भागलपुर मे भारी विरोध: राहुल जी बिहार के लोग खासकर युवा अब पहले जैसा नहीं रहा!!

Share Button

बिहार मे अपनी जमीन तलाश करने आये कांग्रेस के युवा तुर्क महासचिव राहुल गांधी का भागलपुर मे भारी विरोध का सामना करना पड़ रहा है।बिहार के प्रति श्री गांधी द्वारा विकास को लेकर नीतीश सरकार पर की कडी टिप्पणी,मुठी भर कांग्रेसी कार्यकर्ताओ से घिरे रहने को लेकर समुचे भागलपुर शहर मे अफरातफरी का महौल कायम है.उधर कडी सुरक्षा व्यवस्था के बीच वे बैठक करने मे मशगुल है।मुस्लिम यूनाईटेड फ्रंट ने भी एक विशाल जूलुस निकालकर भारी विरोध प्रदर्शन किया है। करीब तीस हज़ार की तादाद मे फ्रंट के लोग अपने-अपने हाथो मे बडे-बडे काले झंडे लेकर “राहुल गांधी वापस जाओ”,”अब कांग्रेस की ठगी नही चलेगी”,”बिहार के प्रति सौतेला व्यवहार छोडो”,भागलपुर दंगा आ हिसाब दो”,बाढ पीडितो के साथ कांग्रेस ने अन्याय किया है” आदि जैसे नारे लगा रहे थे। राहुल के उन बयानों ने जिनमें उन्‍होंने नीतीश के कामकाज की आलोचना की उसे आमलोग स्वीकार करने के‍ लिए तैयार नहीं हैं। जानकार सूत्रो के अनुसार समूचे भागलपुर मे राहुल गांधी व कांगेस के बैनर-पोस्टर फाड दिये गये हैं। आपसी अफरातफरी व पुलिस लाठी चार्ज मे 100से उपर लोगों को चोटे आने की सूचना है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

सावधान !! सुअर की चर्बी खा रहे हैं हम और हमारे बच्चें
अनशन में अन्ना पीते हैं विटामिन मिला पानीः जी. आर. खैरनार
कड़ी पुलिस व्यवस्था के बाबजूद पहुंच रहे अनशनकारियों का नजारा
अन्ना के अनशन को लेकर चिंतित है अमेरिका!
बड़ा फर्क है टीम अन्ना और जेपी आंदोलन में
मॉम के रुप में श्रीदेवी का दिख रहा भावुक अंदाज
गौर से पढिये राँची के दैनिक हिंदुस्तान / प्रभात खबर के खबरों को
कसाई कौन ? डॉक्टर या दैनिक भास्कर ?
योग गुरू बाबा रामदेव को लेकर गरम हुये लालू
....और इस कारण 6 माह में 3 बार यूं बदले केन्द्र सरकार की ‘मोदी केयर’ के नाम
'आरक्षण' पर से मद्रास हाई कोर्ट ने हटाई रोक
शिबू सोरेन,बाबूलाल मरांडी और सुदेश महतो जैसे महत्वकांक्षी नेता : बादशाह बानेगें या ताश का जोकर
फेसबुक सेः देशभक्ति वनाम झंडे का फंडा
गाँव के गरीब महिलाओं तक को यूं टरकाते हैं मुख्यमंत्री नीतीश के सुशासित अधिकारी
आपके घर-जिले नालंदा में चिराग तले अंधेरा वाली कहावत चरितार्थ है सुशासन बाबू.
झारखंडी राजनीति के "अमर-अकबर-अंथोनी" यानि......अर्जून-शिबू-सुदेश.
कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी के होश ठिकाने, अन्ना से बोले सॉरी
रामलीला मैदान में डायरिया का प्रकोपःटीमअन्ना खिसियानी बिल्ली और सरकार खामोश
झारखंड मे पेसा अधिनियम को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर उठ रहे सवाल : वेशक ये कानून अन्धा है?
भ्रष्टाचारी जीते, भ्रष्टाचार का शोर मचाने वाले सारे दिग्गज हारे
"झारखण्ड : सिर्फ़ सनसनी फैलाकर आगे बढना चाहती है दैनिक जागरण अखबार"
कानून से बचने के लिए कलमाड़ी ने चली बचकाना चाल
बढ़ते अपराध को लेकर सीएम की समीक्षा बैठक में लिए गए ये निर्णय
तेज बहादुर की जगह सपा की शालिनी यादव होंगी महागठबंधन प्रत्याशी!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter