» तीन तलाक को राष्ट्रपति की मंजूरी, 19 सितंबर से लागू, यह बना कानून!   » तीन तलाक कानून पर कुमार विश्वास का बड़ा रोचक ट्विट….   » मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » बिहार के विश्व प्रसिद्ध व्यवसायी सम्प्रदा सिंह का निधन   » पत्नी की कंप्लेन पर सस्पेंड से बौखलाया था हत्यारा पुलिस इंस्पेक्टर   » कर्नाटक में सरकार गिरना लोकतंत्र के इतिहास में काला अध्याय : मायावती   » समस्तीपुर से लोजपा सांसद रामचंद्र पासवान का निधन   » दिल्ली की 15 साल तक चहेती सीएम रही शीला दीक्षित का निधन   » अपनी दादी इंदिरा गांधी के रास्ते पर चल पड़ी प्रियंका?   » हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!  

पिछले चार साल मे लाखपति से अरबपति बने नीतिश के चहेते मंत्री हरिनारायण सिन्ह

Share Button
समुचे देश मे “सुशासन कुमार” के नाम से चर्चित हो रहे बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार की कलई धीरे-धीरे खुलती नजर आ रही है. यदि यही हाल रहा तो अगले साल होने वाले आम विधानसभा चुनाव मे उनकी हालत काफी पतली होनी तय है.

वहरहाल बात करते है श्री कुमार के पैत्रिक जिले नालंदा की,जहाँ उनके सबसे करीवी विधायक सह मंत्रीमंडल सदस्य हरिनारयण सिन्ह है. जो इसके पूर्व लालू-मंत्रीमंडल मे वर्ष 1994 तक कबिना मंत्री थे और वे वर्ष 1995 का आम विधानसभा चुनाव मे नालन्दा जिले चंडी विधानसभा क्षेत्र से समता पार्टी के प्रत्याशी अनिल कुमार जो नीतिश के बुरे दिनो मे कांग्रेस पार्टी छोड कर नालन्दा जिले मे एक बडा सहारा बने थे,उनसे चुनाव हार गये.उसके बाद वर्ष 2000 मे आम विधानसभा चुनाव के एन पहले अचानक राजद की डूबती नैया देख हरिनारण सिन्ह समता पार्टी (अब जदयू) मे शामिल हो गये. नीतिश कुमार ने भी अपने सीटींग विधायक अनिल कुमार का टिकट काट कर उन्हे थमा दिया और लालू विरोधी लहर मे चुनाव जितकर वर्तमान मे नीतिश सरकार मे अत्यंत प्रभावशाली कैबनेट मंत्री (मानव संसाधन-शिक्षा विभाग) है. कहा जाता है कि पूर्व मे कांग्रेस के पांच वर्षो तक विधायक रहने के बाद समता पार्टी मे शामिल हुये श्री अनिल कुमार नालन्दा जिले मे अपनी युवातुर्क छवि के बल चंडी सीट से वर्ष 1995 मे पुनः चुनाव ही न जीता अपितु, उसके बाद हुये लोकसभा चुनाव मे श्री नीतिश कुमार की संसदीय जीत मे भी प्रमुख भूमिका निभाई थी.

