50-50 फॉमूले ने 20 साल बाद भाजपा को फिर किया सत्ता से दूर

Share Button

1999 में यह कहानी तब सामने आई थी, जब भाजपा नेता गोपीनाथ मुंडे ढाई-ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री पद की मांग पर अड़कर हाथ आई सत्ता गंवा बैठे थे……”

इंडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क। महाराष्ट्र की राजनीति में 20 साल बाद इतिहास खुद को दोहराता दिखाई दिया जब 50-50 फॉमरूले के चक्कर में एक बार फिर सत्ता भाजपा के हाथ से फिसल गई।

1995 में शिवसेना-भाजपा गठबंधन पहली बार सत्ता में आया था। तब शिवसेना ने 169 सीटों पर लड़कर 73 सीटें और भाजपा ने 116 सीटों पर लड़कर 65 सीटें हासिल की थीं।

चूंकि दोनों दलों के बीच ज्यादा सीटें पाने वाले दल का मुख्यमंत्री बनने का फॉमरूला तय था इसलिए शिवसेना के मनोहर जोशी मुख्यमंत्री बने थे और भाजपा के गोपीनाथ मुंडे उपमुख्यमंत्री।

गोपीनाथ मुंडे ने 1999 के चुनाव में बराबर सीटों पर लड़ने का दबाव बनाया, लेकिन वह सफल नहीं हो सके। शिवसेना फिर भाजपा से करीब 53 अधिक सीटों पर चुनाव लड़ी और 69 सीटें जीती।

भाजपा को 56 सीटें हासिल हुईं। दोनों दलों को मिलाकर 125 सीटें हो रही थीं। निर्दलीय विधायकों की संख्या 30 थी। चुनाव शिवसेना के मुख्यमंत्री नारायण राणो के नेतृत्व में हुए थे।

1999 में भाजपा के गोपीनाथ मुंडे ने भी सीएम पद पर की थी इसी तरह 50-50 की मांग, तब हाथ से फिसल गई थी सत्ता।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

फिर चेहरा पर टिकी बिहार की राजनीति
दक्षिण अफ्रीका का सूपड़ा साफ, भारत ने पारी और 202 रन से हराया
यहां तो गूंगे बहरे बसते है, खुदा जाने कहां जलसा हुआ होगा ?
नीतीश ने सबसे अधिक किसानों,युवाओं और गरीबों को पहुंचाई तकलीफः अखिलेश यादव
सता और विपक्ष का ये कैसा घाल-मेल?
कोई बिछड़ा यार मिला दे...ओय रब्बा
सिल्ली MLA अमित कुमार ने केन्द्रीय मंत्री से मुलाकात कर रखी ये समस्याएं
उत्तर प्रदेश में जीत को लेकर आश्वस्त हैं राहुल गांधी
दैनिक प्रभात खबर प्रवक्ता को विधायक बना डाला
प्रियंका चोपड़ा ने मैरी क्लेयर के लिए कराए ऐसे हॉट फ़ोटोशूट 
राम रहीम उर्फ कैदी नंबर1997 को दफा 376, 511, 501 के तहत 10 साल की सजा
फ्रेंडशिप डे मनाइये जरा संभलकर
दिल्ली से लखनऊ पहुंचा "बेशर्मी मोर्चा" :किया भौंडा प्रदर्शन
झारखण्ड: कौन बनेगा सीएम? आदिवासी या सदान?
एच.डी एफ.सी बैंक और अनंत विकास स्रोत नामक एन.जी.ओ का यह कैसा खेल!
सीएम के हाथों राजकीय राजगीर मलमास मेला का यूं हुआ आगाज
9वीं कक्षा की परीक्षा में पूछा सवाल, 'गांधी जी ने आत्महत्या कैसे की'? 😳
संगठित-संरक्षित अपराधों की शरण स्थली बना पारधी ढाना
कहीं मनमोहन सरकार के लिए खतरे की घंटी न बन जाए विपक्ष के साथ ये "डील"
वन भूमि को कब्जाने के क्रम में हरे-भरे पेड़ यूं काट रहा है राजगीर का विरायतन
मधु कोडा लूट-राज कांड की जांच चिंताजनक : नीतीश कुमार
मनोरम वादियों के बीच आध्यात्मिक, सांस्कृतिक व धार्मिक सभ्यताओं का संगम है राजगीर
अफसरों से बोले नितिन गडकरी- ‘काम करो नहीं तो लोगों से कहूंगा धुलाई करो’
ईको टूरिज्म स्पॉट बनकर उभरेगा घोड़ा कटोरा :सीएम नीतीश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter