नक्सली मुख्यमंत्री शिबू सोरेन
न.1अखबार का 2नंबरिया संवाददाता
भारत 19 साल बाद बना सुरक्षा परिषद का अध्‍यक्ष
बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने की य़ाचिका खारिज
अपनी नाकामियो का ठिकरा बिहारियो पर अभी से फोडने लगे शिबू सोरेन
नीतिश-राज:सुशासन की पोल खोलती कायम घोर कुशासन
झारखंड: स्वंय सेवी संस्थाओं हेतु महज कमाई का जरिया बनी राजीव गांधी उद्यमी मित्र योजना
अन्ना को अब भ्रष्ट केन्द्र सरकार की बलि चाहिए
ईटीवी उर्दू के पत्रकार की दिनदहाड़े गोली मार कर दिल्ली में हत्या
दिल्ली एग्जिट पोल: फिर ‘आप’ की मजबूत सरकार
BSNL देगी यूजर्स को फ्री 1जीबी डेटा
स्व. राजीव गांधी फेसबुक पर !!
बिहारः तांत्रिक के बहकावे में चाचा ने सगे भतीजा की दी बलि
लंदन दंगे में बाल-बाल बचे टीम इंडिया के प्रवीण,ईशांत,विराट और प्रज्ञान
कब तक चलेगी झारखंड मे गुरूजी की सरकार? मंत्रिमंडल गठन के बाद पार्टी मे भूचाल तो आवंटित विभाग के बाद ...
अनशन में अन्ना पीते हैं विटामिन मिला पानीः जी. आर. खैरनार
उग्र आंदोलन की ओर बढ़ रहे हैं विकास(राँची) से ओरमाँझी के बीच एन.एच.-33 के विस्थापित
प्रभात खबर को हाथ में लेकर पहले अपनी अंतरात्मा टटोलिये हरबंश जी.
डरावना सच : पॉर्न साइटों पर ट्रेंड होती गैंगरेप पीड़िता, खुद के बच्चों को भी सभांलिए
पेड पर पाँच बार चढने-उतरने बाले को मिलेगी सरकारी नौकरी:शिबू सोरेन
पूंजीवाद के साइड इफेक्ट और अंगार पर खड़ी दुनिया
प्रतिभा से सीखो और आगे बढो
प्रशांत के हमले को लेकर कितने मजबूत हैं नीतीश?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter