टीम अन्ना आंदोलन को लेकर बुखारी ने अलापा सांप्रदायिकता राग

Share Button
अन्ना आंदोलन के समर्थन को लेकर जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने कहा है कि चूंकि इस आंदोलन में वंदे मातरम और भारत माता की जय के नारे लगाए जा रहे हैं, इसलिए मुसलमानों को इस आंदोलन से दूर रहना चाहिए। शाही इमाम का कहना है कि आज देश में भ्रष्टाचार से ज्यादा खतरनाक सांप्रदायिकता है, क्योंकि देश में जहां भी दंगे होते हैं, वहां हर कौम के लोग मारे जाते हैं। मैंने अन्ना टीम की सदस्य से कहा कि वे अपने आंदोलन में सांप्रदायिकता को भी शामिल करें और इसके खिलाफ कड़ा कानून बनाने की मांग करें।
शाही इमाम की आपत्ति आंदोलन में लगने वाले नारों को लेकर भी है। देश का मुसलमान वतन के लिए कुर्बान हो सकता है , लेकिन मजहब के उसूलों के खिलाफ लगाए जा रहे नारों वाले आंदोलन में शामिल नहीं हो सकता। उन्होंने यह भी सवाल किया कि अन्ना की कोर टीम में कोई मुस्लिम चेहरा क्यों नहीं है। इस आंदोलन से जुड़े लोगों ने देश के अल्पसंख्यक समुदाय को साथ लेने की कोशिश नहीं की है। उन्होंने यह भी कहा कि अन्ना टीम की ओर से कुछ सवालों का जवाब भी जरूरी है। अन्ना को गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ में दिए गए बयान पर भी सफाई देनी चाहिए। शाही इमाम ने यह भी कहा कि अभी भी काफी संख्या में मुसलमान इस आंदोलन के साथ नहीं है और हम जानते हैं कि इस आंदोलन को पीछे से कौन सपोर्ट कर रहा है
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

जेएनयू में बोले नोबेल विजेता अभिजीत- ‘क्लास फेलो थी वित्त मंत्री सीतारमण’
''ये है झारखण्ड नगरिया तू लूट बबुआ''
सुप्रीम कोर्ट के द्वारा 78% आबादी के विरूद्ध दिये गये फैसले का क्या है औचित्य ?
अब झारखण्ड मे कांग्रेस का नया खेल सुरू
मेरे वतन के लोगों...गीत सुनते ही राजघाट पर रो पड़े अन्ना
Jio धमाका ऑफर, ग्राहकों को FREE में मिलेगा 120जीबी डेटा
'इ जनता बा मोदी जी! दौड़ा-दौड़ा के सवाल पूछी'
नीतीश के साथ पटना में "आरक्षण" देखेंगे अमिताभ
एक करोड मे एस.पी. और 20 लाख मे डी.सी. का पद निलाम होता है झारखंड मे!
राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के सामने राष्ट्रभाषा का अपमान किया राँची विश्वविद्यालय ने
झारखंड :चिरकुटों के हाथ में चौथा स्तंभ
केन्द्र सरकार के साथ चल रहा है देवासुर संग्रामः बाबा रामदेव
एसिड अटैक केस में ऐसे एनकाउंटर कर चुके हैं पुलिस कमिश्नर सीपी सज्जनार
"भारतीय कानून के तहत"
क्या राज्य सरकारें अपने सूबे में सीबीआई को बैन कर सकती हैं?
आख़िर भारतीय फिल्म ‘नगीना’ की मौत हुई कैसे?
सोनिया-राहुल की चुनावीसभा के बाद
पूर्व मंत्री की बेटी के रेप के आरोपी निखिल IAS बाप के साथ उतराखंड में धराया
चीनी सहयोग से छोड़ा गया पाकिस्तानी उपग्रह
“अंकल माओवादी हमारे स्कूल क्यो उडाते है?” नक्सलियो के लिये शर्म है गांव के इन स्कूली बच्चो की चीख
आशाराम बापू : कानून से उपर का संत या अपराधी?
पत्थर माफियाओं के तांडव के बीच “तेलकटवा” गिरोह का आतंक
राहुल गाँधी : देश का "युवराज" और वंशवाद के "विरोधी" कैसे?
बिहारशरीफ में घुसा पंचाने नदी का पानी,नालंदा जिले में बाढ़ की स्थिति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter