झारखण्ड:इस बार होगी निर्णायक जंग !

Share Button

कौन बनेगा सीएम? आदिवासी या सदान ?

आसन्न झारखण्ड विधानसभा चुनाव के बाद नया मुख्यमंत्री पुनः आदिवासी नेता होगा या गैरआदिवासी यानि सदान वर्ग का ? इन दिनो समुचे प्रदेश मे एक प्रमुख चर्चा का विषय बना गया है. बिहार से अलग राज्य गठन के बाद पिछले नौ वर्षो मे शाषित सभी छः बार मुख्यमंत्री बदले गये. लेकिन बाबूलाल मरांडी,अर्जून मुण्डा, शिबू सोरेन से लेकर मधु कोडा तक. जिस तरह एक नई उम्मीद के साथ उन्हे सत्तासीन किया गया,वे जन भावनाओ पर खरे नही उतरे और उनमे सता संचालन की प्रतीभा की भा

री कमी देखी गई।

वेशक मौका मिलते ही उपरोक्त सारे आदिवासी नेताओ ने मौका मिलते ही लूट-खसोंट मे शामिल होकर राज्य की दूर्गति कर दी है।इन लोगो मे किसी को मौका मिलने का सीधा अर्थ है पूर्व के ‘तंत्र ’ को बिकसित करना. अन्य आदिवासी नेताओ मे जो प्रबल दावेदार के नाम सामने आ रहे है, वे मात्र कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप बलमुचू व पूर्व सांसद रामेश्वर उरांव है।जिनके पास मजबूत ईमानदार अनुभव नही मानी है.
उधर गैर आदिवासी यानि सदान समाज के नेता को भी इस बार मौका मिल सकता है। यदि भाजपा और कांग्रेस गठबन्धन बहुमत हासिल करता तो आदिवासी नेताओ की विफलता का मुद्दा रखकर भाजपा के पूर्व वित मंत्री यशवंत सिन्हा ,प्रदेश अध्यक्ष रघुवर दास ,पूर्व सांसद रामटहल चौधरी तथा कांग्रेस के वर्तमान केन्द्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय, पूर्व सांसद फुरकान अंसारी सरीखे लोग भारी दवाव बना सकते है. ये लोग खुद सत्तसीन हो सकते है या एक नई राजनीतिक समीकरण बना कर किसी अन्य सदान को आगे कर सकते है.
उल्लेख्ननीय है कि नाना प्रकार के समस्याओ का दंश झेल रहे झारखण्ड जैसे बदहाल प्रांत मे करीव 68 प्रतिशत सदान समाज के लोग रह्ते है, जबकि एक अदना गांवप्रधान से लेकर मुख्यमंत्री तक का पद मात्र 32 प्रतिशत आवादी वाली आदिवासी समुदाय ही संभालते आ रही है. जिसमे अपेक्षित योग्यता का नितांत अभाव है. वे लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था को भी अपनी ‘जंगली मान्यतायो’ के बल ही चलाना चाहते है.
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

पेड पर पाँच बार चढो-उतरो और नौकरी लो :शिबू सोरेन
सबाल "फिल्टर सिस्टम" का
कही ले न डूबे सुदेश मह्तो को उनकी रजनीतिक महत्वाकान्क्षा
सावधान !! सुअर की चर्बी खा रहे हैं हम और हमारे बच्चें
भज्जी के साथ अब बिजनेस भी करेगे धौनी
सुप्रीम कोर्ट ने कहा- 'आरे' पर मत चलाओ 'आरी', वेशर्म सरकार बोली- हमने काट लिए पेड़
बच सकती थी एम्स में आग से हुई तबाही, अगर...
ये हैं चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा और उन पर सवाल उठाने वाले 4 जज
कौन है रांची के इस चैनल का मालिक! कौन चला रहा है इसे!
भारतीय मीडिया में बढ़ रही है मर्डोकों की तादात
कश्मीर का आखिरी सुल्तान, जिसे बिहार के नालंदा में यहां क़ब्र मिली
आज-कल पारिवारिक कलह के भी शिकार हैं शिबू सोरेन
सरकार हमारे खिलाफ एफआईआर दर्ज करेः अन्ना हजारे
धौनी के बाद सुबोध महतो बने झारखंड की शान, कभी साथ खेले धौनी मे इर्ष्या इतनी कि दो शब्द भी न बोले, ने...
Jio यूजर्स को दूसरे नेटवर्क पर कॉलिंग के लिए कराने होंगे ये रिचार्ज
पाकिस्‍तान ने फिर पीठ में भोंका छुरा, दिया हिना रब्बानी को भारतीय सेना के 2 जवानों के सिर कलम का त...
दैनिक भाष्कर ने किया राँची में गुंडों का इस्तेमाल
पिछले चार साल मे लाखपति से अरबपति बने नीतिश के चहेते मंत्री हरिनारायण सिन्ह
सही सलामत घर लौटे निवर्तमान राजद विधायक का राज
वाह रे दैनिक हिन्दुस्तान ! भीड़ को गाली....खुद को ताली !!
भारत का विश्वास या अंधविश्वास? राफेल के पहियों के आगे रखवाई नींबू!
मोदी की गुरु दक्षिणा, आडवाणी बनेगें राष्ट्रपति !
आपके घर-जिले नालंदा में चिराग तले अंधेरा वाली कहावत चरितार्थ है सुशासन बाबू.
9वीं कक्षा की परीक्षा में पूछा सवाल, 'गांधी जी ने आत्महत्या कैसे की'? 😳

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter