आशाराम बापू : कानून से उपर का संत या अपराधी?

Share Button
इन दिनो संत आशाराम बापू सुर्खियो मे है.उन कारणो मे मै नही जाना चाहता हूँ.लेकिन गौर से पढिये एक अखबार मे प्रकाशित इस समाचार को.इसे पढने के बाद आप खुद महसूस करेगे कि क्या एक संत को इस तरह का अहंकारी विचारधारा पालनी चाहिये? खासकर भारत जैसे विश्व के सबसे बडे लोकतांत्रिक देश मे उन्हें कानून से उपर माननी चाहिये.क्या उन्हें गिरफ्तार करने पर सरकार तक गिर जायेगी.
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

मुख्यमंत्री नीतीश जी, देखिये कैसे "आपके" सुशासन की मजाक उड रही है आपके घर-जिले नालन्दा मे ही!!
मास्टरमाइंड PK ने डुबोई कांग्रेस की लुटिया
कोलकाता पुलिस की बड़ी कार्रवाई, पूर्व सीबीआई निदेशक के ठिकानों पर छापेमारी
!!! भारतीय बाबाओं का उद्योगपति घराना’!!!
कहीं फिल्म पीपली लाइव का नत्था बन कर रह न जाएं अन्ना हजारे
5 माह से भटके तादलकोंडा को इंसाफ इंडिया ने यूं परिजनों से मिलाया
हनी ट्रैप के आरोपी महिला के लॉकर में मिले 60 लाख नगद और 37 लाख के जेवर
अमिताभ बच्चन और पटना के अधकचरे पत्रकार
कांग्रेस,भाजपा को छोडिये: देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दिल्ली में बैठकर प्याज छिलने के लिए है! ...
उग्र आंदोलन की ओर बढ़ रहे हैं विकास(राँची) से ओरमाँझी के बीच एन.एच.-33 के विस्थापित
प्रसिद्ध भजन गायक की पुत्री-पत्नी समेत गला काटकर हत्या, लापता पुत्र का शव-कार जलाते एक धराया
‘द लाई लामा’ मोदी की पोस्टर पर बवाल, FIR दर्ज
...और खून से लथपथ इंदिरा जी का सिर अपनी गोद में रख सोनिया चल पड़ी अस्पताल
झारखंड: सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराने को लेकर दोनो उपमुख्यमंत्री ...
अनशन में अन्ना पीते हैं विटामिन मिला पानीः जी. आर. खैरनार
गुजरात मॉडलः एक्जाम में सभी 199 जज और 1372 वकील फेल, रिजल्ट शून्य!
भाजपा सांसदों ने रोकी नोटबंदी पर संसदीय समिति की रिपोर्ट
चकला गाँव को गोद लेने का ढोंग रचकर एक एन.जी.ओ.के सहारे ठगी का धंधा किया एच.डी.एफ.सी.बैंक ने!
आरक्षण को लेकर राष्ट्रीय अनुसूचित जाति जनजाति आयोग का कड़ा रुख
झारखंड के हित मे नही है सुप्रीम कोर्ट का फैसला, प्रदेश सरकार इसपर पुनर्विचार करे : पूर्व सांसद रामटह...
जबरन खाना दिया तो अन्ना हजारे पानी भी न पीय़ेंगें
झारखंड: झामुमो-भाजपा के बीच सत्ता का फिफ्टीकरण
कूटनीतिः ‘पैगाम-ए-खीर’ के निशाने पर कमल-तीर
झारखंड : न्यायालय व प्रेस अधिनियमों की धज्जियाँ उड़ा रहा है "दैनिक भास्कर"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter