बिहार:सुशासन मे छुपी है घोर कुशासन

Share Button
वेशक कभी बिहार की छाती पर बीस सालो तक मुंग दल कर एकछत्र राज करने वाले राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की सत्ता पतन के बाद जब राज्य मे व्याप्त कुव्यवस्था,आतंक,भ्रष्टाचार जैसे मुद्दे लेकर श्री नीतिश कुमार के नेत्रित्व मे एनडीए यानि भाजपा-जदयू गंठबन्धन की सरकार बनी तो देश मे एक नया मैसेज गया.वह मैसेज था बिहार के करवट लेने का.श्री कुमार को जाति,वर्ग धर्म से उपर उठकर जिस तरह का जनसमर्थन मिला,वे एक परिपक्व लोकतंत्र के मिशाल माने गये. लेकिन आज नितिशराज के करीव चार वर्ष से उपर हो रहे है और अब उनके जनसमर्थको मे यह सवाल तेजी से उभर रहा है कि प्रारंभिक दौर मे सुशासन और विकास के प्रयास तो उपरी तौर पर दिखे,लेकिन अन्दरूनी तौर पर काफी घाल-मेल है.खासकर ग्रामीण क्षेत्रो मे शासन-व्यवस्था और भी लच्चर होती जा रही है.

जिस तरह केन्द्र सरकार के निकम्मेपन से महँगाई आसमान छू रही है.ठीक उसी अनुपात मे सर्वत्र रिश्वतखोरी व कमीशनबाजी लोगो की कमर तोड रही है.इस सन्दर्भ मे राजधानी पटना,बैशाली,मुज़फ्फरपुर,मोतिहारी,दरभंगा,हाजीपुर,छपरा,सासाराम,जहानाबाद,गया व उससे जुडे जिला क्षेत्रो तो दूर मुख्यमंत्री नीतिश कुमार के गृह क्षेत्र नालन्दा का आंकलन करने पर स्थिति काफी भयावह नजर आती है.पुलिश थानो मे पहले सत्य घटनाओं की प्राथमिकी 200रूपये से 500रूपये का नजराना चढाने से दर्ज हो जाती थी,लेकिन अब 500रूपये से 2000रूपये से भी उपर हो गई है.जाति प्रमाण पत्र,आय प्रमाण पत्र,आवासीय प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र आदि बनाने की दर भी रिश्वतखोरो ने 10-20 रूपये की जगह 50-100रूपये तक बढा दी है.खेती-बारी की जमीनो के वैध खरीदगी मे निबन्धन से लेकर दाखिलखारीज तक की प्रक्रिया प्रति कठ्ठा 5000रूपये का चढावा चढाना पड रहा है. जनवितरण प्रणाली की दूकाने पूर्णतः कालाबाजारियो के कब्जे मे है.आंगनवाडी केन्द्र सेविकाओ के आंगन तक ही सीमित है.

समुचे नालन्दा जिले मे ग्रामीण विकास योजनाओं का आलम यह है कि पूर्व क्रियांवित एक ही योजना का प्राकल्लन तैयार कर मुखिया,पंचायत समिति,जिला परिषद,विधायक,सांसद मद की योजना बता सब के सब हड़पने मे लगे है.

मुख्यमंत्री की महात्वांकाक्षी शिक्षक बहाली घोषणा भी उनके जिला क्षेत्र मे मजाक बन कर रह गई. प्रतिभाशाली व योग्य अभियर्थिओ को नजरन्दाज कर शिक्षा माफियाओ ने 2लाख से 5लाख रूपये लेकर अयोग्य नकली डिग्रीधारी लोगो की बडे पैमाने पर बहाली की.इस मामले मे जिला प्रशासन से लेकर मुख्यमंत्री तक शिकायत करने पर भी इस सन्दर्भ मे कोई जांच कार्रवाई नही हो रही है और हताश-कुंठा का शिकार बन घर बैठे है.

अब सवाल उठता है कि क्या बिहार के “सुशासन कुमार” और उनके जिले के आठो विधायक व चहेते सांसद से ये सब छुपी हुई है या फिर इस कुशासन मे आकंठ डूबे हुये है? वेशक ये सवाल मुख्यमंत्री को भी अपनी परिधि मे ले लेता है.
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

रामलीला मैदान में डायरिया का प्रकोपःटीमअन्ना खिसियानी बिल्ली और सरकार खामोश
महाराष्ट्रः सोनिया-पवार छत्रछाया में आज से ठाकरे राज
बिहार के साहब के सामने लोग चिल्लाए- मुर्दाबाद, वापस जाओ!
कांग्रेस की मैडम सोनिया और युवराज राहुल जी: ई आपकी पार्टी की सरकार की राजनीति है या गुंडागर्दी?
"प्रभात ख़बर औए ३६५ दिन में सौतन-डाह"
उबकाई क्यों लाते हो खबरिया भाई....
सरकार बताए कि MBBS छात्राओं पर पुरुष पुलिस ने क्यूं की ऐसी बर्बरताः हाई कोर्ट
नोटबंदी फेल, मोदी का हर दावा निकला झूठ का पुलिंदा
बीए फेल धोनी को मिलेगी डॉक्टर ऑफ लॉ की डिग्री !
'72 हजार' पर भारी पड़ा ‘चौकीदार’
लापरवाही की हदः गोरखपुर BRD मेडिकल कॉलेज में 5 दिनों में 60 की मौत
अमर सिंह के साथ पूछताछ अन्याय : मुलायम
कठुआ रेप केस: कोर्ट ने SIT के 6 सदस्यों के खिलाफ दिए FIR दर्ज करने के निर्देश
मुखबिर और ठग है दैनिक भास्कर का पत्रकार सुबोध मिश्रा !
स्विस इकोनोमी के लिए सबसे बड़ा खतरा बने रामदेव बाबा
झारखण्ड:इस बार होगी निर्णायक जंग !
महागठबंधन की तस्वीर साफ, लेकिन कन्हैया पर नहीं बनी बात
वाह री झारखण्डी राजनीति! वाह री झारखण्डी मीडिया!!
मोदी की गुरु दक्षिणा, आडवाणी बनेगें राष्ट्रपति !
बिहारशरीफ में घुसा पंचाने नदी का पानी,नालंदा जिले में बाढ़ की स्थिति
झारखंड : राजीव गांधी उद्यमी मित्र योजना या स्वंय सेवी संस्थाओं कमाई का जरिया!
समूचे देश में सजा है बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ के नाम पर ठगी का बाजार
अब पश्चिम बंग कहलाएगा पश्चिम बंगाल !
पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव को लेकर आदिवासी और सदान आमने-सामने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter