» बच सकती थी एम्स में आग से हुई तबाही, अगर…   » तीन तलाक और अनुच्छेद 370 के बाद एक चुनाव कराने की तैयारी   » बोले रक्षा मंत्री-  अब सिर्फ POK पर होगी बात   » अफसरों से बोले नितिन गडकरी- ‘काम करो नहीं तो लोगों से कहूंगा धुलाई करो’   » तीन तलाक को राष्ट्रपति की मंजूरी, 19 सितंबर से लागू, यह बना कानून!   » तीन तलाक कानून पर कुमार विश्वास का बड़ा रोचक ट्विट….   » मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » बिहार के विश्व प्रसिद्ध व्यवसायी सम्प्रदा सिंह का निधन   » पत्नी की कंप्लेन पर सस्पेंड से बौखलाया था हत्यारा पुलिस इंस्पेक्टर   » कर्नाटक में सरकार गिरना लोकतंत्र के इतिहास में काला अध्याय : मायावती  

“शादी पूर्व ही यौन-सम्बन्ध स्थापित करने का आम प्रचलन है इस ‘नव इसाई समुदाय’ में “

Share Button

– मुकेश कुमार-
भारत जैसे विश्व के सबसे लोकतान्त्रिक देश में अन्य राज्यों में आदिवासी समुदाय की हालत क्या है,यह एक गहन छानबीन का विषय हो सकतें हैं लेकिन झारखण्ड में सब कुछ उपरी सतह पर दिखता है.यहाँ आदिवासी समुदाय पूर्णतः तीन वर्गों में विभक्त हो गया है।
पहला वर्ग अलग राज्य गठन के बाद सत्तासुख भोग रहा है ।

दूसरा वर्ग वही पुराना दीन-हीन जीवन जीने को अभिशप्त हैं। तीसरा वर्ग ईसायत की चपेट में आकर एक ऐसा जीवन जीने लगा है जिसमें न तो झारखंडी संस्कृति बची है और न ही भारतीयता।सबसे पहले ईसायत की चपेट में प्रायः आदिवासी समुदाय की बालाएं आती है जो धीरे-धीरे पूरे परिवार-खानदान को अपनी रंग में रंग लेती है।
सच पूछिए तो इसाई मीशिनारियां ऎसी महत्वाकांक्षी बालाओं आर्थिक तौर पर इतनी मजबूत बना देती है कि उसका समूचा परिवार उसी पर निर्भर हो जाता है। अच्छे खासे रसूख वाले दूर-देहात के भोले -भाले आदिवासी युवक भी आधुनिक चकाचौंध में आकर आसानी से इनके गले बंध जाते हैं । मूल आदिवासी से बने इस नए इसाई वर्ग में एक नई प्रथा का जन्म हुआ है और वह प्रथा है शादी के पहले माँ बनने तक परस्पर यौन सम्बन्ध स्थापित करना।

चूकि इसाई मिशनरियों की मदद से ये बालाएं आत्मनिर्भर अपने परिवार से अलग-थलग रहने लगती है , इसलिए उसे सामाजिक तौर पर किसी भी युवक के साथ रहने में कोई परेशानी नही होती। अगर वह माँ बन जाती है तो बात शादी तक पहुँचती है अन्यथा चल चिरियां दूसरे घोंसले पर वाली कहावत चरितार्थ होने लगती है।

एक सर्वेक्षण के अनुसार मुख्यतः सरकारी गैर सरकारी अस्पतालों,स्कूलों ,दफ्तरों आदि में कार्य करने वाली ऎसी बालाओं की तादात करीव ९८ फीसदी है। जिनमे शादी पूर्व एक से अधिक के साथ खुले यौन- सम्बन्ध स्थापित करना आम बात हो गई ही है।
Share Button

Related News:

कांग्रेस का अब “राम नाम सत्य” होगा:लालू
संजय यादव : विधायक नहीं,1नं.गुंडा है
आरटीआई के दायरे में है निलबंन और आरोप-पत्र की जानकारी
और इस कारण बिखर चला 'द कपिल शर्मा शो'
मुझे माफ करना अन्ना,मैं इन दलालों पर शर्मिंदा हूं.....
BSNL देगी यूजर्स को फ्री 1जीबी डेटा
मिशन शक्ति पर मोदी का राष्ट्र संदेश पहुंचा चुनाव आयोग, मांगी संबोधन की कॉपी
एक करोड मे एस.पी. और 20 लाख मे डी.सी. का पद निलाम होता है झारखंड मे!
मूर्खता भरी यह कैसी खबर-पत्रकारिता?
इस बार मुख्यमंत्री बनते ही शिबू सोरेन ने बदले तेवर
कानून के अन्धा होने के बात को प्रमाणित कर रहा है झारखंड मे पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराने की स...
गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने वाले चर्चित पूर्व IPS को उम्रकैद
पूंजीवाद के साइड इफेक्ट और अंगार पर खड़ी दुनिया
खट्टर सरकार को हाई कोर्ट की कड़ी फटकार, कहा- राजनीतिक स्वार्थ में डूबी रही सरकार
विकास(राँची)-बरही(हजारीबाग) एन.एच.-३३ फोलेनिंग में भारी अनियामियता व गबन-घोटाले की आशंका
पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव को लेकर आदिवासी और सदान आमने-सामने
राहुल गांधी के बायोडाटा में धर्म और राष्ट्रीयता का जिक्र क्यों नहीं !
मंहगाई को लेकर संसद में विपक्ष का हल्ला बोल
सरकार हमारे खिलाफ एफआईआर दर्ज करेः अन्ना हजारे
सही सलामत घर लौटे निवर्तमान राजद विधायक का राज
कुख्यात नक्सली के सरेंडर मामले में रघुबर सरकार की मुश्किलें बढ़ी, HC के बाद PMO ने लिया कड़ा संज्ञान
झारखण्ड:पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराना सिबू सरकार के लिये एक गंभीर चुनौती/आपस मे खुलकर टकरायेग...
रांची के रिम्स में लालू से मिलकर यूं गरजे बिहारी बाबू- ‘खामोश’
योग गुरू बाबा रामदेव को लेकर गरम हुये लालू

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» तीन तलाक और अनुच्छेद 370 के बाद एक चुनाव कराने की तैयारी   » मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’  
error: Content is protected ! india news reporter