बिहार : “नीतिश की कूटनीति का एक हिस्सा है नई चुनावी हार”

Share Button
-मुकेश कुमार-
बिहार में एन डी ए की चुनावी हार क्या है?वाकई नीतिश का कुनबा फेल हो रहा है या वे इस अप्रत्यासित हार में अपनी भावी जीत का जश्न मना रहा है? राष्टीय राजनीति विश्लेषक इन दिनों इस सबाल का जबाव पाने के लिए राजधानी पटना के गलियों को सूंघते फ़िर रहे है । आख़िर पिछले चुनाव में अपनी विकासपरक छवि के बल लालू – पासवान के साथ कांग्रेस की नकेल कसने वाले नीतिश दो तिहाई सीटो के अन्तर से कियों पीछे हो गए ।
सुच पूछिये तो लोजपा के सुप्रीमो रामबिलास पासवान को उन्ही के मांद में शिकस्त देने और बीस साल तक छाती पर मुंग दल कर राज कराने का दंभ भरने वाले लालू प्रसाद को पाटलिपुत्र जैसे यादव बहुल सीट पर पटकनी देकर नीतिश ने यह संदेश दिया था कि जो बिहार को राष्ट्रीय मानचित्र पर अपनी प्रदूषित छवि में चमक भर सके।
गत १७ सितम्बर को १८ सीटो के आए चुनाव परिणाम में नीतिश की पार्टी ज द यू को मात्र ३ सीटो पर ही संतोष करना परा । उधर काग्रेस और नीतिश सरकार पर साझा आक्रामक तेवर अख्तियार करते हुए लालू-पासवान ने ९ सीटो पर पतह हासिल कर ली। बेशक ये जीत लालू-रामविलास की जोरी को एक नई स्फूर्ति प्रदान करेगी।
अब सबाल उठाता है कि क्या लालू का सितारा फ़िर बुलंद होगा? प्रदेश में फ़िर वही —राज कायम होगा? यदि इस सबाल का जबाव गहनता से ढूढने पर जिस तरह के कूटनीति सामने आती है वे ‘तीर’ कांग्रेस को छेड़ती नजर आती है ।
नीतिश नही चाहते है कि काग्रेस बिहार में फ़िर से ८० के दशक जैसा जनाधार बना ले। इसी रणनीति के तहत नीतिश ने अपने ‘बिग ब्रदर ‘ लालू दल को संजीवनी दिया है। लालू भी यह मान लिया है कि वे नीतीश राज का बिरोध कर अब भले ही बिहार सुख न भोग सके , इतना तो अवश्य होगा की दमदार राजनीति बरकरार रहेगी। उधर नीतीश को अब लालू – पासवान से कोई ख़तरा नजर नही आती है ।
उन्हें लगता है की उनकी सरकार को जब भी धक्का लगेगा तो कांग्रेस से। सोनिया की खुली और राहुल की राजनीति में दमदार उपस्थिति से कांग्रेसियों में इक नई ऊर्जा का संचार हुआ है। नीतिश के सहयोगी भाजपा भी लालू-पासवान से अधिक कांग्रेस पर नजर रखना चाहती है।
0 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise
Share Button

Related News:

रांची का कशिश न्यूज चैनल बना ऐय्याशी का अड्डा, न्यूज हेड गंगेश गुंजन की जय हो!
जागरण प्रकाशन हुआ विदेशी गुलाम
राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने की संपत्ति की घोषणा !! : इसकी जांच कौन करेगा?
दलालों का अड्डा बन गया है रांची का कांके अंचल कार्यालय
झारखण्ड मे पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव होने से सामाजिक समरसता बिगडेगी: रामटहल चौधरी
झारखंड विधानसभा चुनाव:रांची जिला,खिजरी क्षेत्र के उम्मीदवारो को मिले मत
दिल्‍ली पुलिस और टीम अन्‍ना के बीच शर्तों का खेल जारी
जामिया मिलिया इस्लामिया में नकली डिग्री के धंधे का भंडाफोड़,5 गिरफ्तार
ललन के चक्रव्यूह मे फंसे बिहार के सुशासन बाबू
देश में पहली समलैंगिक शादी को कोर्ट की मुहर
"ये झारखंड प्रधान है. !!"
झारखंड के राज्यपाल ने नियम और परंपरा को ताक पर रखा
साध्वी यौन शोषण केस में स्वंभू संत राम रहीम दोषी, भड़की हिंसा, अब तक 10 की मौत, सैकड़ों घायल
ऐ मेरे वतन के लोगों...जो शहीद हुए हैं उनकी,जरा याद करो कुर्बानी
सन्मार्ग से बैजनाथ मिश्र की छुट्टी! रजत गुप्ता की वापसी!
झारखंड विधानसभा चुनाव:रांची जिला, रांची क्षेत्र के उम्मीदवारो को मिले मत
पत्थर माफियाओं के तांडव के बीच “तेलकटवा” गिरोह का आतंक
अमेरिका विश्व में भारत का सबसे बड़ा 14वां कर्जदार
कही कांग्रेस-भाजपा के हाईप्रोफाइल राजनीति-कूटनीति के शिकार तो नही हो रहे गुरूजी
बजट सत्र के बाद बदल जाएगा देश की उपरी सदन राज्यसभा का रंग
आरक्षण को लेकर राष्ट्रीय अनुसूचित जाति जनजाति आयोग का कड़ा रुख
मैदान छोड़ कहाँ भागे बाबूलाल मरांडी ?
पुलिस गिरफ्त में पुलवामा आतंकी हमले के वांछित नौशाद उर्फ दानिश की पत्नी एवं बेटी
हिरण्य पर्वत पर ही तथागत ने किया था अंतिम वर्षावास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter