अन्ना ने पीएम को चिठ्ठी लिख लताड़ा, कहा 15 अगस्त को झंडोतोलन का हक नहीं

Share Button
अनशन के लिए दिल्ली पुलिस की गैरवाजिब शर्तों से नाराज अन्ना हजारे और उनकी टीम ने बंदिशों को मानने से इनकार कर दिया है। नाराज अन्ना ने इस बाबत प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को चिट्ठी लिखी है। अन्ना ने पीएम से इस मामले में दखल देने की मांग की है और कहा है कि उन्हें दिल्ली पुलिस की ऐसी शर्तें नामंजूर हैं।
अन्ना ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि संविधान में साफ लिखा है कि शांतिपूर्वक जमा होकर, बिना हथियारों के विरोध प्रदर्शन करना हमारा मौलिक अधिकार है। क्या आप और आपकी सरकार हमारे मौलिक अधिकारों का हनन नहीं कर रहे? जिन अधिकारों और आजादी के लिए हमारे क्रांतिकारियों और स्वतंत्रता सेनानियों ने कुर्बानी दी, स्वतंत्रता दिवस के 2 दिन पहले क्या आप उसी आजादी को हमसे नहीं छीन रहे हैं? मैं सोच रहा हूं कि 65वें स्वतंत्रता दिवस पर आप क्या मुंह लेकर लाल किले पर ध्वज फहराएंगे?
अन्ना ने जंतर-मंतर पर उन्हें अनशन की इजाजत नहीं मिलने को भी गलत ठहराया और कहा कि जिस जेपी पार्क पर उन्हें अनशन की इजाजत दी गई उसकी भी 3 दिनों की हद तय कर दी गई है। अन्ना ने मनमोहन सिंह से चिट्ठी के जरिए सवाल किया है कि क्या भारत का प्रधानमंत्री उन्हें अनशन के लिए कोई जगह दिला सकता है?
क्या इन सबसे तानाशाही की गंध नहीं आती? क्या ये आपकी सरकार को शोभा देता है? लोग कहते हैं कि आपकी सरकार आजादी के बाद की सबसे भ्रष्ट सरकार है। लेकिन मेरा मानना है कि हर सरकार पहली सरकार से ज्यादा भ्रष्ट होती है। स्वामी रामदेव के समर्थकों पर आपकी सरकार ने लाठी चलवाई। पुणे में किसानों पर गोली चलवाई। हम आपको संविधान की आहुति नहीं देने देंगे। आपकी सरकार तो आज है, कल नहीं है। बड़े खेद की बात है कि आपके इन गलत कामों की वजह से ही अमेरिका हमारे लोकतंत्र में दखल दे रहा है।
अन्ना ने कहा कि पिछली बार जब उन्होंने अनशन किया था तो सरकार ने आश्वासन देकर उठवा दिया था। हमारे साथ धोखा हुआ। ऐसी धोखाधड़ी होगी ये हमको पता नहीं था। हमने सरकार पर विश्वास किया और उसका खामियाजा भुगता। अन्ना ने कहा कि तीन दिन बाद जो होगा देखा जाएगा। हम 16 अगस्त से जेपी पार्क में अनशन करेंगे। सरकार ने रोका तो जेल में ही अनशन होगा। अन्ना ने कहा कि जेपी पार्क सरकार के बाप की संपत्ति नहीं है। देश युवाओं से कुर्बानी मांग रहा है। युवा तैयार हो जाएं।
अन्ना की इस चिट्ठी पर कांग्रेस ने भी तीखी प्रतिक्रिया जाहिर की है। कांग्रेस प्रवक्ता राशिद अल्वी ने कहा कि अन्ना अगर जेल जाना चाहते हैं तो जाएं लेकिन वो सरकार को ब्लैकमेल क्यों कर रहे हैं।
0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

दिल्ली की 15 साल तक चहेती सीएम रही शीला दीक्षित का निधन
राखी सावंत ने अन्ना को राम और केजरीवाल को रावण बताया
....और इस कारण 6 माह में 3 बार यूं बदले केन्द्र सरकार की ‘मोदी केयर’ के नाम
उबकाई क्यों लाते हो खबरिया भाई....
पुलिस की पेशकश पर अब जेपी पार्क में अनशन करेगें अन्ना
सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार पेसा कानून के तहत यदि झारखंड मे चुनाव हुआ तो आदिवासियो और सदानो के बीच स...
दैनिक रांची एक्सप्रेस की यह कैसी चाटूकारिता?
चर्चा रांची के दैनिक सन्मार्ग मानवता की
मीडिया : अक्ल-शक्ल सब बदला
समूचे देश मे राज्यो का पुनर्गठन एक साथ हो : नीतीश-पासवान
बोफ़ोर्स की तरह ही 'पीएम 2019' का खेल कहीं बिगाड़ न दे रफ़ाएल
सोनिया गांधी के खिलाफ जांच कार्रवाई क्यों नहीं?
राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के जन्मदिन पर ये उनका अपमान नहीं तो क्या है ?
निकम्मी झारखंड सरकार और शिबू सोरेन का निरालापन
महाराष्ट्र विधानसभा में कसाब को फांसी देने की मांग को लेकर विपक्ष का हंगामा
भारतीय मीडिया में बढ़ रही है मर्डोकों की तादात
राम रहीम उर्फ कैदी नंबर1997 को दफा 376, 511, 501 के तहत 10 साल की सजा
अन्ना हजारे को जेपी पार्क में मात्र 3 दिन की अनशन की सशर्त अनुमति
टीआरपी की होड़ में मर गई मीडिया की नैतिकता!
अर्जुन मुंडा यानि अंधेर नगरी का चौपट राजा
लहरिया बाइकर्स के खिलाफ पटना एसपी की मुहिम में 6 धराए
झारखण्ड की बदहाली के लिये बिहारियो को दोषी मानते है शिबू सोरेन
कसाई कौन ? डॉक्टर या दैनिक भास्कर ?
न.1 जर्नलिस्ट.काम का पता बताओ भडास4मीडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter