राहुल गांधी के खिलाफ जांच क्यों नहीं होती !!

Share Button
राहुल की प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली के मॉडर्न स्कूल में हुई थी, इसके बाद वो प्रसिद्ध दून स्कूल में पढ़ने चले गये जहां उनके पिता ने भी विद्यार्जन किया था। सन 1981-83 तक सुरक्षा कारणों के कारण राहुल को अपनी पढ़ाई घर से ही करनी पड़ी। राहुल ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय के रोलिंस कॉलेज फ्लोरिडा से सन 1994 में अपनी कला स्नातक की उपाधि प्राप्त की। इसके बाद सन 1995 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के ट्रिनिटी कॉलेज से एम.फिल. की उपाधि प्राप्त की। 
स्नातक की पढ़ाई के बाद राहुल ने प्रबंधन गुरु माइकल पोर्टर की प्रबंधन परामर्श कंपनी मॉनीटर ग्रुप के साथ 3 साल तक काम किया। इस दौरान उनकी कंपनी और सहकर्मी इस बात से पूरी तरह से अनभिज्ञ थे कि वो किसके साथ काम कर रहे हैं क्योंकि राहुल यहां एक छद्म नाम रॉल विंसी के नाम से कार्य करते थे। राहुल के आलोचक उनके इस कदम को उनके भारतीय होने से उपजी उनकी हीनभावना मानते हैं जबकि, काँग्रेसी उनके इस कदम को उनकी सुरक्षा से जोड़कर देखते हैं। सन 2002 के अंत में वो मुंबई में अभियांत्रिकी और प्रौद्योगिकी से संबंधित एक आउटसोर्सिंग कंपनी के चलाने के लिए भारत लौट आये।
जब 2006 के आखिर में न्यूज़वीक ने इल्जाम लगाया की उन्होंने हार्वर्ड और कैंब्रिज में अपनी डिग्री पूरी नहीं की थी या मॉनिटर ग्रुप में काम नहीं किया था, तब राहुल गांधी के कानूनी मामलों की टीम ने जवाब में एक कानूनी नोटिस भेजा, जिसके बाद वे जल्दी से मुकर गए या पहले के बयानों का योग्य किया.
राहुल गांधी ने 1971 में पाकिस्तान के टूटने को, अपने परिवार की “सफलताओं” में गिना.इस बयान ने भारत में कई राजनीतिक दलों से साथ ही विदेश कार्यालय के प्रवक्ता सहित पाकिस्तान के उल्लेखनीय लोगों से आलोचना को आमंत्रित किया .प्रसिद्ध इतिहासकार इरफान हबीब ने कहा की यह टिप्पणी “..बांग्लादेश आंदोलन का अपमान था.
2007 में उत्तर प्रदेश के चुनाव अभियान के दौरान उन्होंने कहा की “यदि कोई गांधी-नेहरू परिवार से राजनीति में सक्रिय होता तो, बाबरी मस्जिद नहीं गिरी होती”.इसे पी.वी.नरसिंह राव पर हमले के रूप में व्याख्या क्या गया था, जो 1992 में मस्जिद के विध्वंस के दौरान प्रधानमंत्री थे.गांधी के बयान ने BJP, समाजवादी पार्टी और वाम के कुछ सदस्यों के साथ विवाद शुरू कर दिया, दोनों “हिन्दू विरोधी” और “मुस्लिम विरोधी” के रूप में उन्हें उपाधि देकर. स्वतंत्रता सेनानियों और नेहरू-गांधी परिवार पर उनकी टिप्पणियों की BJP के नेता वेंकैया नायडू द्वारा आलोचना की गई है, जिन्होंने पुछा की “क्या गांधी परिवार आपातकाल लगाने की जिम्मेदारी लेगा?”
2008 के आखिर में, राहुल गांधी के लिए एक स्पष्ट रोक से उनकी शक्ति का पता चला.गांधी को चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय में छात्रों को संबोधित करने के लिए सभागार का उपयोग करने से रोका गया, मुख्यमंत्री सुश्री मायावती की राजनीतिक चालबाजियों के परिणामस्वरूप.बाद में, विश्वविद्यालय के कुलपति वी.के.सूरी को राज्यपाल श्री टी.वी.राजेश्वर (जो कुलाधिपति भी थे) द्वारा बाहर किया गया, जो गांधी परिवार के समर्थक और श्री सूरी के नियोक्ता थे.इस घटना को शिक्षा की राजनीति के साक्ष्य के रूप में उद्धृत किया गया और अजित निनान द्वारा टाइम्स ऑफ इंडिया में एक हास्यचित्र में लिखा गया: “वंश संबंधित प्रश्न का उत्तर राहुल जी के पैदल सैनिकों द्वारा दिया जा रहा है.”
सेंट स्टीफेंस कॉलेज में उनका दाखिला विवादास्पद था क्योंकि एक प्रतिस्पर्धात्मक पिस्तौल निशानेबाज़ के रूप में उनकी क्षमताओं के आधार पर भर्ती किया गया था, जो विवादित था. उन्होंने शिक्षा के एक वर्ष के बाद 1990 में उस कॉलेज को छोड़ दिया था.
उनका बयान कि अपने कॉलेज सेंट स्टीफंस में उनके एक वर्ष के निवास के दौरान, कक्षा में सवाल पूछने वाले छात्रों को “छोटा समझा जाता था”, इसने कॉलेज की तरफ से एक कठोर प्रतिक्रिया को जन्म दिया.उन्होंने कहा कि जब वह सेंट स्टीफेंस कॉलेज में पढ़ाई कर रहे थे, तब सवाल पूछना हमारी कक्षा में अच्छा नहीं (होने की कथित) माना जाता था और ज्यादा सवाल पूछना नीचा माना जाता था.महाविद्यालय के शिक्षकों ने कहा की गांधी का बयान ज्यादा से ज्यादा “उनका व्यक्तिगत अनुभव” हो सकता है और सेंट स्टीफेंस में शैक्षिक वातावरण की सामान्यीकरण की वजह नहीं हो सकता है.
जनवरी 2009 में ब्रिटेन के विदेश सचिव डेविड मिलीबैंड के साथ, उत्तर प्रदेश में उनके संसदीय निर्वाचन क्षेत्र में, अमेठी के निकट एक गाँव में, उनकी “गरीबी पर्यटन यात्रा” के लिए गंभीर आलोचना की गई थी.इसके अतिरिक्त, इसे “सबसे बड़ी कूटनीतिक भूल” के रूप में माना गया, मिलीबैंड द्वारा आतंकवाद और पाकिस्तान पर दी गयी सलाह और श्री मुखर्जी तथा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ निजी मुलाकातों में उनके द्वारा किये गये आचरण के कारण।.
……विकिपीडिया से साभार

