बिहार:देश में आखिर पिछड़ों,दलितों,अकलियतों का सबाल तो है हीं नीतीश जी

Share Button
बिहार के पिछड़े वर्ग के नेताओं का कोई सानी नहीं है.आजादी के करीव चार दशकों तक एकछत्र राज करने वाले राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव हों या वर्तमान में जद(यू)के कद्दावर नेता व राज्य के लोकप्रिय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार.लालू जी ने बिहार की सत्ता के शीर्ष पर रहते हुए कुछ ऐसी गलतीयाँ की थी,जिसका परिणाम सामने है और वे सत्ता से काफी बाहर दिखाई दे रहें है.आज कल देश में सुशासन बाबू के नाम से चर्चित हो रहे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी सत्तामद या कहिये लोकप्रियातामद में चूर होकर कुछ ऐसा ही कदम उठा रहे हैं जो उनके राजनीतिक जीवन हेतु घातक कदम साबित हो सकता है.सच पूछिए तो बिहार की सामाजिक बनाबट के आलोक में निश्चित तौर पर उन्हें नुकसान होगा हीं.
भारतीय संसद के दोनों सदनों में बहुप्रतीक्षित महिला आरक्षण बिल के मुद्दे पर नीतीश कुमार ने जो रवैया अपनाया,वह उनकी पार्टी जद(यू)को लेकर कई सवाल खड़े करते हैं.पहला ये कि क्या किसी महत्वपूर्ण पद पर बैठा व्यक्ति अपने राजनीतिक दल की मर्यादाओं से ऊपर होता है? यदि होता है तो नियम सिर्फ दल के कद्दावर नेताओं पर ही क्यों लागू होता है.आम कार्यकर्ताओं/ नेताओं पर लागू क्यों नहीं होता? वेशक नीतीश जी के आँखों पर उन्हीं की वर्णवादी मीडीया छवि ने एक ऐसा पर्दा डाल दिया है,जिसके पार उन्हें कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा है.आखिर शरद यादव जैसे अनुभवी पार्टी अध्यक्ष व समाजवादी नेता के महिला आरक्षण बिल में सुधार की बात को सीधे नकार देना उनकी “हिटलरशाही” को ही इंगित करती है.जिसका आरोप उनपर आये दिन चर्चित रहा है. लगता है कि विगत विधानसभा उपचुनाव से उन्होंने कोई सबक नहीं ली है. जिसमें वे बुरी तरह से मात खाये थे. सिर्फ “लालू के भूत” का भय दिखाकर बिहार जैसे संवेदनशील आवाम को जनमत में तब्दील नहीं किया जा सकता.लालू जी का पूर्व में जो “कांग्रेस की कुत्सित मानसिकता “का भयावहः चेहरा दिखाकर अधिक दिनों तक राज करने का मूल कारण वैकल्पिक विपक्ष का न होना था.लेकिन नीतीश जी के सामने वैसी स्थिति नहीं है.उनका विचारहीन रवैया उन्हें निश्चित तौर पर ले डूबेगा और वे कभी “फीलगुड” का नारा देने वाले देश के सम्मानित नेता पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी की तरह अपने “कथित सुशासन ” को अपनी गोद में लेकर सत्ता के हासिये पर प्याज छिलते नज़र आयेगें.
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

SC का यह फैसला CBI की साख बचाने की बड़ी कोशिश
झारखंड के मुख्यमंत्री शिबू सोरेन में "स्कीजोफ्रेनिया" के लक्षण
सुनो एक कन्या भ्रूण की चित्कार
इस बार उखड़ सकते हैं नालंदा से नीतीश के पांव!
!!!!भारत को कहां ले जाना चाहती है ये अधकचरी महिलाएं!!!!
बिहार के कीर्ति आजाद का दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष बनना तय
मिशन शक्ति पर मोदी का राष्ट्र संदेश पहुंचा चुनाव आयोग, मांगी संबोधन की कॉपी
जातिवाद व वर्गवाद को बढावा देती दैनिक हिन्दुस्तान
अनिल अंबानी के नहीं आए अच्छे दिन, तिलैया अल्ट्रा मेगा पावर प्रोजेक्ट रद्द
कोलकाता पुलिस की बड़ी कार्रवाई, पूर्व सीबीआई निदेशक के ठिकानों पर छापेमारी
रजरप्पा : मां के आंचल में महापाप का तांडव और मीडिया-3
आखिर अन्ना इतने जिद्दी क्यों हैं !
सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के बीच जूतमपैजार :न्यायायिक व्यवस्था पर उठे सवाल
झारखंड विधानसभा चुनाव:रांची जिला, रांची क्षेत्र के उम्मीदवारो को मिले मत
ममता की रैली में शामिल हुए भाजपा के 'शत्रु', पार्टी ने दिए कार्रवाई के संकेत
महाराष्ट्र विधानसभा में कसाब को फांसी देने की मांग को लेकर विपक्ष का हंगामा
पांच राष्ट्रीय भ्रम और उनकी वास्तविकताएं
पुलिस तंत्र के खौफ की कहानी है ‘द ब्लड स्ट्रीट’
बढ़ते अपराध को लेकर सीएम की समीक्षा बैठक में लिए गए ये निर्णय
झारखंड की जीत के रंग में सने दिखे राहुल गांधी
मॉम के रुप में श्रीदेवी का दिख रहा भावुक अंदाज
अफजल गुरू की दया याचिका खारिज करें राष्ट्रपतिः गृह मंत्रालय की अनुशंसा
गोविन्दाचार्य ने सुप्रीम कोर्ट से की रोहिंग्या शरणार्थियों को भारत से बाहर करने की मांग
अनशन में अन्ना पीते हैं विटामिन मिला पानीः जी. आर. खैरनार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter