» हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!   » बेटी का वायरल फोटो देख पिता ने लगाई फांसी, छोटे भाई ने भी तोड़ा दम   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » बजट का है पुराना इतिहास और चर्चा में रहे कई बजट !   » BJP राष्‍ट्रीय महासचिव के MLA बेटा की खुली गुंडागर्दी, अफसर को यूं पीटा और बड़ी वेशर्मी से बोला- ‘आवेदन, निवेदन और फिर दनादन’ हमारी एक्‍शन लाइन   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार   » प्रसिद्ध कामख्या मंदिर में नरबलि, महिला की दी बलि !   » गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने वाले चर्चित पूर्व IPS को उम्रकैद   » इधर बिहार है बीमार, उधर चिराग पासवान उतार रहे गोवा में यूं खुमार, कांग्रेस नेत्री ने शेयर की तस्वीरें  

दिवंगत के परिजन से मिले नीतीश,ली ग्रमीणों की सुध

Share Button
हमारे संवाददाता
नालंदाः मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार को अस्थावां प्रखंड के अकबरपुर गांव पहुंचकर दिवंगत सामाजिक कार्यकर्ता प्रकाश प्रसाद के चित्र पर माल्यार्पण किया। इस दौरान वे दिवंगत के परिजनों से मिलकर दुख बांटे। दिवंगत के विकलांग पुत्र नागेश्वर प्रसाद उर्फ नागो से भेंट की। पुत्र वधू कंचन सिन्हा से भी क्षेत्र एवं परिवार का हाल-चाल लिया। उनके साथ जल संसाधन मंत्री विजय कुमार चौधरी थे। सीएम ने गांव में करीब 25 मिनट बिताया। ग्रामीणों ने वर्षो से बिजली और सड़क बदहाल रहने की शिकायत की। मुख्यमंत्री ने बिजली समस्या को लेकर विद्युत बोर्ड के अध्यक्ष को मोबाइल पर वहीं से तलब करते हुए बलवापर (अस्थावां) स्थित विद्युत सब केन्द्र को व्यवस्थित कर इससे जुडे़ गांवों में बिजली पहुंचाने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री पहले से अस्थावां क्षेत्र की जनभावना से अवगत दिखे। यही कारण है कि उन्होंने वहीं पर मौजूद विधायक डा. जितेन्द्र कुमार पर चुटकी लेते हुए उन्हें जनता के प्रति कर्तव्य का बोध कराया। इस मौके पर सत्तापक्ष के मुख्य सचेतक श्रवण कुमार, इसलामपुर विधायक राजीव रंजन, जदयू के वरिष्ठ नेता असगर शमीम, प्रदेश महासचिव डा. विपिन कुमार यादव, जिलाध्यक्ष सियाशरण ठाकुर, प्रवक्ता संजय कांत सिन्हा, महिला प्रकोष्ठ के अध्यक्ष अनीता सिंह, अति पिछड़ा प्रकोष्ठ के अध्यक्ष विपिन चन्द्रवंशी, रमेश कुमार नीरज, कौशलेन्द्र उर्फ छोटे मुखिया, प्रो. अशोक सिंह, अजीत कुमार, मुखिया शंभू शरण, उप मेयर नदीम जफर उर्फ गुलरेज, वरुण सिंह, चन्द्रकिरण, युवाध्यक्ष उपेन्द्र कुमार विभूति, अमरेन्द्र मुन्ना, आफताब आलम, जदयू के वरिष्ठ नेता प्रमोद नारायण सिंह, उप प्रमुख गिरिश चन्द्र सिंह, जिप सदस्य कंचन माला, बाबर मलिक, डा. वीरेश कुमार, पंकज कुमार, मुन्ना सिद्धिकी, वरुण सिंह उपस्थित थे।
Share Button

Related News:

ST-MT की गला दबाकर हत्या करने जैसी है CNT-CPT में संशोधन: नीतीश
सुप्रीम कोर्ट के जजों ने चीफ जस्टिस को लिखे 7 पन्नों के खत में ये हैं मुख्य बातें
दैनिक प्रभात खबर की यह कैसी पत्रकारिता
नीतीश की अबूझ कूटनीति बरकरारः अब RCP की उड़ान पर PK की तलवार
झारखंडी सत्ता का फिफ्टीकरण: ढाई साल तक "गुरूजी" मुख्यमंत्री और उसके बाद उनका बेटा हेमंत सोरेन बनेगा ...
कब टूटेगी झारखंडी नेताओ की संकीर्ण मानसिकता?
सबाल "फिल्टर सिस्टम" का
पूर्व मंत्री की बेटी के रेप के आरोपी निखिल IAS बाप के साथ उतराखंड में धराया
कांग्रेस की जन आकांक्षा रैली में राहुल गांधी का मोदी पर आक्रामक हमला
जमशेदपुर में एक हाई प्रोफाइल सेक्‍स रैकेट का भंडाफोड़ः तीन युवतियां समेत 6 धराए
बीए फेल धोनी को मिलेगी डॉक्टर ऑफ लॉ की डिग्री !
पागल हो गया है झारखंड का मुख्य सचिव!
कांग्रेस,भाजपा को छोडिये: देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दिल्ली में बैठकर प्याज छिलने के लिए है! ...
विकास(राँची)-बरही(हजारीबाग) एन.एच.-३३ फोलेनिंग में भारी अनियामियता व गबन-घोटाले की आशंका
कानून से बचने के लिए कलमाड़ी ने चली बचकाना चाल
ईमानदार नहीं,बेईमान प्रधानमंत्री हैं मनमोहन सिंह
श्रीलंका में 28 साल बाद खत्म हुआ आपातकाल
पंचायत चुनाव और उग्रवाद पर दिखा झारखंड के "गुरूजी" का नया अन्दाज
क्या राज्य सरकारें अपने सूबे में सीबीआई को बैन कर सकती हैं?
सुप्रीम कोर्ट के आदेश से बुरे फंसे बिहार के शिक्षामंत्री
बज गई आयोग की डुगडुगी, जानिए 7 चरणों में कहां, कब और कैसे होगा चुनाव
पत्रकार वनाम झारखंड सरकार की रेवड़ियां
हरनौत रेल कारखाना का निर्माण अंतिम चरण में
"ये झारखंड नगरिया तू लूट बबुआ"

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!  
error: Content is protected ! india news reporter