अन्ना हजारे को जेपी पार्क में मात्र 3 दिन की अनशन की सशर्त अनुमति

Share Button
 अन्ना हजारे को जयप्रकाश नारायण पार्क में अनशन की अनुमति सिर्फ 3 दिन के लिए प्रदान की गई है। अन्ना 16 अगस्त की सुबह 8 बजे से 18 अगस्त की शाम 6 बजे तक ही अनशन कर पाएंगे। इसके साथ ही दिल्ली पुलिस ने कई शर्तें भी रखी हैं। उनमें से एक है 5 हजारे से ज्यादा लोग अनशन स्थल पर नहीं आने चाहिए।
इसके पहले अन्ना हजारे के 16 अगस्त से प्रस्तावित अनशन के लिए अनुमति देने का मामला केंद्रीय लोकनिर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) ने दिल्ली पुलिस के पाले में डाल दिया था। गौरतलब है कि अनशन की जंतर-मंतर पर अनुमति देने से इनकार करने के बाद दिल्ली पुलिस ने टीम अन्ना को जयप्रकाश नारायण पार्क को वैकल्पिक स्थान के रूप में सुझाया था, लेकिन इसके लिए पार्क पर स्वामित्व रखने वाली एजेंसी सीपीडब्ल्यूडी से एनओसी लेने को कहा था।
अनुमित के साथ-साथ दिल्ली पुलिस ने टीम अन्ना के सामने कई शर्तें रख दी हैं। पुलिस के मुताबिक अनशन स्थल पर अधिकतम 5,000 लोग आ सकते हैं। अनशन स्थल पर 50 फोर वीलर और 5 टू वीलर से ज्यादा गाड़ियां नहीं हों। साथ ही टीम अन्ना से कहा गया है कि पार्क के किसी भी पौधे को नुकसान नहीं पहुंचना चाहिए।
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

अपने ब्लॉग के रेस्पोंस से काफी उत्साहित हैं नीतीश कुमार
'द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर' को लेकर हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल
हम होली कैसे मनाएं?
झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन ने राज्यपाल के सामने 44 विधायको के साथ सरकार बनाने का दावा ठोंका
मुखबिर और ठग है दैनिक भास्कर का पत्रकार सुबोध मिश्रा !
महागठबंधन की तस्वीर साफ, लेकिन कन्हैया पर नहीं बनी बात
अब केन्द्रीय मंत्री बनेगें शिबू सोरेन !
....और इस कारण 6 माह में 3 बार यूं बदले केन्द्र सरकार की ‘मोदी केयर’ के नाम
सत्तासीन कांग्रेस: नर है या नारी ?
अमन का पैगाम के नाम पर गुंडागर्दी, रोड़ेबाजी, फायरिंग, लाठी चार्ज, स्थिति तनावपूर्ण
जंतर-मंतर के बजाय अब रामलीला मैदान में होगी "अन्ना की लीला"
कांग्रेस पर मोदी के तीखे वार और पांच राज्यों में बीजेपी के हार के मायने ?
पिछले चार साल मे लाखपति से अरबपति बने नीतिश के ये चहेते मंत्री
झारखंड मे पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ फूंका बिगुल,उधर आद...
देश में पहली समलैंगिक शादी को कोर्ट की मुहर
एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?
मुंडा सरकार ने झारखंड के पत्रकारों के बीच बांटी रेवड़ियां
अमेरिका में बोले पीएम मोदी- 'अबकी बार ट्रंप सरकार', भारत में भड़की कांग्रेस
पूर्व मंत्री की बेटी के रेप के आरोपी निखिल IAS बाप के साथ उतराखंड में धराया
बढ़ते अपराध को लेकर सीएम की समीक्षा बैठक में लिए गए ये निर्णय
टीम अन्‍ना -सरकार की लड़ाई अंतिम दौर में, गृह सचिव पहुंचे रामलीला मैदान
कसाई कौन ? डॉक्टर या दैनिक भास्कर ?
तू निकली पाकिस्तानी बदरंग हिना !
सुप्रीम कोर्ट के द्वारा 78% आबादी के विरूद्ध दिये गये फैसले का क्या है औचित्य ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter