» तीन तलाक को राष्ट्रपति की मंजूरी, 19 सितंबर से लागू, यह बना कानून!   » तीन तलाक कानून पर कुमार विश्वास का बड़ा रोचक ट्विट….   » मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » बिहार के विश्व प्रसिद्ध व्यवसायी सम्प्रदा सिंह का निधन   » पत्नी की कंप्लेन पर सस्पेंड से बौखलाया था हत्यारा पुलिस इंस्पेक्टर   » कर्नाटक में सरकार गिरना लोकतंत्र के इतिहास में काला अध्याय : मायावती   » समस्तीपुर से लोजपा सांसद रामचंद्र पासवान का निधन   » दिल्ली की 15 साल तक चहेती सीएम रही शीला दीक्षित का निधन   » अपनी दादी इंदिरा गांधी के रास्ते पर चल पड़ी प्रियंका?   » हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!  

रजरप्पा : मां के आंचल में महापाप का तांडव और मीडिया-3

Share Button

पिछले साल रजरप्पा में एक ऐसी अविश्वसनीय घटना घटी…..जिसने मानवीय आस्था को झकझोर दिया….हर श्रद्धालु के मन-मस्तिष्क में बस एक ही सबाल उठा कि क्या कोई ऐसा भी कर सकता है…. लाखों-करोड़ों भक्तों दिल में बसी मां छिन्न मस्तिके की मूर्ति को खंडित कर दिया गया….उन पर सजे लाखों के आभूषण चोरी कर लिए गए. आज तक समूचे झारखंड प्रांत की पुलिस प्रशासन उस अधार्मिक कांड की गुथी सुलझाने में विफल रही है……यहां की मीडिया के लिए भी सारी बातें आया राम-गया राम हो गई है.
इस संदर्भ में पिछले दिन जो ठोस जानकारी मिली…वह अत्यंत चौकाने वाली ही नहीं, अपितु एक महापाखंड को रेखांकित करती है. कहते हैं कि यहां मां छिन्न मस्तिके की मूर्ति को चोरों ने खंडित नहीं किया..उनके आभूषण नहीं उड़ाए. यह सब कारस्तानी कबाब,शराब और शबाब में मस्त उन पंडो की थी, जिन पर मां की सेवा सत्कार करने का ठेका हमारे समाज ने दे रखा है.
रजरप्पा अवस्थित मां छिन्न मस्तिके की पावन भूमि से महज 6 किमी दूर सांडी गांव निवासी रिझूनाथ चौधरी, जो पिछले 48 वर्षों से मंदिर परिसर पर सुबह से लेकर शाम तक अपनी गहरी नजर रखे हुए हैं…मूर्ति खंडित किए जाने व लाखों के आभूषण चोरी होने के सबाल पर बिना एक सेकेंड गंवाए विफर पड़ते हैं….’’ यहां कोई मूर्ति चोरी नहीं हुई….तोड़ के रख दिया सब पंडा लोग..फोड़-फाड़ के.–देखिए जैसे हम हैं एक पंडा परिवार,हम थोड़ा बेसी ठगते है और उ नहीं ठग पाता है ठगने ”
श्री चौधरी के इन वेबाक शब्दों में छुपी है सारे रहस्य…सदैव गांधीवादी टोपी और विचार समेटे आदर्श जीवन काट रहे श्री चौधरी की एक बड़े इलाके में एक अलग सामाजिक पहचान तो है ही..वे प्रदेश के उप मुख्यमंत्री सुदेश महतो के नाना और कबीना मंत्री चन्द्रप्रकाश चौधरी के पिता भी हैं.
अब सबाल उठता है कि ऐसे में प्रदेश की पुलिस-प्रशासन अब तक एक विश्वव्यापी घटना के किसी बिन्दु पर क्यों नहीं पहुंच पायी है और यहां की मीडिया भी इन सब तथ्यों से अपना मुहं क्यों मोड़ रखा है……ये सब जानिए अगली कड़ी में……

Share Button

Related News:

अजातशत्रु स्तूपा को लेकर भारतीय पुरातत्व विभाग बना अंधा, छेड़छाड़ जारी
उस महिला का गर्भपात की पुष्टि, कोडरमा घाटी में जिस अज्ञात महिला का मिला था शव
एक और नीरव मोदी ने किया 187 करोड़ का घोटाला, PNB समेत 6 बैंकों को लगाया चूना
"मुख्यमंत्री शिबू सोरेन जी,ये आपके गांव के छोकडा लोग क्या कर रहा है? जरा बताईये न?
गोविन्दाचार्य ने सुप्रीम कोर्ट से की रोहिंग्या शरणार्थियों को भारत से बाहर करने की मांग
दैनिक प्रभात खबर की यह कैसी पत्रकारिता
पीएम मोदी के 'स्टार हमशक्ल' को यूं महंगे पड़ रहे 'अच्छे दिन'
मीडिया : अक्ल-शक्ल सब बदला
समूचे लंदन में फैली दंगाइयों की आग
झारखंड:शिबू सोरेन अब भी ताकतवर नेता
'कमल' खिलते ही त्रिपुरा में व्लादिमीर लेनिन की मूर्ति पर चलाया बुल्डोजर
हाय री राजनीति! हाय री मीडिया!!
यहां यूं हालत में मिली IAF  का लापता AN-32, सभी 13 जवानों की मौत
जामिया मिलिया इस्लामिया में नकली डिग्री के धंधे का भंडाफोड़,5 गिरफ्तार
अन्ना को लेकर भाजपा में बगावत,यशवंत और शत्रुध्न सिन्हा का संसद से इस्तीफे की पेशकश
सुप्रीम कोर्ट की दो टूकः शादी का वादा कर शारीरिक संबंध बनाना रेप
उग्रवादियो के खिलाफ गांव के स्कूली बच्चो ने उठाई आवाज़: कहा कि “अंकल माओवादी हमारे स्कूल क्यो उडाते ह...
मढ़वा के दिन प्रेमी संग फरार प्रेमिका ने ग्राम कचहरी में रचाई शादी !
कही ले न डूबे सुदेश मह्तो को उनकी रजनीतिक महत्वाकान्क्षा
कही कांग्रेस-भाजपा के हाईप्रोफाइल राजनीति-कूटनीति के शिकार तो नही हो रहे गुरूजी
ई है सुशासन बाबू की नालन्दा नगरिया: सर्वत्र उठा सवाल,दोषी कौन?कुशासन या किसान?
महज कमाई का जरिया बना राजीव गांधी उद्यमी मित्र योजना
बोफ़ोर्स की तरह ही 'पीएम 2019' का खेल कहीं बिगाड़ न दे रफ़ाएल
खेल के साथ बिजनेस भी करेगे धौनी

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां  
error: Content is protected ! india news reporter