स्विस इकोनोमी के लिए सबसे बड़ा खतरा बने रामदेव बाबा

Share Button

अन्ना हजारे भारत में जन लोकपाल की मांग कर रहे हैं, जबकि बाबा रामदेव विदेशों में जमा काले धन की वापसी की मांग कर रहे हैं.अन्ना की मांग को लेकर जहां भारत में जिच कायम है वहीं,बाबा रामदेव की काला धन वापस लाओ मुहिम ने स्वीस इकोनोमी में हड़कंप मचा दिया है.

स्विस बैंक एसोसिएशन और स्विस बैंको के अनुसार पन्द्रह लाख करोड डॉलर की भारी कमी आने से स्विस इकोनोमी को खतरा पैदा हो गया है. वहां के सारे अखबारों और टीवी डिबेट में इसे ष्रामदेव इफेक्टष् कहा जा रहा है.स्विस बैंको में सबसे ज्यादा काला धन भारत से जमा होता है
उसके बाद  चीन और रूस का नम्बर आता है. बाबा रामदेव के अभियान से प्रभावित होकर चीन और रूस में भी काले धन के वापस लेन की जोरदार मुहीम चल रही है.
चीन सरकार ने अरब देशो में हुई क्रांति से डरकर तुरंत ही एक कानून बना कर स्विस सरकार से सारा ब्योरा मांगा है और काले धन विदेश में जमा करने वालो को मृतुदंड देने की कानूनी बदलाव किया है.रूस में भी पिछले कई दिनों से लोग काले धन के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं.आखिरकार रुसी सरकार ने भी २ महीने में सारे काले धन को वापस लेन का देश की जनता को लिखित आश्वाशन दिया है.रूस के सामाजिक कार्यकर्ता और रूस में काले धन के खिलाफ आन्दोलन चला रहे बदिमिर इलिनोइच ने बाबा रामदेव को प्रेरणास्रोत मानकर अपना आन्दोलन चला रखा है.
स्विटरजरलैंड के लगभग सभी अखबारों जैसे स्विस टुडे, स्विस इलेस्ट्रेटेड, और टीवी चनेलो के अनुसार… भारत में भी कांग्रेसनीत यूपीए सरकार उपरी मन से चाहे जो कुछ भी कहे लेकिन, उसे भी अब जनता के जागरूक होने का डर सताने लगा है . कांग्रेस इस देश की टीवी चनेलो और अखबारों को तो खरीद या दबा सकती है लेकिन, भारत में तेजी से उभर रही न्यू मीडिया वेब पोर्टल,फेसबुक,ट्विटर, पर चाहकर भी वो प्रतिबन्ध नहीं लगा सकती.
 एक सर्वे में पाया गया है की इन्टरनेट पर कांग्रेस के खिलाफ जोरदार अभियान चल रहा है और ये अभियान कोई पार्टी नहीं चला रही है बल्कि इस देश के जागरूक और शिछित युवा चला रहे है जिनका किसी भी राजनितिक पार्टी से कोई लेना देना नहीं है.
बाबा रामदेव ने जो मुद्दे इस देश के सामने रखे है, कांग्रेस उसे झुठला नहीं सकती. बाबा रामदेव ने अपना अनशन कोई हिन्दुत्ववादी मुद्दों को लेकर नहीं किया था.असल में इस देश में भ्रष्टाचार से मुस्लिम समाज ज्यादा ही पीड़ित है क्योंकि, अशिक्षा और वोट बैंक की राजनीति ने मुस्लिम समाज को हमेशा ठगा है.यह बात अब मुस्लिम समुदाय के लोग भी मानने लगे हैं.
स्विस बैंक एसोसिएशन और स्विस बैंक इस तत्थ पर व्यापक मंथन कर रही है कि एक तरफ कांग्रेस बाबा रामदेव के आन्दोलन को गलत बता रही है लेकिन, मारीशस के साथ हुई टैक्स संधि जो कांग्रेस ने अपने नेताओं और सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट बढेरा के फायदे के लिए की थी.उसको समाप्त करने के लिए बाबा ने आन्दोलन किया और बाध्य होकर उसे अब सरकार क्यो समाप्त करने जा रही है ?
(मुकेश भारतीय)

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

देखिएः डेक्कन कॉलेज सभागार पुणे में ‘स्वामी विवेकानंद’ नाट्य मंचन की प्रमुख छवियां
विदेश सचिव का बयान- सिर्फ आतंकी थे टारगेट, 300 मारे गए   
अमर सिंह के साथ पूछताछ अन्याय : मुलायम
सुप्रीम कोर्ट के आदेश की चपेट मे आये बिहार के शिक्षा मंत्री
अन्ना हजारे के अनशन पर लगाईं गई शर्तें मौलिक अधिकारों का हननः गडकरी
अन्ना के अनशन को लेकर चिंतित है अमेरिका!
5 माह से भटके तादलकोंडा को इंसाफ इंडिया ने यूं परिजनों से मिलाया
फिर विवादो के घेरे मे आया रांची का 365दिन चैनल
Keep the faith, keep up the fight :Arvind Kejriwal
कांग्रेस के चौतरफे हमले में घिर रहे हैं अन्ना
नेताओं के निकम्मेपन के बीच शिबू परिवार की अंदरूनी कलह का विकृत नतीजा है झारखंड के ताजा सूरत
बाबा रामदेव पर आया राखी सावंत का दिल, शादी की ईच्छा जताई
शत्रु संपत्ति कानून संशोधन विधेयक 2017 को संसद की मंजूरी
झारखंड मे पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ फूंका बिगुल,उधर आद...
IAS की तर्ज पर AIJS परीक्षा की कवायद शुरु,  CJI के साथ होगी PM की मीटिंग
अन्ना की गिरफ्तारी के विरोध में सड़कों पर जन सैलाब उमड़ा
बढ़ते अपराध को लेकर सीएम की समीक्षा बैठक में लिए गए ये निर्णय
लापरवाही की हदः गोरखपुर BRD मेडिकल कॉलेज में 5 दिनों में 60 की मौत
16000 करोड़ रु. के खनन घोटाले में फंसे कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने इस्तीफा दिया
काफी दुर्भाग्यजनक है सुदेश महतो की राजनीतिक महत्वाकान्क्षा
प्रशांत किशोर की ब्रांडिंग में उलझे नीतीश, जदयू में आई भूचाल
"मुख्यमंत्री शिबू सोरेन जी,ये आपके गांव के छोकडा लोग क्या कर रहा है? जरा बताईये न?
भारतीय मूल की इस दंपति को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार!
उबकाई क्यों लाते हो खबरिया भाई....

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter