विदेश लहर है भारत पहुंची “बेशर्मी मोर्चा”

Share Button
स्‍लट वॉक यानि बेशर्मी मोर्चा । क्‍या आपको पता है कि स्‍लट वॉक का असल मतलब क्‍या होता है और इसका जन्‍म कहां हुआ। अगर नहीं तो हम आपको बताते हैं। स्लट वॉक यानी बेशर्मी मोर्चा की नींव कनाडा के टोरंटो शहर में उस समय पड़ी, जब दुष्कर्म की बढ़ती घटनाओं के लिए एक पुलिस अधिकारी ने भड़काऊ कपड़ों को प्रमुख कारण बताया। अधिकारी ने महिलाओं को संयमित परिधान पहनने की सलाह दी थी।
अधिकारी के बयान से नाराज लगभग तीन हजार महिलाओं ने 3 अप्रैल 2011 को टोरंटो की सड़कों पर अर्धनग्न होकर विरोध मार्च (स्लट वाक) निकाला था। महिलाओं के इस विरोध प्रदर्शन को दुनियाभर से समर्थन मिला और अमेरिका, यूरोप और आस्ट्रेलिया होते हुए विरोध की यह लहर दिल्ली आ पहुंची। दिल्ली में इसके आयोजन का जिम्मा संभाला दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्राओं ने। ऐसे में अब देखना यह है कि दिल्‍ली के बाद अब यूपी में स्‍लट वॉक कितना सफल होता है।
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

पेस्सा के तहत चुनाव: शिबू नार्मल लेकिन सुदेश और रघुवर अपने फेर मे
प्रियंका के इंकार के बाद रिंग में दस्ताने पहन यूं अकेले रह गए मोदी
नालंदा के हरनौत में मुखिया पर गोलियों की बौछार
सुशासन बाबू:अब आपही बताईये कि दोषी कौन?कुशासन या किसान?
आधार कार्ड का सॉफ्टवेयर हुआ हैक, कोई भी बदल सकता है आपका डिटेल
माफ कीजियेगा झारखंड के सीएम अर्जुन मुंडा साहब !
इस राजनीतिक माहौल में मेरी छाया भी बगावत कर गईः शरद यादव
हाइपोथर्मियाः कोटा, बीकानेर एवं राजकोट में अब तक 500 से उपर बच्चों की मौत
मेरी सरकार को प्रमाण-पत्र देने से पहले राहुल बताये कि वे बिहार के विकास के लिए वे क्या कर रहे: नीतीश...
अर्जुन मुंडा का आत्मघाती खेल
‘द लाई लामा’ मोदी की पोस्टर पर बवाल, FIR दर्ज
अंधेर नगरी चौपट राजा यानि नक्सली मुख्यमंत्री शिबू सोरेन
प्रशांत ने पूछा- लालू नाम की माला के सहारे कब तक बचाईएगा कुर्सी?
सुप्रीम कोर्ट की दो टूकः शादी का वादा कर शारीरिक संबंध बनाना रेप
झारखंड:कांग्रेस ने कई इतिहास रचे... सुषमा स्वराज
ओरमांझी की मनोरम प्रकृति और पर्यावरण को यूँ नष्ट कर रहे हैं पत्थर माफिया
अन्ना के अनशन को लेकर चिंतित है अमेरिका!
कांग्रेस के चौतरफे हमले में घिर रहे हैं अन्ना
सुप्रीम कोर्ट के द्वारा 78% आबादी के विरूद्ध दिये गये फैसले का क्या है औचित्य ?
कर्नाटक का 'नाटक' का अंत, येदियुप्पा का इस्तीफा
नकली फेसबुकियों को सावधान करता मध्‍य प्रदेश के सीएम का फर्जी प्रोफाइल
शिव सैनिकों की फौज जो न कर सकी, वह इस लॉ स्टूडेन्ट ने कर दिखाया !
कसाई कौन ? डॉक्टर या दैनिक भास्कर ?
झारखंड के राज्यपाल ने नियम और परंपरा को ताक पर रखा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter