आखिर खुद कायदा-क़ानून तोड़कर यह कैसा सन्देश देना चाहते हैं बिहार के ” सुशासन बाबू” यानी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

Share Button
बिहार के पिछड़े वर्ग के नेताओं का कोई सानी नहीं है.आजादी के करीव चार दशकों तक एकछत्र राज करने वाले राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव हों या वर्तमान में जद(यू)के कद्दावर नेता व राज्य के लोकप्रिय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार.लालू जी ने बिहार की सत्ता के शीर्ष पर रहते हुए कुछ ऐसी गलतीयाँ की थी,जिसका परिणाम सामने है और वे सत्ता से काफी बाहर दिखाई दे रहें है.आज कल देश में सुशासन बाबू के नाम से चर्चित हो रहे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी सत्तामद या कहिये लोकप्रियातामद में चूर होकर कुछ ऐसा ही कदम उठा रहे हैं जो उनके राजनीतिक जीवन हेतु घातक कदम साबित हो सकता है.सच पूछिए तो बिहार की सामाजिक बनाबट के आलोक में निश्चित तौर पर उन्हें नुकसान होगा हीं.
भारतीय संसद के दोनों सदनों में बहुप्रतीक्षित महिला आरक्षण बिल के मुद्दे पर नीतीश कुमार ने जो रवैया अपनाया,वह उनकी पार्टी जद(यू)को लेकर कई सवाल खड़े करते हैं.पहला ये कि क्या किसी महत्वपूर्ण पद पर बैठा व्यक्ति अपने राजनीतिक दल की मर्यादाओं से ऊपर होता है? यदि होता है तो नियम सिर्फ दल के कद्दावर नेताओं पर ही क्यों लागू होता है.आम कार्यकर्ताओं/ नेताओं पर लागू क्यों नहीं होता? वेशक नीतीश जी के आँखों पर उन्हीं की वर्णवादी मीडीया छवि ने एक ऐसा पर्दा डाल दिया है,जिसके पार उन्हें कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा है.आखिर शरद यादव जैसे अनुभवी पार्टी अध्यक्ष व समाजवादी नेता के महिला आरक्षण बिल में सुधार की बात को सीधे नकार देना उनकी “हिटलरशाही” को ही इंगित करती है.जिसका आरोप उनपर आये दिन चर्चित रहा है. लगता है कि विगत विधानसभा उपचुनाव से उन्होंने कोई सबक नहीं ली है. जिसमें वे बुरी तरह से मात खाये थे. सिर्फ “लालू के भूत” का भय दिखाकर बिहार जैसे संवेदनशील आवाम को जनमत में तब्दील नहीं किया जा सकता.लालू जी ने पूर्व में जो “कांग्रेस की कुत्सित मानसिकता “का भयावहः चेहरा दिखाकर अधिक दिनों तक राज करने का मूल कारण वैकल्पिक विपक्ष का न होना था.लेकिन नीतीश जी के सामने वैसी स्थिति नहीं है.उनका विचारहीन रवैया उन्हें निश्चित तौर ले डूबेगा.
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

राष्ट्रपति शासन की और बढ़ रहा है झारखंड
''ये है झारखण्ड नगरिया तू लूट बबुआ''
गैर कांग्रेसी राज्यों व वहाँ के लोगों को धमकी दे रहे हैं राहुल : नीतीश कुमार
नागफनी के कांटो से घिरे झारखंड के मुख्यमंत्री: देखना है कि क्या कर पाते है?
ये हैं भारत के प्रमुख मीडिया हाउस और उसके मालिक
झारखंडी पत्रकारिता के बाबा की निगरानी के बाद भी दैनिक सन्मार्ग की ये हालत!
5 माह से भटके तादलकोंडा को इंसाफ इंडिया ने यूं परिजनों से मिलाया
मीडिया की ABCD का ज्ञान नहीं और चले हैं पत्रकार संगठन चलाने
जंतर मंतर पर अनशन की इजाजत नहीं, अन्ना जाएंगे सुप्रीम कोर्ट
कर्नाटक के सीएम येदुरप्पा अवैध खनन मामले में 1800 करोड़ रु.के घोटाले के दोषी करार, फिर भी पद नहीं छो...
पूर्व मंत्री की बेटी के रेप के आरोपी निखिल IAS बाप के साथ उतराखंड में धराया
झारखण्ड : कौन बनेगा भाजपा का सीएम?
राम जाने क्या होगा आगे? रजनीतिक गर्दिश मे है झारखंड.
फैसले से पहले CJI को Z प्लस, अन्य सभी 4 जजों की बढ़ी सुरक्षा
अंग्रेजों के भी बाप निकले हमारे आजाद देश के नेता
राष्टीय आंदोलन वनाम बाबा रामदेव और अन्ना हजारे
Keep the faith, keep up the fight :Arvind Kejriwal
बिहार में क़ानून व्यवस्था की ताजा स्थति से संतुष्ट हैं नीतीश कुमार
मुझे माफ करना अन्ना,मैं इन दलालों पर शर्मिंदा हूं.....
शिबू सोरेन:झारखंड का सबसे कद्दावर नेता
कब तक चलेगी झारखंड मे गुरूजी की सरकार? मंत्रिमंडल गठन के बाद पार्टी मे भूचाल तो आवंटित विभाग के बाद ...
लंदन में दंगा जारी, अब तक 500 युवक गिरफ्तार
सीएम अर्जुन मुंडा के प्रेस कॉन्फ्रेस में हावी रहे झारखंड के चिरकुट पत्रकार
संविधान के उपर संसद का प्रभुत्व नहीं :सुप्रीम कोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter