राष्ट्रपति ने राजीव गांधी के हत्यारों की दया याचिका खारिज करने में 5 वर्ष लगाए !

Share Button
राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के तीन हत्यारों की दया याचिकाओं को खारिज कर दिया है। उच्चतम न्यायालय ने वर्ष 2000 में इन हत्यारों को मौत की सजा दिए जाने की पुष्टि की थी।
उच्चतम न्यायालय ने 21 मई 1991 को राजीव गांधी की हत्या के लिए प्रतिबंधित लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (लिट्टे) के सदस्यों मुरूगन, संथान, पेरारिवलन और नलिनी को श्रीपेरंबूदूर में मौत की सजा सुनाई था।राष्ट्रपति भवन के एक प्रवक्ता ने कहा कि राष्ट्रपति ने पिछले सप्ताह इन तीनों आरोपियों की दया याचिका को खारिज कर दिया है।उच्चतम न्यायालय ने मुरूगन, संथान और पेरारिवलन की मौत की सजा की पुष्टि कर दी और नलिनी की मौत की सजा को आजीवन कारावास में बदल दिया।इन तीनों पर आपराधिक साजिश रचने और आत्मघाती हमले की साजिश को अंजाम देने का आरोप है। इन तीनों ने उच्चतम न्यायालय की पुष्टि के बाद राष्ट्रपति के समक्ष दया याचिका दायर की थी।गृह मंत्रालय ने 21 जून 2005 को अपनी राय भेजी थी जिसे 23 फरवरी 2011 को समीक्षा के लिए भेजा गया और मंत्रालय ने अपनी राय इस वर्ष आठ मार्च को फिर से राष्ट्रपति को सौंप दिया।इससे पहले राष्ट्रपति ने गृह मंत्रालय की सिफारिश पर पंजाब के देविंदर पाल सिंह भुल्लर और असम के महेंद्र नाथ की दया याचिका को खारिज कर दिया था।
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

झारखंड के राज्यपाल ने नियम और परंपरा को ताक पर रखा
रांची में गरजे राहुल गांधी- देश का चौकीदार चोर है
भारतीय मीडिया में बढ़ रही है मर्डोकों की तादात
महाराष्ट्र विधानसभा में कसाब को फांसी देने की मांग को लेकर विपक्ष का हंगामा
बजट- 2020 में कई अंतर्विरोध, वित्तीय घाटा नियंत्रण बड़ी चुनौती, सरकार को दृष्टि दोष
भारतीय मूल की इस दंपति को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार!
झारखण्ड विधानसभा चुनाव:हमाम मे सारे नंगे
बिहारः पिस्तौल के बल व्यवसायी कर्मी से 31.75 रुपये लूटे
न भूलेंगे, न माफ करेंगे, बदला लेंगे :CRPF
कर्नाटक का 'नाटक' का अंत, येदियुप्पा का इस्तीफा
न.1अखबार का 2नंबरिया संवाददाता
बिहार:सुशासन मे छुपी है घोर कुशासन
अफजल गुरू की दया याचिका खारिज करें राष्ट्रपतिः गृह मंत्रालय की अनुशंसा
अब पश्चिम बंग कहलाएगा पश्चिम बंगाल !
टीम अन्ना की ईमानदारी का गज़ब खुलासा !
बिहार में क़ानून-व्यवस्था की कहानी:खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जुबानी
राहुल गांधी का सचित्र ट्वीट- 'मानसरोवर के पानी में नहीं है नफरत’
ई है सुशासन बाबू की नालन्दा नगरिया: सर्वत्र उठा सवाल,दोषी कौन?कुशासन या किसान?
जेकेडी सेक्टर IG राज कुमार करेंगे DIG द्वारा CRPF जवान पर गर्म पानी फेंकने की जांच
मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांडः सजा पर फैसला सुरक्षित, अब 11 फरवरी को सजा का ऐलान
झारखंड:बहुत कठिन डगर दिख रही है शिबू सोरेन की.
अयोध्या जन्मभूमि विवादः कानून की निगाह में रामलला हैं नाबालिग
हॉट-स्टाइलिश दिखने है तो अपनाएं ये फैशन
अन्ना को धन्यवाद,लेकिन उनका आंदोलन लोकतंत्र के लिए खतरनाकः राहुल गांधी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter