रजरप्पा : मां के आंचल में महापाप का तांडव और मीडिया-3

Share Button

पिछले साल रजरप्पा में एक ऐसी अविश्वसनीय घटना घटी…..जिसने मानवीय आस्था को झकझोर दिया….हर श्रद्धालु के मन-मस्तिष्क में बस एक ही सबाल उठा कि क्या कोई ऐसा भी कर सकता है…. लाखों-करोड़ों भक्तों दिल में बसी मां छिन्न मस्तिके की मूर्ति को खंडित कर दिया गया….उन पर सजे लाखों के आभूषण चोरी कर लिए गए. आज तक समूचे झारखंड प्रांत की पुलिस प्रशासन उस अधार्मिक कांड की गुथी सुलझाने में विफल रही है……यहां की मीडिया के लिए भी सारी बातें आया राम-गया राम हो गई है.
इस संदर्भ में पिछले दिन जो ठोस जानकारी मिली…वह अत्यंत चौकाने वाली ही नहीं, अपितु एक महापाखंड को रेखांकित करती है. कहते हैं कि यहां मां छिन्न मस्तिके की मूर्ति को चोरों ने खंडित नहीं किया..उनके आभूषण नहीं उड़ाए. यह सब कारस्तानी कबाब,शराब और शबाब में मस्त उन पंडो की थी, जिन पर मां की सेवा सत्कार करने का ठेका हमारे समाज ने दे रखा है.
रजरप्पा अवस्थित मां छिन्न मस्तिके की पावन भूमि से महज 6 किमी दूर सांडी गांव निवासी रिझूनाथ चौधरी, जो पिछले 48 वर्षों से मंदिर परिसर पर सुबह से लेकर शाम तक अपनी गहरी नजर रखे हुए हैं…मूर्ति खंडित किए जाने व लाखों के आभूषण चोरी होने के सबाल पर बिना एक सेकेंड गंवाए विफर पड़ते हैं….’’ यहां कोई मूर्ति चोरी नहीं हुई….तोड़ के रख दिया सब पंडा लोग..फोड़-फाड़ के.–देखिए जैसे हम हैं एक पंडा परिवार,हम थोड़ा बेसी ठगते है और उ नहीं ठग पाता है ठगने ”
श्री चौधरी के इन वेबाक शब्दों में छुपी है सारे रहस्य…सदैव गांधीवादी टोपी और विचार समेटे आदर्श जीवन काट रहे श्री चौधरी की एक बड़े इलाके में एक अलग सामाजिक पहचान तो है ही..वे प्रदेश के उप मुख्यमंत्री सुदेश महतो के नाना और कबीना मंत्री चन्द्रप्रकाश चौधरी के पिता भी हैं.
अब सबाल उठता है कि ऐसे में प्रदेश की पुलिस-प्रशासन अब तक एक विश्वव्यापी घटना के किसी बिन्दु पर क्यों नहीं पहुंच पायी है और यहां की मीडिया भी इन सब तथ्यों से अपना मुहं क्यों मोड़ रखा है……ये सब जानिए अगली कड़ी में……

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

कम से कम कॉल तो कर लो पत्रकारिता के निकम्मों !!
रामेश्वरम् मंदिर के पास ‘कौवा-कुत्ता बिरयानी’ की बिक्री, पुलिस ने बरामद किए 150 मृत कौवे-कुत्ते का म...
और इस कारण बिखर चला 'द कपिल शर्मा शो'
काफी दुर्भाग्यजनक है सुदेश महतो की राजनीतिक महत्वाकान्क्षा
न.1 जर्नलिस्ट.काम का पता बताओ भडास4मीडिया
बिहारः क्यों वायरल हो रहे हैं औरतों से अपराध के वीडियो?
"शादी पूर्व ही यौन-सम्बन्ध स्थापित करने का आम प्रचलन है इस 'नव इसाई समुदाय' में "
इसे पढ़िए और पहल कीजिएः जरुरी है दासता की इन बेडियों को उतार फेंकना
नीतिश जी,ई कैसन सुशासन है आपके घर-जिले में:पुछिये न अपने नौकरशाह से.
कांग्रेसियो ने हार का ठीकरा केन्द्रीयमंत्री सुबोधकांत के सिर फोडा
झारखंड : राज्यपाल ने लोकतंत्र का गला घोंटकर नई मिशाल कायम की
"सुशासन बाबू" अपने घर-जिले के अधिकारियो पर लगाईये लगाम.पुछिये दोषी कुशासन है या गरीव किसान?
रोहित के बल्ले से उड़े दिग्गजों के रिकार्ड, ब्रेडमैन भी हुए पीछे
झारखण्ड:पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराना सिबू सरकार के लिये एक गंभीर चुनौती/आपस मे खुलकर टकरायेग...
बिहारः 2 दलित बेटी के साथ गैंग रेप, दरिंदों ने बनाया वीडियो, नकारा बनी पुलिस
भारत के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री चुप्प क्यों ?
भागलपुर मे भारी विरोध: राहुल जी बिहार के लोग खासकर युवा अब पहले जैसा नहीं रहा!!
सुप्रीम कोर्ट से 10 दिन में आएगा ये 4 बड़ा फैसला, होगी देश की तस्वीर पर असर
पिछले चार साल मे लाखपति से अरबपति बने नीतिश के चहेते मंत्री हरिनारायण सिन्ह
श्रीलंका में 28 साल बाद खत्म हुआ आपातकाल
बिहार पहुँची किसान आंदोलन की चिंगारी, बिहारशरीफ में निकला ‘अधिकार मार्च’
ये हैं चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा और उन पर सवाल उठाने वाले 4 जज
मीडिया की ABCD का ज्ञान नहीं और चले हैं पत्रकार संगठन चलाने
सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार पेसा कानून के तहत यदि झारखंड मे चुनाव हुआ तो आदिवासियो और सदानो के बीच स...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter