झारखंड: सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराने को लेकर दोनो उपमुख्यमंत्री सुदेश और रघुवर आमने- सामने

Share Button
सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार पेसा कानून के तहत झारखंड प्रांत मे पंचायत चुनाव कराने को लेकर जितनी कडे तेवर के साथ आदिवासी-सदान समुदाय आमने सामने है,ठीक उतनी सिबू सरकार के दोनो उपमुख्यमंत्री आजसू के सुदेश महतो और भाजपा के रघुवर दास. श्री महतो का स्पष्ट कहना है कि पेसा कानून के तहत ही चुनाव होंगे. जबकि श्री दास का कहना है कि चुनाव के पूर्व पेसा कानून मे वगैर संशोधन के चौनाव नही कराया जायेगा. मुख्यमंत्री सिबू सोरेन खुद काफी फूंक-फूक के कदम उठाकर चल रहे रहे है. वे सिर्फ पंचायत चुनाव पर बल दे है. पेसा पर विशेष जोर देकर नही चल रहे है. श्री सोरेन का धर्म संकट यह है कि वे जहाँ आदिवसी समुदाय से आते है वहीं उनका मुख्य जनाधार गैर आदिवासी खासकर मह्तो और अंसारी समुदय मे है. ऐसे भी सदानो की गोलबन्दी की आगे उनकी सिट्टी-पिट्टी गुम नज़र आ रही है..
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

ऐ मेरे वतन के लोगों...जो शहीद हुए हैं उनकी,जरा याद करो कुर्बानी
मॉम के रुप में श्रीदेवी का दिख रहा भावुक अंदाज
भाडे की ईंट,भाडे का रोडा :“गुरुजी” ने जोडा कुनबा
मंहगाई को लेकर संसद में विपक्ष का हल्ला बोल
अमेरिका विश्व में भारत का सबसे बड़ा 14वां कर्जदार
शिबू सोरेन की गलतफहमी न.1 : झारखण्ड की ताजा बदहाली के लिये बिहारियो को दोषी ठहराया
झारखण्ड की बदहाली के लिये बिहारियो को दोषी मानते है शिबू सोरेन
9वीं कक्षा की परीक्षा में पूछा सवाल, 'गांधी जी ने आत्महत्या कैसे की'? 😳
मेरे वतन के लोगों...गीत सुनते ही राजघाट पर रो पड़े अन्ना
झारखण्ड मे पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव होने से सामाजिक समरसता बिगडेगी: रामटहल चौधरी
“मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में 5 दिसंबर 1992 की स्थिति चाहिए”
झारखंड के राज्यपाल ने लोकतंत्र का गला घोंटा
राहुल गाँधी : देश का "युवराज" और वंशवाद के "विरोधी" कैसे?
संदर्भ निर्भया गैंगरेपः जानिए फांसी की सजा से जुड़े कुछ अनसुने तथ्य
शत्रु संपत्ति कानून संशोधन विधेयक से महमूदाबाद राज परिवार को झटका
सता और विपक्ष का ये कैसा घाल-मेल?
सवाल न्यायपालिका की स्वायत्तता का
Jio यूजर्स को दूसरे नेटवर्क पर कॉलिंग के लिए कराने होंगे ये रिचार्ज
तीन तलाक को राष्ट्रपति की मंजूरी, 19 सितंबर से लागू, यह बना कानून!
मूर्खता भरी यह कैसी खबर-पत्रकारिता?
झारखंड : राजीव गांधी उद्यमी मित्र योजना या स्वंय सेवी संस्थाओं कमाई का जरिया!
उपमुख्यमंत्री सुदेश की अनुभवहीनता कही ले न डूबे मुख्यमंत्री शिबू सोरेन की लुटिया
बोफ़ोर्स की तरह ही 'पीएम 2019' का खेल कहीं बिगाड़ न दे रफ़ाएल
सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के बीच जूतमपैजार :न्यायायिक व्यवस्था पर उठे सवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter