दैनिक प्रभात खबर की यह कैसी पत्रकारिता

Share Button
संलग्न खबर को ध्यान से देखिये-पढ़िए. यह क्या है-समाचार या विज्ञापन?
रांची से प्रकाशित दैनिक प्रभात खबर के आज के अंक में मुख पृष्ठ पर प्रकाशित इस स्वरुप को देखने व समझाने से विज्ञापन नजर आता है लेकिन,प्रधान संपादक हरबंश जी के नजर में यह एक प्रमुख खबर है.
इस सन्दर्भ में जब मैंने निवेदक झारखंड अल्टरनेटिव डेवलपमेंट फोरम के पी.वर्मा ने भी बताया कि यह विज्ञापन नहीं अपितु एक दिन पूर्व आयोजित प्रेस कांफ्रेस में जारी प्रेस विज्ञप्ति है.
ऐसे प्रदेश में झारखंड अल्टरनेटिव डेवलपमेंट फोरम के बारे में अच्छे-अच्छे लोगों को कुछ भी पता नहीं है. इंटरनेट पर सर्च करने के बाद पता चला कि इस फोरम का एक http://jharkhandalternative।blogspot.com/ नामक एक ब्लॉग है और फोरम के सदस्यों में वे लोग(तत्व) शामिल हैं,जो कहीं न कहीं कट्टरता की जमीन पर झारखण्ड की ताजा बदहाली के लिए जिम्मेवार हैं.
खैर बाजारवाद के इस नए युग में पत्रकारिता का इतना घिनौना रूप कि मन पीड़ा से भर जाता है. ”अखबार नहीं आंदोलन” और “प्रदेश में न. वन अखबार” का भ्रम पाल रहे दैनिक प्रभात खबर के सर्वोसर्वा प्रधान संपादक हरवंश जी में बाहरी-भीतरी के दुर्गुण पहले से ही रहे हैं.दैनिक हिंदुस्तान,दैनिक जागरण के बाद उनमें ये काफी बढ़ गये और अब देश के एक बड़े अखबार दैनिक भास्कर के ताम-झाम ने एक तरह से उन्हें मानसिक दिवालिएपन के कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है.इन पर ये आरोप लगते रहे हैं कि वर्ग-क्षेत्रवाद की छत्रछाया में पत्रकारिता को “कोठे का धंधा” बना देना कोई इनसे सीखे. फ़िलहाल हम तो सिर्फ इतना ही कहेगें कि प्रभात खबर को हाथ में लेकर पहले अपनी अंतरात्मा टटोलिये हरबंश जी.
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

दार्जिलिंग बन्द 32वें दिन जारी, स्थिति तनावपूर्ण
हाय री राजनीति! हाय री मीडिया!!
अयोध्या जन्मभूमि विवादः कानून की निगाह में रामलला हैं नाबालिग
झारखंड विधानसभा चुनाव:रांची जिला, हटिया क्षेत्र के उम्मीदवारो को मिले मत
न.1अखबार का 2नंबरिया संवाददाता
चिराग पासवान की दो टूक- मुश्किल होगी 2019 में NDA की डगर
'द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर' को लेकर हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल
झारखंड की बदहाली कांग्रेस की गलत नीतियो की देन : नीतिश
संविधान दिवस रौशनः अबकी बार खो दी सरकार
बिहारः यहां माता सीता ने की थी प्रथम छठ व्रत, मंदिर में मौजूद आज भी उनके चरण !
कांग्रेस की जन आकांक्षा रैली में राहुल गांधी का मोदी पर आक्रामक हमला
आयरन लेडी इरोम शर्मीला को चुनाव मिले मात्र 90 वोट
फैसले से पहले CJI को Z प्लस, अन्य सभी 4 जजों की बढ़ी सुरक्षा
किसने बनाया ये सुअरखाना ?
शर्मनाक! अश्विनी चौबे सरीखे गिरी सोच का आदमी केन्द्रीय मंत्री है
मोदी-मनमोहन मिलन में यूं दिखा भारतीय लोकतंत्र की खूबसूरती
प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय खंडहरः खतरे में ‘विश्व धरोहर’!
क्यों लगता है ऐसा हो गया अंधा भारत का अपना कानून !!
भारतीय मीडिया में ब्राह्मणों और बनियों का राज: अरुंधति रॉय
अन्ना हजारे को जबरन उठा सकती है पुलिसः अरविंद केजरीवाल
बच सकती थी एम्स में आग से हुई तबाही, अगर...
‘रेप को रोक न पाओ तो मजा लो’, सासंद पत्नी ने की पोस्ट, मचा बवाल
अब बाल ठाकरे जैसे लोगों को क्या कहेगे?
उबकाई क्यों लाते हो खबरिया भाई....

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter