30 साल के जालसाजों पर कहर ढायेगी बिहार शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर का यह फैसला

Share Button

बिहार बोर्ड शिक्षा को सुधारने के साथ-साथ चल रहे फर्जी कार्यों को रोकने के लिए पूरी तरह से लगी हुई है। जो लोग मैट्रिक की परीक्षा नाम बदल कर दो दो बार देते आया रहे है थे, वैसे फर्जी विद्यार्थियों को बोर्ड अब जोड़ का झटका देने जा रही है। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति एक ऐसा ऐप बनवा रही है, जिससे डबलिंग होने पर ऐप खुद ब खुद उन परीक्षार्थियों का नाम शार्ट लिस्ट कर लेगा, जिन्होंने अपनी उम्र कराने के लिए 10वीं की परीक्षा दोबारा दी है। 

बोर्ड इस ऐप के जरीय पिता का नाम, एक ही पता तथा कई अन्य ऑप्शन्स के जरिए फर्जी विद्यार्थियों को बेनकाब करने की तैयारी कर रही है। बोर्ड को ये फैसला गणेश की वजह से लेना पड़ा, जिसने उम्र कम कराने के लिए 10वीं की परीक्षा दोबारा दी और इंटर में टॉप कर गया।

गणेश ने 1990 में बिहार बोर्ड से पहली बार मैट्रिक की परीक्षा पास की थी। उसके बाद दोबारा उसने 2015 में मैट्रिक की परीक्षा उम्र कम कराने के लिए पास की, ताकि वो सरकारी नौकरी पा सके।

गणेश जैसे हजारों लोग हैं जो मैट्रिक यानि 10वीं की परीक्षा दोबारा देते हैं। बोर्ड अगर ऐप लांच कर देती है तो हजारों छात्रों के सर्टिफिकेट रद्द हो सकते है। बोर्ड अगले तीन महीनों के अंदर पिछले 30 सालों के रिकॉर्ड को इस ऐप में अपलोड करेगा।

बोर्ड 1986 से लेकर अब तक के रिकॉर्ड को इस ऐप में अपलोड करेगा। यानि इन 30 वर्षों में जिसने भी मैट्रिक की परीक्षा दोबारा दी है, उनका पता लग सकता है।

बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर का कहना है कि जिसका भी पता चलेगा कि उन्होंने दोबारा मैट्रिक की परीक्षा दी है तो उनके सर्टिफिकेट को रद्द कर दिया जायेगा। अगर 10वीं या मैट्रिक की परीक्षा का सर्टिफिकेट रद्द हो जाता है तो उस व्यक्ति की आगे की सारी डिग्रियां अपने आप अमान्य हो जायेगी।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

सावधान! Google के जरिए यूं आई कपल की निर्वस्त्र संबंध बनाने की तस्वीरें !
विधानसभा में बोले CM नीतीश- बिहार में लागू नहीं होगी NRC, जातीय जनगणना कराए केन्द्र सरकार
सुरक्षा गार्ड की दानवताः 6 वर्षीय बच्ची की पहले गला दबा की हत्या, फिर शव संग किया रेप
...शिकारी होंगे खुद शिकार !  2007 की भूमिका में PK?
26 को प्रभातफेरी निकाल बच्चें चमकाएंगे यूं सरकार का चेहरा
यूं वैश्विक सुर्खियां बटोर रहा ‘फकीर’ का ‘चश्मा’!
दिल्ली की 15 साल तक चहेती सीएम रही शीला दीक्षित का निधन
वायरल ऑडियो से उभरे सबालः कौन है मुन्ना मल्लिक? कौन है साहब? राजगीर MLA की क्या है बिसात?
फेसबुक पर जज मानवेन्द्र मिश्र यूं हुए व्यथित- 'पुरुषार्थ का दंभ न भरे ऐसे समाज के लोग'
POK के आतंकी अड्डों पर आसमानी प्रहार, मिराज ने की भीषण बमबारी
पवार संग बैठक बाद मानीं सोनिया, शिवसेना नेतृत्व को हरी झंडी
यूपी उप चुनावः भाजपा को हर सीट पर मिल रही कड़ी चुनौती
रामगढ़ में दिखा ‘एंटी रोमियो मुहिम’ की गुंडई का नया चेहरा
सुप्रीम कोर्ट से सजा मिलते ही भूमिगत हुए जस्टिस कर्णन!
राहुल ने पुछा- ‘मोदी जी, जय शाह जादा खा गया, आप चौकीदार या भागीदार?’
बोले काटजू- "सत्ता से बाहर होगी भाजपा, यूपी-बिहार में रहेगी नील"
बिहारः क्यों वायरल हो रहे हैं औरतों से अपराध के वीडियो?
सनातन धर्मावलंबियों की सुसभ्य संस्कृति वाहक है मंदार पर्वत
रांची के रिम्स में लालू से मिलकर यूं गरजे बिहारी बाबू- ‘खामोश’
बलिया-सियालदह ट्रेन से भारी मात्रा में नर कंकाल समेत अंतर्राष्ट्रीय तस्कर धराया
खुफिया सूचना तंत्र को मजबूत करने का समय
डरावना सच : पॉर्न साइटों पर ट्रेंड होती गैंगरेप पीड़िता, खुद के बच्चों को भी सभांलिए
गोरखपुर BRD मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लाई ठप होने से 30 बच्चों की मौत
भारत का विश्वास या अंधविश्वास? राफेल के पहियों के आगे रखवाई नींबू!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter