उग्रवाद:शिबू सोरेन की गलतफहमी न.2

Share Button
झारखंड मे नक्सलवाद कोई समस्या नही है.इसे बडी समस्या बनाया गया है.इसमे शामिल सब गांव का छोकडा लोग है.मीडिया मे बात का बतंगड बनाया जा रहा है.
वेशक झारखंड के तीसरी बार मुख्यमंत्री बने शिबू सोरेन का इरादा झारखंड को अपने सपनो के अनुरूप ढालना है.वे चाहते है कि उनकी सरकार उन वेवश लाचार लोगों तक ईमानदारी से पहुंचे,जिनकी गोद मे वे पले-बढे है. और एक अच्छा नेता भी वही होता है,जो अपने जमीन के दुःख दर्द को समझे तथा उस दिशा मे सार्थक पहल ही न करे अपितु ठोस कारगर कदम उठाये.लेकिन आदिवासियो के एक बडे तबके मे “दिशोम गुरू”, मीडिया की नज़र मे “गुरूजी” तथा विरोधियो की जुबान पर “गुरूघंटाल” के नाम से चर्चित झारखंड मुक्ति मोर्चा के मुखिया,जो अब भाजपा और आजसू के सहयोग से प्रांत का मुखिया बन गये है,उन्होने पदभार संभालते ही जिस तरह के सोच प्रकट की है,उसका अवलोकन करने से मात्र यही स्पष्ट होता है कि विशुद्ध ग्रामीण परिवेश की राजनीति करने वाला यह नेता अनेक गलतफहमियो का शिकार है.जिसे दूर किये वगैर झारखंड जैसे बदहाल प्रांत का विकास संभव ही नही है.आईये हम बात करते है मुख्यमंत्री शिबू सोरेन उर्फ गुरूजी की गलतफहमी न.2 की. गुरूजी का साफ कहना है कि झारखंड मे नक्सलवाद कोई समस्या नही है. इसे बडी समस्या बनाया गया है. इसमे शामिल सब गांव का छोकडा लोग है.मीडिया मे बात का बतंगड बनाया जा रहा है.बकौल मुख्यमंत्री शिबू सोरेन किसी के घर मे किसी ने जान मार दी,उसके बदले की कार्रवाई मे हिंसा कर बैठता है. इसी का नाम उग्रवाद दे दिया गया है.
वेशक इस तरह की स्पष्ट सोच के पीछे गुरूजी के ईरादे कुछ भी रहे हो.लेकिन जिस तरह की उग्रवाद की बात कर रहे है,झारखंड जैसे राज्य मे उस्की ताजा स्थिति कुछ अलग ही तस्वीर लिये हुये है.यदि वे आज भी अपने जवानी काल के उग्रवादी अनुभव का आंकलन समेटे समाधान ढूंढ रहे है तो उनकी यह बहुत बड़ी गलतफहमी है.पुलिस-प्रशासन का मनोबल तोडने वाला है.क्योंकि आज का उग्रवादी उनके जैसा तीर-धनुष लिये हुये लुक्का-छिपी का खेल नही खेल रहा है अपितु ए.के.47,आरडीएक्स,डाईनामाईट सहित अत्याधुनिक सेटेलाईट उपकरणो से लैस है और समुचे शासन-तंत्र पर भारी पड रहा है. गुरूजी को यह भी नही भूलना चाहिये कि स्कूलो,सामुदायिक भवनो,रेल स्टेशनो-पटरियो को उडाना और राज्य के विकास कार्यो से जुडे सरकारी गैर सरकारी कर्मियो तो दूर राजनीतिक दलो से भारी भरकम “लेवी” वसूलना आखिर क्या है? ऐसे मे गुरूजी सरीखे प्रांत के मुखिया की इस तरह मानसिकता फिलहाल एक तरह से उग्रवादियो के सामने संवैधानिक संस्थाओ द्वारा घुटने टिकवाने की मानी जा रही है और खुद के उग्रवादी अनुभवो के सहारे उग्रवाद की ताजा स्थिति का आंकलन और उसका समाधान ढूंढना एक गलतफहमी है भी.
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

"शादी पूर्व ही यौन-सम्बन्ध स्थापित करने का आम प्रचलन है इस 'नव इसाई समुदाय' में "
ये न्यूज़ चैनल नहीं, अभिशाप है
IAS की तर्ज पर AIJS परीक्षा की कवायद शुरु,  CJI के साथ होगी PM की मीटिंग
बिहार के कीर्ति आजाद का दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष बनना तय
उबकाई क्यों लाते हो खबरिया भाई....
'आरक्षण' पर से मद्रास हाई कोर्ट ने हटाई रोक
भगवा की जगह धर्म को धारण करें  यूपी के सीएम :प्रियंका गांधी
हरियाणाः यूं चार्टर प्लेन चढ़ दिल्ली रवाना हुई ‘सत्ता की चाबी’  
आदर्श चुनाव आचार सन्हिता का उलंघन कर रहे स्वंय राज्यपाल
झूठे साबित हो चुके हैं एग्जिट पोल के नतीजे
Jio यूजर्स को दूसरे नेटवर्क पर कॉलिंग के लिए कराने होंगे ये रिचार्ज
देश में पहली समलैंगिक शादी को कोर्ट की मुहर
पेस्सा के तहत चुनाव: शिबू नार्मल लेकिन सुदेश और रघुवर अपने फेर मे
सुनो एक कन्या भ्रूण की चित्कार
रजरप्पा :झारखंडी मीडिया को मां छिन्न मस्तिका मंदिर परिसर का ये आलम दिखाई नहीं देता?
बच सकती थी एम्स में आग से हुई तबाही, अगर...
सही सलामत घर लौटे निवर्तमान राजद विधायक का राज
चमकते चांद को टूटा हुआ तारा बना डालाः PMCH के ICU में मौत से जुझता हमारा ‘आइन्सटीन’
बिहार में अब कहीं नहीं मिलेगी खुली सिगरेट, खरीदना होगा पैकेट
सीएम और गवर्नर को सरेआम गाली देता है शिबू सोरेन का पीए
देश के इन 112 विभूतियों को मिले हैं पद्म पुरस्कार
कैसे हो रहा है ICSE बोर्ड का संचालन? DSE से लेकर PMO तक नहीं है जानकारी!
26 को प्रभातफेरी निकाल बच्चें चमकाएंगे यूं सरकार का चेहरा
नक्सलियों के लिये शर्मनाक सबक है कानू सान्याल का आत्महत्या करना.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter