» …तो नया मोर्चा बनाएँगे NDA के बागी ‘कुशवाहा ‘   » पुलिस सुरक्षा बीच भरी सभा में युवक ने केंद्रीय मंत्री को यूं जड़ दिया थप्पड़   » SC का बड़ा फैसलाः फोन ट्रैकिंग-टैपिंग-सर्विलांस की जानकारी लेना है मौलिक अधिकार   » जयरामपेशों का अड्डा बना आयडा पार्क   » चारा घोटा की नींव रखने वाले को पर्याप्त सबूत होते भी सीबीआई ने क्यों बख्शा!   » बलिया-सियालदह ट्रेन से भारी मात्रा में नर कंकाल समेत अंतर्राष्ट्रीय तस्कर धराया   » लेकिन, प्राईवेट स्कूलों की जारी रहेगी मनमानी, बोझ ढोते रहेंगे मासूम   » ईको टूरिज्म स्पॉट बनकर उभरेगा घोड़ा कटोरा :सीएम नीतीश   » कानून बनाओ या अध्यादेश लाओ, राममंदिर जल्द बनाओ : उद्धव ठाकरे   » 26 को प्रभातफेरी निकाल बच्चें चमकाएंगे यूं सरकार का चेहरा  

ये न्यूज़ चैनल नहीं, अभिशाप है

Share Button

आज कल मीडिया में बातें बड़ी-बड़ी होती है. इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का तो कोई सानी नहीं है. सबसे बड़ी शर्मनाक स्थिति न्यूज़ चैनलों की है. रांची-पटना से लेकर देश के छोटे-मोटे हर शहरों में कुकुरमुत्ते की तरह उगे इन चैनलों से आखिर दिखाया क्या जा रहा है..निकम्मे नेताओं-अफसओं की सूरत या नामी-गिरामी चैनलों से चुराकर अश्लीलता..क्या कोई दर्शक गालियां सुनकर गुदगुदा सकता है…कॉमेडी कटिंग के नाम पर समाचारों के बीच सार्वजनिक तौर प्रबंधित शब्दों के बौछार को किस श्रेणी में रखने के काबिल है..किसी भी दर्शक-श्रोता परिवार के बच्चे भी आसानी से निर्धारित कर सकता है…चीख-चीख कर अपराधिक गतिविधियों को अइसे परोसना…जैसे अपराध और अपराधी की व्याख्या के साथ सज़ा देने का अधिकार न्यायालय को नहीं…बल्कि गटर छाप न्यूज़ चैनलों की बपौती है.
एक विश्व स्तरीय वेबसाइट,जो भारतीय मीडिया के कार्यक्रमों का गहन सर्वेक्षण किया है. इस वेबसाइट ने क्षेत्रीय न्यूज़ चैनलों के बारे में जो आकड़े प्रस्तुत किए हैं…वे काफी शर्मशार करने वाले हैं….देश में 90 फीसदी चैनल नकारात्मक समाचारों को मिर्च-मसाले लगाकर परोसते रहते हैं..सकारात्मक खबरों को वे या तो पचा जाते हैं….या अइसे विचार धारी पत्रकारों को दूध की मक्खी समझते हैं.
सर्वेक्षण के अनुसार 82.076 फीसदी अइसे खबरिया चैनल हैं…जिनका सिर्फ लिबास खबरिया है…… असलियत में वे ओछी मनोरंजन के सहारे बाजार में धौंस जमाते हैं…और प्रेस की आड़ में चैनलकर्मी अपनी रोजी-रोटी कमाते हैं…वहीं चैनल मालिक अपनी काली कमाई पर सफेदी पोतते हैं,
यदि हम बिहार-झारखंड में खबरिया चैनलों का आंकलन करें तो एक-दो को छोड़…शायद ही कोई चैनल क्षुद्र नौटंकी कंपनी नजर न आए..क्या आप चाहते हैं कि टीवी पत्रकारिता…जिसके भी कुछ आदर्श मापदंड होते हैं…उसकी छतरी में बैठ असमाजिक तत्वों को हुजूम नंगई करते रहे….अगर नहीं तो फिर सोचिए..जागिए…और अइसे चैनलों को देखना-सुनना छोड़िए..क्योंकि ये आपको भ्रमित ही नही कर रहे..बल्कि आपके घर-परिवार में जो मासूम भविष्य खिल रहे हैं..उसके विचारों को दूषित कर रहे हैं…… यदि आप नही माने तो आने वाले दिनों में इसके दंश आपको ही झेलने होंगे…समूचे समाज को झेलने होंगे…

Related Post

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
» जयरामपेशों का अड्डा बना आयडा पार्क   » …और खून से लथपथ इंदिरा जी का सिर अपनी गोद में रख सोनिया चल पड़ी अस्पताल   » ‘लालू के खिलाफ आपस में मिले थे सुशील मोदी, नीतीश कुमार, राकेश अस्थाना और पीएमओ’   » धर्मांतरण, घर वापसी और धर्मयुद्ध   » जयंती  विशेषः एक सच्चा पत्रकार, जो दंगा रोकते-रोकते हुए शहीद   » ‘लोकनायक’ के अधूरे चेले ‘लालू-नीतीश-सुशील-पासवान’   » जो उद्योग तम्बाकू महामारी के लिए जिम्मेदार हो, उसकी जन स्वास्थ्य में कैसे भागीदारी?   » इस बार उखड़ सकते हैं नालंदा से नीतीश के पांव!   » जानिये मीडिया के सामने हुए अलीगढ़ पुलिस एनकाउंटर का भयानक सच   » कौन है संगीन हथियारों के साये में इतनी ऊंची रसूख वाला यह ‘पिस्तौल बाबा’  
error: Content is protected ! india news reporter