कहते है कि बिहार के वर्तमान मानव संसाधन मंत्री हरिनारायण सिन्ह लालू मंत्रिमंडल मे लालू का “लल्लू” बनकर लखपति ही बने थे.लेकिन अब नीतिश के “लाल” बनकर करोडपति तो दूर अरबपति बन गये है. अपने क्षेत्र की योजनाओ समेत नालन्दा जिले के विभागीय परियोजनाओ से बडी कमाई हो रही है. इनके बडे पुत्र ने तो शिक्षक बहाली पक्रिया के दौरान अपने पिता के भ्रष्टाचार की सिर्फ कमान ही नही संभाली,अपितु एक फर्जी संस्था से सांठगांठ कर भारी पैमाने पर नकली शिक्षक प्रशिक्षण प्रमाण-पत्र का भी धन्धा किया है. सरकारी स्कूलो मे दोपहर का भोजन तैयार कर सप्लाई करने का प्रोजेक्ट भी दिल्ली की एक एनजीओ की मिलीभगत से अपने गांव की अपनी जमीन स्थापित कर मंत्री खुद लाखो डकार रहे है. उनके प्रायः भाई –भतीजे भी बिना किसी भय के सिर्फ लूट-खसोंट मे लगे है.
एनडीए यानि बिहार मे जदयू-भाजपा गठबन्धन की नीतिश सरकार मे शामिल इस मंत्री हरिनारायण सिन्ह की तुलना काली कमाई के मामले मे भ्रष्टाचार के आरोप मे फिलहाल जेल मे बन्द झारखंड के मधु कोडा सरकार के पूर्व निर्दलीय मंत्री हरिनारायण सिन्ह से की जा रही है.
यदि जांच कार्रवाई हो तो इस मंत्री के भी कलई खुलकर यूही सामने आ जायेगी. चूकि ये मुख्यमन्त्री नीतिश कुमार के काफी चहेते मंत्री है, इसलिये कोई भी इस ओर ऐसा कुछ करने की हिम्मत नही जुटा रहा है.लेकिन अब देखना यह है कि आकिर बकरे की माँ कब तक बकरे की खैर मनाती है.
Share Button

Related News:

देश के इन 112 विभूतियों को मिले हैं पद्म पुरस्कार
लंदन में सोशल साइटों के जरिये युवा फैला रहे हैं दंगा
वाह री झारखण्डी राजनीति! वाह री झारखण्डी मीडिया!!
चीनी सहयोग से छोड़ा गया पाकिस्तानी उपग्रह
"स्कीजोफ्रेनिया" के शिकार हैं शिबू सोरेन!
ई है सुशासन बाबू की नालन्दा नगरिया: सर्वत्र उठा सवाल,दोषी कौन?कुशासन या किसान?
बज गई आयोग की डुगडुगी, जानिए 7 चरणों में कहां, कब और कैसे होगा चुनाव
दिल्‍ली पुलिस और टीम अन्‍ना के बीच शर्तों का खेल जारी
दैनिक रांची एक्सप्रेस की यह कैसी चाटूकारिता?
अन्ना ने पीएम को चिठ्ठी लिख लताड़ा, कहा 15 अगस्त को झंडोतोलन का हक नहीं
राहुल ने मुंह खोला, कहा लोकपाल से नहीं मिटेगा भ्रष्टाचार
केन्द्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय बाल-बाल बचे : उनकी पिकनिक मे समर्थक ने शरीर मे आग लगाई
कही कांग्रेस-भाजपा के हाईप्रोफाइल राजनीति-कूटनीति के शिकार तो नही हो रहे गुरूजी
अन्ना को लेकर भाजपा में बगावत,यशवंत और शत्रुध्न सिन्हा का संसद से इस्तीफे की पेशकश
संजय यादव : विधायक नहीं,1नं.गुंडा है
भारत के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री चुप्प क्यों ?
कानून से बचने के लिए कलमाड़ी ने चली बचकाना चाल
ईमानदार नहीं,बेईमान प्रधानमंत्री हैं मनमोहन सिंह
उबकाई क्यों लाते हो खबरिया भाई....
"झारखण्ड:उग्रवादियों से सांठ-गांठ कर अपना प्रभाव है इसाई मिशनरियां"
वैशाली के 3 डीएसपी, 50 इंस्पेक्टर समेत 66 पर एक साथ एफआइआर
"ये झारखंड नगरिया तू लूट बबुआ"
गाँव के गरीब महिलाओं तक को यूं टरकाते हैं मुख्यमंत्री नीतीश के सुशासित अधिकारी
हाय री झारखण्डी राजनीति! हाय री झारखण्डी मीडिया!!

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां  
error: Content is protected ! india news reporter