फिर विवादो के घेरे मे आया रांची का 365दिन चैनल

Share Button
वेशक झारखंड का प्रथम सेटेलाईट चैनल दावा करने वाले रांची का स्थानीय न्यूज चैनल 365दिन व उसकी गतिविधियो का गंभीरता से आंकलन करने पर मात्र यही उजागर होता है कि एसके सी ओ (चैनल प्रमुख) अमल कुमार जैन को पत्रकारिता की ए.बी.सी.डी. की जानकारी नही है और वे चैनल प्रमुख के रूप मे 365 दिन के सर्वोसर्वा ही नही बने बैठे है अपितु इलेक्ट्रौनिक मीडीया स्कूल चलाकर न जाने कैसी पत्रकारो की फौज भी खडा करने का दावा कर रहे है. कल देर शाम पलामू के मेदनीनगर मे श्री जैन ने अपने एक चुनावी कार्यक्रम मे जिस तरह की मानसिकता दिखाई और उससे लोकतंत्रिक चुनाव के दौरान वहाँ जानबूझकर प्रस्थितियाँ पैदा की, वह सस्ती लोकप्रियता पाने का बम्बईया स्टाईल मानी जा रही है. इसके पूर्व मैने सीधे श्री जैन द्वारा संचालित रामगढ,धनबाद,रांची जैसे जगहो पर आयोजित लाईव इलेक्शन टेलीकास्ट कार्यक्रम को देखा है.उसे देखकर यही महसूस किया है कि श्री जैन की कार्यक्रम के दौरान भाषा, प्रश्न, उदाहरण, तर्क, हठधर्मिता आदि ऐसे होते है जिसे देखकर कोई भी भडक उठे. उनके कार्यक्रम या उसके संचालन मे मर्यादा या शिष्टाचार कही दिखाई नही देता. वे सिर्फ अपने विचारो,कुतर्को को ही सर्वोपरि मानकर चलते है.मेदनीनगर के कार्यक्रम मे उन्होने वहाँ के भाजपा प्रत्याशी दिलीप नामधारी के पिता व क्षेत्रीय सांसद श्री इन्दर सिन्ह नामधारी के विरूध श्री जैन ने विकास व व्यक्तित्व को लेकर कई ऐसे आपत्तिजनक सीधे टिप्प्णीयाँ की,जिससे उनके कार्यकर्ता भडक उठे और कुर्सियाँ फेंकाफेंकी करने लगे. इससे उन्मादित चैनल प्रमुख अमल कुमार जैन ने प्रतिष्ठा का प्रश्न बनाते हुये जानलेवा हमला करने का मामला बना कर सब कुछ राजनीतिक बना दिया.उलेख्नीय है कि मेदनीनगर के भाजपा प्रत्याशी के पिता श्री इन्दरसिन्ह नामधारी झारखंड प्रांत मे एक कद्दावर व ईमानदार छवि के नेता के रूप मे सुविख्यात है. विधानसभाध्यक्ष रह चुके श्री नामधारी बतौर राजनतिक दल प्रत्याशी विपरित परिस्थितियो मे भी लोकसभा कई चुनाव ही न जीते है बल्कि विगत लोकसभा चुनाव वतौर निर्दलीय जीत कर यह प्रमाणित कर दिया कि वे पलामू राजनीति के सबसे प्रतिष्ठित नेता बने हुये है. उनपर नीतीश,लालू,रामविलास तो दूर कांग्रेस,भाजपा के बडे-बडे नेता भी टिप्पणी करने का जोखिम नही उठाना चाहते है. 365 दिन के चैनल प्रमुख के श्री जैन कुछ दिन पहले ही एक पत्रकारीय मामले मे ही रांची के होटवार जेल की हवा खाकर लौटे है.उन्होने वितीय व्यवसाय से जुडे श्री नारनोलिया के सन्दर्भ मे लगातार घोटाले की खबर प्रसारित कर रहे थे.श्री जैन ने लोकप्रिय दैनिक प्रभात खबर के प्रधान संपादक के चरित्र पर भी सवाल उठाये थे. श्री नारनोलिया ने 42 लाख रूपये की रिश्वत मांगने की एक पुलिस प्राथमिक दर्ज कर दी.पुलिस ने अनुसन्धान के बाद गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.कह्ते है कि कांग्रेस के बडे नेता द्वारा बीच बचाव के बाद वे जेल से बाहर निकलने मे सफल हो पाये. आश्चर्य की बात तो यह है कि उसके बाद श्री नारनोलिया के अनेक वित्तीय घोटाले को उजागर करने का दावा करने वाली 365 दिन ने इस सन्दर्भ मे कोई प्रसारण नही किया है. ऐसे कई मामले है,जो 365 दिन के प्रमुख श्री अमल कुमार जैन को कटघरे मे खडा करती है
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

आशाराम बापू : कानून से उपर का संत या अपराधी?
कहीं मनमोहन सरकार के लिए खतरे की घंटी न बन जाए विपक्ष के साथ ये "डील"
बिहार के प्रति कांग्रेस का व्यवहार हिटलरशाही की,खुद को संविधान से ऊपर मान रही: नीतीश कुमार
यहां तो गूंगे बहरे बसते है, खुदा जाने कहां जलसा हुआ होगा ?
सही सलामत वापस घर लौटे निवर्तमान विधायक का राज
झंझावतों के बीच इंसाफ इंडिया को मिला जज मानवेन्द्र मिश्रा का यूं सहारा
झारखंड के राज्यपाल ने नियम और परंपरा को ताक पर रखा
अर्जुन मुंडा यानि अंधेर नगरी का चौपट राजा
‘रेप को रोक न पाओ तो मजा लो’, सासंद पत्नी ने की पोस्ट, मचा बवाल
22 जनवरी को नहीं होगी निर्भया के किसी दरींदे को फांसी
अन्ना को रामदेव न समझे सरकारः खुफिया विभाग ने दी चेतावनी
पेस्सा के तहत चुनाव: शिबू नार्मल लेकिन सुदेश और रघुवर अपने फेर मे
कही कांग्रेस-भाजपा के हाईप्रोफाइल राजनीति-कूटनीति के शिकार तो नही हो रहे गुरूजी
30 दिसंबर,वुधवार को मोहराबादी मैदान मे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेगे शिबू सोरेन
मामला 365दिन चैनल के प्रमुख के अमर्यादित वयान का
पिछले चार साल मे लाखपति से अरबपति बने नीतिश के ये चहेते मंत्री
सुबोधकांत की पिकनिक पार्टी: समर्थक ने लगाई आग : मंत्रीजी भी बाल-बाल बचे
गुजरात से बिहार आकर मुर्दों की बस्ती में इंसाफ तलाशती एक बेटी
सुप्रीम कोर्ट के जजों के प्रेस कांफ्रेंस के बाद  प्रधानमंत्री ने बुलाई कानून मंत्री की अपात बैठक
सही सलामत घर लौटे निवर्तमान राजद विधायक का राज
अन्ना को लेकर भाजपा में बगावत,यशवंत और शत्रुध्न सिन्हा का संसद से इस्तीफे की पेशकश
ई है सुशासन बाबू की नालन्दा नगरिया: सर्वत्र उठा सवाल,दोषी कौन?कुशासन या किसान?
तीन तलाक को राष्ट्रपति की मंजूरी, 19 सितंबर से लागू, यह बना कानून!
सरकारी लोकपाल को कैबनेट की मंजूरी, अन्ना विफरे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter