» *एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क के कर्तव्य को अब आपके दायित्व की जरुरत…..✍🙏*   » ’72 हजार’ पर भारी पड़ा ‘चौकीदार’   » दहेज के लिए यूं जानवर बना IPS, पत्नी ने दर्ज कराई FIR   » ‘नतीजों में गड़बड़ी हुई तो उठा लेंगे हथियार और सड़कों पर बहेगा खून’   » चुनाव आयोग का ऐतिहासिक फैसला:  कल रात 10 बजे से बंगाल में चुनाव प्रचार बंद   » इस बार यूं पलटी मारने के मूड में दिख रहा नीतीश का नालंदा   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » ‘टाइम’ ने मोदी को ‘इंडियाज डिवाइडर इन चीफ’ के साथ ‘द रिफॉर्मर’ भी बताया   » पटना साहिब लोकसभा चुनाव: मुकाबला कायस्थ बनाम कायस्थ   » क्या गुल खिलाएगी ‘साहिब’ के ‘साहब’ की नाराजगी !  

कौन बनेगा झारखण्ड का सीएम?

Share Button

श्री बाबूलाल मरांडी! झारखण्ड जैसे बदहाल नव प्रांत की राजनीति मे बाबूलाल मरांडी का कोई सानी नही है.इनके राजनीतिक जीवन के भूतकाल का आंकलन करना उतना ही मुश्किल है,जितना कि भविष्यकाल का. कभी खाली बदन आरसएस की चौकी पर सो कर भाजपा की राजनीति करते थे और आज खुद का संगठन बना कर कांग्रेस के सोफ़ा पर आराम फरमाना चाहते है. राम मन्दिर जैसे मुद्दो को लेकर भाजपा के झारखण्ड मे एकछत्र सिक्का जमाने मे श्री मरांडी के योगदान को कोई नही भूल सकता. लेकिन यह भी सच है कि भाजपा ने भी अपने इस कद्दावर नेता को इच्छाफल देने मे कोई कोताही नही बरती. जब मजबूरी मे ही सही तात्कालिक “बिहारकिंग” लालू प्रसाद यादव ने अलग झारखण्ड राज्य का गठन किया तो भाजपा ने अपने वरिष्ठ नेता करिया मुंडा को नजरन्दाज कर सर्वप्रथम बाबूलाल मरांडी को ही मुख्यमंत्री बनाया. जब उन्हे इस पद से हटाया गया तो इसके कारण थे. श्री मरांडी ने झारखण्ड का “लालू” बनने की लालसा मे “डोमिसायल” का मुद्दा जिस तरह से छेडा, उससे उससे समूचा प्रदेश स्थानियता वनाम बाहरी की आग मे जल उठा. ऐसी परिस्थिति मे भाजपा को उन्हे पद से हटाने के अलावे कोई चारा न था. उसके बाद जब केन्द्र मे भाजपानीत सरकार सतासीन हुई,तो पार्टी ने उन्हे कैबनेट मंत्री के पद से नवाजा. बाद मे भी उनकी हैसियत प्रदेश के कद्दावर नेता के रूप मे बनी रही. और आज ये आश्चर्यजनक पहलू है कि दोनो विपरित दिशा मे भाग रहे है.

आसन्न विधानसभा चुनाव मे दो-चार सीटे लाकर मरांडी कांग्रेस जैसी राष्ट्रीय पार्टी पर वे पकड बना लेगे, यह कहना बहुत मुश्किल है.वे कुछ हद तक ईमानदार व विकासपरक विचार के माने जाते है और है भी. लेकिन, उनमे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सरीखे धैर्य का निरंतर अभाव रहा है. चन्द लोगो से हमेशा घिरे रहना तथा स्थानीयता से प्रेम उन्हे राजनीतिक चौसर के प्रमुख से बाहर करती नजर आती है
Share Button

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
» आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!   » राजनीतिक नेपथ्य में धकेले गए राम मंदिर आंदोलन के नायक और भाजपा का भविष्य   » ढींढोर पीटने वाले, फौजियों के इस गांव में कहां पहुंचा विकास   » शादी के बहाने बार-बार यूं बिकती हैं लड़कियां और नेता ‘ट्रैफिकिंग’ को ‘ट्रैफिक’ समझते   » बिहार के इस टोले का नाम ‘पाकिस्तान’ है, इसलिए यहां सड़क, स्कूल, अस्पताल कुछ नहीं   » यह है दुनिया का सबसे अमीर गांव, इसके सामने हाईटेक टॉउन भी फेल   » ‘शत्रु’हन की 36 साल की भाजपाई पारी खत्म, अब कांग्रेस से बोलेंगे खामोश   » राहुल गाँधी और आतंकी डार की वायरल फोटो की क्या है सच्चाई ?   » घाटी का आतंकी फिदायीन जैश का ‘अफजल गुरू स्क्वॉड’  
error: Content is protected ! india news reporter