भारत में भ्रष्टाचार रहित शहरी जीवन की कल्पना की जा सकती है !

Share Button
-राजेश प्रियदर्शी-
भारत का मध्यम वर्ग उस मछली की तरह है जो पानी के गंदा होने की शिकायत करते-करते उसके बिना रहने की बात करने लगा है. भारत में भ्रष्टाचार रहित शहरी जीवन की कल्पना करने पर लगता है कि मानो व्यवस्था ही ख़त्म हो जाएगी.
भ्रष्टाचार के बिना जीवन बहुत कठिन होता है. अपनी बारी का इंतज़ार करना पड़ता है, पूरे टैक्स भरने पड़ते हैं, बिना पढ़े-लिखे पीएचडी नहीं मिलती, सिफ़ारिश नहीं चलती, सबसे तकलीफ़देह बात ये कि जेब में पैसे होने के बावजूद हर चीज़ नहीं ख़रीदी जा सकती…
भ्रष्टाचार करोड़ों लोगों की रगों में बह रहा है, भारत में सबसे ज़्यादा लोगों को रोज़गार देने वाला उद्यम भारतीय रेल या कोल इंडिया नहीं है बल्कि ईश्वर की तरह सर्वव्यापी भ्रष्टाचार है.
अन्ना सही हैं या ग़लत इस बहस को एक तरफ़ रखकर सोचना चाहिए कि अगर अन्ना का आंदोलन सफल हो गया तो उन्हें ही सबसे बड़ा झटका लगेगा जो लोग सबसे बुलंद आवाज़ में नारे लगा रहे हैं और ट्विट कर रहे हैं.
इस आंदोलन के समर्थन में बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं जो राजनीतिक भ्रष्टाचार से तंग आ चुके हैं और उन्हें लगता है कि जन-लोकपाल बिल से सिर्फ़ नेताओं की कमाई बंद होगी, उनका जीवन यूँ ही चलता रहेगा.
जैसे मिलावट करने वाले दान भी करते हैं, पाप करने वाले गंगा नहाते हैं, उसी तरह बहुत से लोग भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ मोमबत्तियाँ जला रहे हैं, इससे मन को शांति मिलती है, ग्लानि मोम की तरह पिघलकर बह जाती है.
अन्ना हज़ारे को इस बात श्रेय ज़रूर मिलना चाहिए कि उन्होंने भ्रष्टाचार को बहस का इतना बड़ा मुद्दा बना दिया है, हो सकता है कि यह एक बड़े आंदोलन की शुरूआत हो लेकिन अभी तो भावुक नारेबाज़ी, गज़ब की मासूमियत और हास्यास्पद ढोंग ही दिखाई दे रहा है.
नेताओं का भ्रष्टाचार ग्लोबल वर्ल्ड में शर्मिंदगी का कारण बनता है, बिना लाइसेंस के कार चलाने पर पुलिसवाला पाँच सौ रुपए ऐंठ लेता है, ये दोनों बुरी बातें हैं, ये बंद होना चाहिए, क्या मध्यम वर्ग में सिर्फ़ मोमबत्ती जलाने वाले सज्जन लोग हैं जो दोनों तरफ़ से पिस रहे हैं?
भ्रष्ट तरीक़े अपनाकर पैसा या रसूख हासिल करने वाले लोगों के प्रति सम्मान का भाव जब तक ख़त्म नहीं होगा भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ असली लड़ाई शुरू नहीं होगी.
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

विकिलीक्स का खुलासाः स्वीस बैंक में सबसे अधिक काला धन नीरा राडिया,राजीव गांधी,नरेश गोयल,हर्षद मेहता...
ललन के चक्रव्यूह मे फंसे बिहार के सुशासन बाबू
चर्चा रांची के दैनिक सन्मार्ग मानवता की
कांग्रेस एक सर्कसः मणिशंकर अय्यर, कांग्रेस में शिखंडी जैसी हालतः जयराम रमेश
सलमान खान को 5 साल की सजा, गए जोधपुर सेंट्रल जेल
साईबर अपराधियों का यूं हुआ भंडाफोड़,भारी सबूत बरामद
झारखंड: गुरूजी ने राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा ठोंका
भ्रष्टाचार का हो-हल्ला मचाने वालो पर भारी पडे भ्रष्टाचारी
संवैधानिक व्यवस्था से भी ऊपर है कांग्रेस:नीतीश कुमार
अब कहां जाएंगें ये दृष्टिहीन बच्चें
ममता बनर्जी ने शुरु की 'भाजपा भारत छोड़ो आंदोलन'
पिछले 4 वर्षों में दवा परीक्षण के दौरान 1500 लोगों की मौतः केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री
शिबू सोरेन के समर्थन मे 81 सदस्यीय विधानसभा मे 44 विधायको ने राज्यपाल के सामने दावा ठोंका
महाराष्ट्र पर आज यूं हुआ महाबहसः सुप्रीम कोर्ट ने कहा-'संविधान की रक्षा हमारी ड्यटी, कल पेश करें राज...
दिल्ली की 15 साल तक चहेती सीएम रही शीला दीक्षित का निधन
ऐ मेरे वतन के लोगों...जो शहीद हुए हैं उनकी,जरा याद करो कुर्बानी
एक और नीरव मोदी ने किया 187 करोड़ का घोटाला, PNB समेत 6 बैंकों को लगाया चूना
मतदान खत्म होते बदले वेशर्म नेता के तेवर
सरकार राजी, अब रामलीला मैदान में होगा अन्ना का अनशन
बदल रही है दोस्ती की परिभाषा
राज्य सरकारों तक के गुलाम बन गई है न्यूज एजेंसियां
कसाई कौन ? डॉक्टर या दैनिक भास्कर ?
नीतीश की अबूझ कूटनीति बरकरारः अब RCP की उड़ान पर PK की तलवार
वाह रे दैनिक हिन्दुस्तान ! भीड़ को गाली....खुद को ताली !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter