» हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!   » बेटी का वायरल फोटो देख पिता ने लगाई फांसी, छोटे भाई ने भी तोड़ा दम   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » बजट का है पुराना इतिहास और चर्चा में रहे कई बजट !   » BJP राष्‍ट्रीय महासचिव के MLA बेटा की खुली गुंडागर्दी, अफसर को यूं पीटा और बड़ी वेशर्मी से बोला- ‘आवेदन, निवेदन और फिर दनादन’ हमारी एक्‍शन लाइन   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार   » प्रसिद्ध कामख्या मंदिर में नरबलि, महिला की दी बलि !   » गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने वाले चर्चित पूर्व IPS को उम्रकैद   » इधर बिहार है बीमार, उधर चिराग पासवान उतार रहे गोवा में यूं खुमार, कांग्रेस नेत्री ने शेयर की तस्वीरें  

झारखंडी मीडिया ने तो शहीदों की परिभाषा ही बदल दी

Share Button
यह कतरन है रांची से प्रकाशित राष्ट्रीय समाचार पत्र दैनिक हिन्दुस्तान की। कमोवेश यही आलम यहां से प्रकाशित सभी समाचार पत्रों में प्रमुखता से छापी गयी है।इस कहानी के मूल जनक हैं झाविमो सुप्रीमों बाबूलाल मरांडी।जब अलग राज्य गठन के बाद यहां भाजपा की सरकार बनी तो वे उसके मुखिया (प्रथम मुख्यमंत्री) बनाये गये।बिहार में लालू जी तो झारखंड में मरांडी जी।
जब मरांडी जी को लगा कि उनकी कमजोर पड़ रही है,राज्य में डोमिसाइल नीति लागू करने की चर्चा छेड़ दी।फिर क्या था…समूचा झारखंड इसकी आग में धू-धू कर जलने लगा। जिधर देखो तनाव ही तनाव। कथित मूलवासी और बाहरी के बीच हिंसा ही हिंसा।इस हिंसा में दोनों गुटों के कई लोग मारे गए और उसे छुटभैये नेताओं ने शहीद बना दिया।
मैं ऐसे नेताओं की ज्यादा बात नहीं करता।यहां पर मीडिया की बात करना चाहूंगा।जिसने भी गुटीय हिंसा में मारे गये लोगों को एक दशक से शहीद होने की पूंगी हर साल बजाते आ रहा है।क्या वे लोग वाकई शहीदों की श्रेणी में आते हैं..जिनकी टीस आज भी असहनीय है। 

Share Button

Related News:

अमर सिंह के साथ पूछताछ अन्याय : मुलायम
आयकर विभाग के निशाने पर हैं झारखण्ड-बिहार के कई चैनल
भारत के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति चुप क्यों?
"ये झारखण्ड के प्रधान हैं!!"
मॉम के रुप में श्रीदेवी का दिख रहा भावुक अंदाज
दलालों का अड्डा बन गया है रांची का कांके अंचल कार्यालय
झाविमो के विधायक के झारखंड विधानसभा के अन्दर इस तीखे वयान पर सब चुप क्यो?
झारखंड: सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराने को लेकर दोनो उपमुख्यमंत्री ...
देखिये झारखंड के सबसे पुराना अखबार दैनिक राँची एक्सप्रेस का हाल
मैदान छोड़ कहाँ भागे बाबूलाल मरांडी ?
रजरप्पा : महापाप का तांडव और मीडिया-1
एक तो करै़ल दूजे नीम चढ़ाय:होली कैसे मनाएँ?
झारखंड: गुरूजी ने राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा ठोंका
नक्सलियो के लिये शर्म है गांव के इन स्कूली बच्चो की चीख
और इस कारण बिखर चला 'द कपिल शर्मा शो'
लेकिन, प्राईवेट स्कूलों की जारी रहेगी मनमानी, बोझ ढोते रहेंगे मासूम
भारत बंद:  समूचे देश में हुआ सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में हिंसक प्रदर्शन
"प्रभात ख़बर औए ३६५ दिन में सौतन-डाह"
राहुल गांधी के बायोडाटा में धर्म और राष्ट्रीयता का जिक्र क्यों नहीं !
टीम अन्ना की ईमानदारी का गज़ब खुलासा !
मीडिया : अक्ल-शक्ल सब बदला
राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने की संपत्ति की घोषणा !! : इसकी जांच कौन करेगा?
ढलती उम्र में सठिया गयें हैं शिबू सोरेन
मेरी सरकार को बिहार की जनता देगी प्रमाण-पत्र न कि राहुल गांधी या कोई और : नीतीश कुमार

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!  
error: Content is protected ! india news reporter