सुप्रीम कोर्ट के आदेश से बुरे फंसे बिहार के शिक्षामंत्री

Share Button
बिहार मे शिक्षको की बहाली संबधी प्रक्रिया के बारे मे सुप्रीम कोर्ट के कडे आदेश के बाद नीतीश सरकार के गले मे पहले से अट्की ह्ड्डी अब और कडी हो गई है,वही उनके शिक्षामंत्री हरिनारयण सिंह अब बुरी तरह फंसते नजर आ रहे है. देश की सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार को यह आदेश दिया है कि वह करीव दो दशक से दर-दर की ठोकरे खा रहे कुल 34540 बेरोजगार प्रशिक्षित शिक्षको को 6 सप्ताह के भीतर नियुक्त कर सुचित करने का आदेश दिया है.
कह्ते है कि नीतीश सरकार इस न्यायपूर्ण फैसले को लागु न करने के बहाने तलाश कर रही है. सरकार की मंशा है कि इसे किसी न किसी प्रकार के पेंच मे फंसा कर टाला जाय.इसके तत्काल दो कारण बताये जा रहे है. पहला तो यह कि नीतीश सरकार के कथित सुशासन काल मे बडे पैमाने पर नियुक्त किये गये बतौर पंचायत-प्रखंड-नगर-जिला स्तरीय शिक्षको की बहाली-प्रक्रिया मे जिस तरह की मनमानी बरती गई है, उससे काफी थू-थू होनी तय है.दूसरा यह कि उनके चहेते शिक्षा मंत्री हरिनारायण सिन्ह बुरी तरह फँसगे क्योकि उन्होने शिक्षको की पूर्व बहाली मे जिस तरह की गोरखधन्धे की है,उसकी सारी कलई खुल कर सामने आ जायेगी. यही कारण है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश आने के तुरंत बाद ही बिहार कि शिक्षा मंत्री ने कहा कि आदेशानुसार शिक्षको की बहाली करना संभव नही है. उन्होने कहा कि इस मामले मे वे अपने स्तर से सुप्रीम कोर्ट मे शपथ-पत्र दाखिल कर बहाली करने हेतु 6 महीने से उपर की समय-सीमा मांग करेगे.राजनीतिक विश्लेषक मानते है कि शिक्षा मंत्री ने ये पैतरे अपने काले कारनामे छिपाने के लिये रच रहे है. अगले साल बिहार मे आम विधानसभा चुनाव होने है. ऐसे मे मंत्री चाहते है कि किसी न किसी प्रकार से चुनाव आचार सन्हिता लागू होने तक मामले को क्यो न टाल दिया जाय. अब देखना है कि लूट-खसोंट मे आकंठ डूबे ये “सुशासन कुमार” ये “बागड बिल्ला” बचते है या फंसते है.ऐसे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इनके जितने मधुर संबन्ध बताये जाते है, वे भी चाहेगे कि आने वाले चुनाव तक इस मामले को उभररने से रोका जाय न कि विरोधियो की मांग के अनुरूप मंत्रिमंडल के इस निकम्मे मंत्री को हटाकर अपनी छवि के अनुरूप मिसाल कायम की जाय.
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

अन्ना हजारे को जबरन उठा सकती है पुलिसः अरविंद केजरीवाल
प्रियंका चोपड़ा ने मैरी क्लेयर के लिए कराए ऐसे हॉट फ़ोटोशूट 
कही ले न डूबे सुदेश मह्तो को उनकी रजनीतिक महत्वाकान्क्षा
मुखबिर और ठग है दैनिक भास्कर का पत्रकार सुबोध मिश्रा !
नीतीश के साथ पटना में "आरक्षण" देखेंगे अमिताभ
सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की अनुशंसा पर हुआ *चीफ*-*जस्टिस* का तबादला
पिछले चार साल मे लाखपति से अरबपति बने नीतिश के ये चहेते मंत्री
केजरीवाल की हैट्रिक के साथ फिर चमके प्रशांत, नीतीश को कड़ा झटका
BRD मेडिकल कॉलेज में  मौतों का सिलसिला जारी, 48 घंटो में फिर 42 बच्चों की मौत
नहीं बदला है दैनिक हिन्दुस्तान का चरित्र
अन्ना के अनशन से छंट रही है धूंध
अन्ना को रामदेव न समझे सरकारः खुफिया विभाग ने दी चेतावनी
झारखंड मे कांग्रेस ने कई इतिहास रचा : सुषमा स्वराज
वंशवाद एक निकृष्टतम कोटि का आरक्षण
"भारतीय कानून के तहत"
झारखंड मे पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ फूंका बिगुल,उधर आद...
झारखण्ड : मामला राजद के निवर्तमान विधायक के नक्सली अपहरण का
राजनीति मे सब अपना है रे भाई!
समूचे देश में सजा है बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ के नाम पर ठगी का बाजार
वाह री झारखण्डी राजनीति! वाह री झारखण्डी मीडिया!!
5 साल की सजा के 48 घंटे बाद ही जमानत पर यूं रिहा हुआ सलमान
भज्जी के साथ अब बिजनेस भी करेगे धौनी
एक पत्रकार ने खोली सोहराबुद्दीन केस की असलीयत, कांग्रेस वेनकाब
BSNL देगी यूजर्स को फ्री 1जीबी डेटा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter