भारत के खिलाफ एक आग है पाकिस्तानी विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार

Share Button
पाकिस्तान की युवा और पहली महिला विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार जितनी खूबसूरत हैं उतनी ही चालाक भी। हिना ने भारत आने से पहले अलगाववादी नेताओं से मुलाकात कर अपनी मंशा का इजहार कर दिया। हालांकि हिना रब्बानी की जितनी उम्र है उससे ज्यादा समय से तो भारत के विदेश मंत्री एसएम कृष्णा सियासी अनुभव रखते हैं।
खूब सीख पढ़कर आई हैं
‌पाक के नेता भारत आने के बाद भारतीय नेताओं से मुलाकात से पहले हुर्रियत नेताओं को वार्ता के लिए आमंत्रित करते हैं। इससे वे अपना एजेंडा साफ करते हैं कि भारत संग बातचीत में जम्मू कश्मीर मसले पर उनका विशेष जोर हैं। हालांकि इस बार भारत ने रब्बानी के दौरे को अंतिम रूप देने से पहले ही साफ कर दिया था कि नई दिल्ली अलगाववादियों से भेंट से खुश नहीं होगा। रब्बानी को यह भी सलाह दी गई थी कि इसके बावजूद अगर वह अलगाववादियों से मुलाकात कर ही रही हैं तो कम से कम उनसे हिंसा का रास्ता छोड़ कर मुख्य धारा में शामिल होने की अपील जरूर करें।
चतुर और महत्वाकांक्षी
हिना काफी चतुर और महत्वाकांक्षी हैं। अनुभवहीनता के बावजूद उन्होंने पूर्व कानून मंत्री बरार अवान, पूर्व विदेश मंत्री सरदार आसिफ अली और नैशनल असेंबली की स्पीकर डॉ. फहमीदा मिर्जा जैसे राजनीतिक दिग्गजों को विदेश मंत्री पद की दौड़ से बाहर कर दिया। पाकिस्तान की पहली महिला विदेश मंत्री होने का गौरव हासिल करने वालीं हिना वहां के रुतबे वाले राजनीतिक परिवार से ताल्लुक रखती हैं। वह जाने-माने राजनेता गुलाम नूर रब्बानी खार की बेटी और पंजाब के पूर्व राज्यपाल व अपनी रंगीन मिजाजी के लिए चचिर्त गुलाम मुस्तफा खार की भतीजी हैं।
भारत के प्रति मानसिकता
विदेश मंत्री का पद संभालते ही हिना ने जता दिया था कि वह भारत के प्रति किस प्रकार की मानसिकता रखती हैं। खार ने कहा था‌ कि उनका देश दक्षिण एशिया में किसी देश का वर्चस्व स्वीकार नहीं करेगा। ना ही अमेरिका और ना ही चीन या भारत वर्तमान परिस्थितियों में इस्लामाबाद के रणनीतिक महत्व को कम कर सकते हैं। हिना अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन के उस बयान पर प्रतिक्रिया दे रही थी,जिसमें उन्होंने एशियाई क्षेत्र में भारत की प्रमुख भूमिका का समर्थन किया था।
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

जंतर मंतर पर अब कैसे करेंगे अनशन अन्ना
सुबोधकांत ने खेली मुख्यमंत्री बनने की दांव!
भारतीय मीडिया में ब्राह्मणों और बनियों का राज: अरुंधति रॉय
दलालों का अड्डा बन गया है रांची का कांके अंचल कार्यालय
निर्भया गैंगरेप के दोषियों की फांसी पर अगले आदेश तक रोक
शिबू सोरेन ने कांग्रेस को नकारा,भाजपा के साथ सरकार बनाने के स्पष्ट संकेत दिया
निकम्मी झारखंड सरकार और शिबू सोरेन का निरालापन
प्रतिभा से सीखो और आगे बढो
देश एक बार फिर आपातकाल की ओर.......
झारखंड के सीएम ने गुहार को लगाई अभद्र फटकार
सोनिया-राहुल की चुनावीसभा के बाद
झारखंड:शिबू सोरेन को मिला सरकार बनाने का न्योता,30दिसंबर को मुख्यमंत्री की शपथ लेगे.
कानून बनाओ या अध्यादेश लाओ, राममंदिर जल्द बनाओ : उद्धव ठाकरे
नालंदा जिले में नहीं थम रहा खाद्यान्न घोटाले का दौर
बुढ़ापे में दाने-दाने को मोहताज रहे आत्महत्या(!!) करने वाला हिंसावादी कानू सान्याल.
SC का बड़ा फैसलाः फोन ट्रैकिंग-टैपिंग-सर्विलांस की जानकारी लेना है मौलिक अधिकार
अलगाववादी नेता यासीन मलिक और उसकी पार्टी पर बैन
बिहार:देश में आखिर पिछड़ों,दलितों,अकलियतों का सबाल तो है हीं नीतीश जी
"अनंत विकास स्रोत" और एच.डी.एफ.सी.बैंक का यह कैसा धंधा?
अर्जुन मुंडा को ये बात भी समझनी होगी
वाह रे दैनिक हिन्दुस्तान ! भीड़ को गाली....खुद को ताली !!
लापरवाही की हदः गोरखपुर BRD मेडिकल कॉलेज में 5 दिनों में 60 की मौत
मौन व्रत खत्म हुआ,अब गांवों में जाकर नीतिश की खोलेंगे पोलः लालू
16000 करोड़ रु. के खनन घोटाले में फंसे कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने इस्तीफा दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter