» हल्दी घाटी युद्ध की 443वीं युद्धतिथि 18 जून को, शहीदों की स्मृति में दीप महोत्सव   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » यहां यूं हालत में मिली IAF  का लापता AN-32, सभी 13 जवानों की मौत   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » ट्रक से टकराई महारानी बस, 9 की मौत, 25 घायल, हादसे की दर्दनाक तस्वीरें   » बढ़ते अपराध को लेकर सीएम की समीक्षा बैठक में लिए गए ये निर्णय   » गैंग रेप-मर्डर में बंद MLA से मिलने जेल पहुंचे BJP MP साक्षी महाराज, बोले- ‘शुक्रिया कहना था’   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » मोदी सरकार में अछूत बनी जदयू नेता नीतीश ने कहा- सांकेतिक मंत्री पद की जरूरत नहीं  

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के सामने राष्ट्रभाषा का अपमान किया राँची विश्वविद्यालय ने

Share Button
२ अक्टूबर.. .. संकल्प समृद्ध मानवता की याद को दोहराने का दिन………क्योंकि विश्व में सर्वप्रथम हमारेराष्ट्रपिता महात्मा गाँधी को ही ये दृष्टि मिली कि राजनीति, अर्थ और अधिकार मानवता को चरम शिखर तकपहुंचाने का एकमात्र रास्ता है.
…लेकिन ये सब सिर्फ कहने-सुनाने के लिए है? जीवन में कोई मायने नहीं रखते? यदि रखते हैं तो कल मैनेंझारखंड की राजधानी के राँची विश्वविद्यालय परिसर स्थित “ मौलाना आजाद सभागार ” में उनके पावन जन्म दिनके अवसर पर आयोजित एक क्वीज प्रतियोगिता में शामिल होने के दौरान मैनें जो महसूस किया, वह गांधी केसिद्धांतों के अनुरूप माने जा सकते हैं?
…राँची विश्वविद्यालय के कुलपति समेत दर्जनों विद्वान शिक्षक मौजूद थे.उन सबों की मौजूदगी में राष्ट्रभाषा हिन्दीका इतना बड़ा अपमान! आज हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जिंदा होते तो वेशक उनकी आत्मा कराह उठाती….अरेमूर्खों मैंने अंग्रेजों की दासता से तो मुक्ति दिला दी, अंग्रेजी मानसिकता से मुक्ति कब पाओगे?
मैं अंग्रेजी भाषा का विरोधी नहीं हूँ. ये सब मैं इस लिए लिख रहा हूँ कि मेरे आँखों के सामने भाषा के नाम परप्रतिभाओं का दमन किया गया है. करीब दो सौ प्रतिभागियों के बीच प्राथमिक चयन के क्रम में अग्रेंजी भाषा में जोप्रश्नपत्र बांटे गये, उसे अस्सी फीसदी से प्रतिभागी समझ नहीं पाए. क्या राष्ट्रपिता के सामने राष्ट्रभाषा हिन्दी केअपमान और हिन्दीभाषी प्रतिभाओं का दमन नहीं है?
…….और तो और, लोगों को गाँधी के रास्तो पर चलने का आह्वान करनेवाले विद्वान शिक्षकों ने अपने राष्ट्रपिता कोसिर्फ अग्रेंजी भाषा में श्रदान्जली ही न दिए अपितु प्रतियोगिता के दौरान चयनित प्रतिभागियों से अग्रेंजी भाषा मेंही सवाल पूछे गये. प्रतिभागियों ने करीब सत्तर फीसदी सबालों के जबाब कड़े अग्रेंजी भाषा के कारण देने में विफलरहे. प्रश्नकर्ता ने अपना परिचय दूरदर्शन के राष्ट्रीय चैनल के विश्लेषक के रूप में दिया और कुलपति ने दिल्ली केवातानुकूलित कमरे से निकल कर राँची जैसे(!) शहर में आने पर तहे दिल से धन्यवाद प्रकट किया था.
Share Button

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
» डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!   » राजनीतिक नेपथ्य में धकेले गए राम मंदिर आंदोलन के नायक और भाजपा का भविष्य   » ढींढोर पीटने वाले, फौजियों के इस गांव में कहां पहुंचा विकास  
error: Content is protected ! india news reporter