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

इंगलिश मीडिया ने टीम इंडिया की तुलना कुत्ते से की
नालन्दा:शैक्षणिक चेतना का प्रमुख पर्यटन स्थल
कानून बनाओ या अध्यादेश लाओ, राममंदिर जल्द बनाओ : उद्धव ठाकरे
पत्थर माफियाओं के तांडव के बीच “तेलकटवा” गिरोह का आतंक
पिछले चार साल मे लाखपति से अरबपति बने नीतिश के ये चहेते मंत्री
बिहारः यहां माता सीता ने की थी प्रथम छठ व्रत, मंदिर में मौजूद आज भी उनके चरण !
सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार पेसा कानून के तहत यदि झारखंड मे चुनाव हुआ तो आदिवासियो और सदानो के बीच स...
सरकारी मेहमान बने राज ठाकरे के हिंदी बोलने पर बबाल !
अन्ना हजारे के अनशन पर लगाईं गई शर्तें मौलिक अधिकारों का हननः गडकरी
चिराग पासवान की दो टूक- मुश्किल होगी 2019 में NDA की डगर
22 जनवरी को नहीं होगी निर्भया के किसी दरींदे को फांसी
राम जाने क्या होगा आगे? रजनीतिक गर्दिश मे है झारखंड.
झारखंड की जीत के रंग में सने दिखे राहुल गांधी
बड़ा फर्क है टीम अन्ना और जेपी आंदोलन में
उग्रवाद:शिबू सोरेन की गलतफहमी न.2
नीतीश-जदयू से जुड़े ‘आम्रपाली घोटाले’ के तार, धोनी को भी लग चुका है चूना
खट्टर सरकार को हाई कोर्ट की कड़ी फटकार, कहा- राजनीतिक स्वार्थ में डूबी रही सरकार
भारत में भ्रष्टाचार रहित शहरी जीवन की कल्पना की जा सकती है !
आखिर खुद कायदा-क़ानून तोड़कर यह कैसा सन्देश देना चाहते हैं बिहार के " सुशासन बाबू" यानी मुख्यमंत्री नी...
झारखंडी राजनीति के "अमर-अकबर-अंथोनी" यानि......अर्जून-शिबू-सुदेश.
इमरान का संसद में बयान- कल भारत लौटेंगे अभिनंदन
सुप्रीम कोर्ट के आदेश से बुरे फंसे बिहार के शिक्षामंत्री
एससी-एसटी एक्ट मामले में सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला अभी सुरक्षित
पेस्सा के तहत चुनाव: शिबू नार्मल लेकिन सुदेश और रघुवर अपने फेर मे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter