राहुल के बयान से संघीय शासन व्यवस्था को खतरा: नीतिश

Share Button
बिहार के मुख्यमंत्री व जदयू नेता नीतिश कुमार ने कांग्रेस के युवानेता राहुल गाँधी के झारखण्ड चुनावी दौरे के दौरान “कांग्रेस को सत्ता दे,हमारी पार्टी अपनी बन्द मुठ्ठी खोल देगी तथा बिहार व उत्तर प्रदेश के दौरे के दौरान “ यहाँ विकास राशि न पहुँचने का कारण कान्रेस की सरकार का न होना है ” जैसे वयान पर कडी प्रतिक्रिया व्यक्त की है और कहा कहा है कि पहले वे राहुल की बातो को उनकी बचपना समझ कर गंभीरता से नही लेते थे लेकिन अब लगता है कि वे अपने पार्टी के शीर्ष रणनीतिकारो के ईशारे पर देश की संघीय ढांचे को तोडने पर आमादा है. श्री कुमार ने कहा कि उनके इस तरह के वयान से साफ जाहिर होता है कि वे सीधी तौर पर गैर कांग्रेसी राज्यो की सरकारो और उनकी समर्थको को धमकी दे रहे है.उन्होने कहा कि वे शीघ्र ही इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री और राष्टपति से बात करेगे.

उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री ने बिहार की विभीषिका को अपने आँखो से देखा और उसे राष्ट्रीय आपदा मानते हुये विशेष सहाता पैकेज देने की घोषणा की थी लेकिन आज तक लाख मांग के बाबजूद उनके स्तर से कोई ध्यान नही दिया जा रहा है.
उन्होने कहा कि जिस समय अलग राज्य का गठन हुआ था,उस समय बिहार मे मायूसी और झारखंड मे जश्न का महौल था.लेकिन,वक्त बदला,आम जनता के इरादे बदले और आज प्रस्थितियाँ उलट गई है. बिहार मे अब जहाँ खुशहाली का आलम है वही,झारखंड के सवा तीन करोड जनता के बीच अपने भविष्य को लेकर मायूसी का मंजर है.
श्री कुमार ने एक सवाल के जबाब मे कहा कि बिहार और झारखंड मे यूपीए पूरी तरह से बिखरा हुआ है.कांग्रेस ने बलि के नये बकरे के रूप मे झाविमो के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी को चुना है.अभी सत्ता के लालच के सामने मरांडी को कुछ नही सूझ रहा है,चुनाव बाद उन्हे सब समझ मे आ जायेगा.

उन्होने कहा कि झारखंड मे कांग्रेसनीत यूपीए द्वारा एक निर्दलीय विधायक को मुख्यमंत्री बनाकर भ्रष्टाचार का का जो घिनौना खेल खेला गया,उसका परिणाम सामने है.आज यूपीए के राजद,लोजपा,झामुमो,कांग्रेस सरीखे दल अपनी जिम्मेवारी से यह कहकर बचने की फिराक मे है कि वे तो बाहर से समर्थन दे रहे थे. उन्होने सवालिये लहजे मे कहा कि क्या झारखंड जैसे अति संवेदनशील प्रांत को 23 महीनो तक 81 सदस्यीय विधानसभा मे 5-6-निर्दलीयो की सरकार रही?श्री कुमार ने स्पष्ट कहा कि यहाँ मधु सबने पिया और कोढा सिर्फ कोडा को मारा जा रहा है.उनके संरक्षक लोगो के खिलाफ तो कोई ध्यान ही नही दे रहा है.
0 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise
Share Button

Related News:

न.1अखबार का 2नंबरिया संवाददाता
आपके घर-जिले नालंदा में चिराग तले अंधेरा वाली कहावत चरितार्थ है सुशासन बाबू.
ये न्यूज़ चैनल नहीं, अभिशाप है
अन्ना को धन्यवाद,लेकिन उनका आंदोलन लोकतंत्र के लिए खतरनाकः राहुल गांधी
झारखंड का कोई भी नेता नीतीश कुमार क्यो नही बनना चाहता?
गाँव के गरीब महिलाओं तक को यूं टरकाते हैं मुख्यमंत्री नीतीश के सुशासित अधिकारी
मेरी सरकार को बिहार की जनता देगी प्रमाण-पत्र न कि राहुल गांधी या कोई और : नीतीश कुमार
जॉर्ज साहब चले गए, लेकिन उनके सवाल शेष हैं..
भाडे की ईंट,भाडे का रोडा :“गुरुजी” ने जोडा कुनबा
झारखण्ड:कौन बनेगा सीएम?तीसरी बार अर्जून मुण्डा!
गोरखपुर BRD मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लाई ठप होने से 30 बच्चों की मौत
!!! कानून की कौन सी किताब पढ़ी है दिल्ली हाई कोर्ट के इस जज ने !!!
अर्जुन मुंडा को ये बात भी समझनी होगी
एक करोड मे एस.पी. और 20 लाख मे डी.सी. का पद निलाम होता है झारखंड मे!
झारखंड के पूर्व स्वास्थ्य सचिव प्रदीप कुमार को जेल
सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के बीच जूतमपैजार :न्यायायिक व्यवस्था पर उठे सवाल
झारखंड मे कांग्रेस का अब “राम नाम सत्य” होगा:लालू
केट अपटन की हॉट कातिल अदाएं
संवैधानिक व्यवस्था से भी ऊपर है कांग्रेस:नीतीश कुमार
बुढ़ापे में दाने-दाने को मोहताज रहे आत्महत्या(!!) करने वाला हिंसावादी कानू सान्याल.
झारखंड मे पेसा अधिनियम को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर उठ रहे सवाल : वेशक ये कानून अन्धा है?
कर्नाटक का 'नाटक' का अंत, येदियुप्पा का इस्तीफा
पत्नी अपूर्वा शुक्ला ने की थी रोहित शेखर तिवारी की गला दबा हत्या
यूपी-उतराखंड में जहरीली शराब का कहर, अब तक 100 से उपर मौतें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter