» समस्तीपुर से लोजपा सांसद रामचंद्र पासवान का निधन   » दिल्ली की 15 साल तक चहेती सीएम रही शीला दीक्षित का निधन   » अपनी दादी इंदिरा गांधी के रास्ते पर चल पड़ी प्रियंका?   » हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!   » बेटी का वायरल फोटो देख पिता ने लगाई फांसी, छोटे भाई ने भी तोड़ा दम   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » बजट का है पुराना इतिहास और चर्चा में रहे कई बजट !   » BJP राष्‍ट्रीय महासचिव के MLA बेटा की खुली गुंडागर्दी, अफसर को यूं पीटा और बड़ी वेशर्मी से बोला- ‘आवेदन, निवेदन और फिर दनादन’ हमारी एक्‍शन लाइन   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार  

हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!

Share Button

“अनुशासनहीनता के आरोप में रेलवे जज मिंटू मलिक को दिसंबर 2007 में निलंबित कर दिया गया था और 2013 में अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी गई थी…”

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क डेस्क। कलकत्ता हाई कोर्ट की खंडपीठ ने अपनी कोर्ट के एकलपीठ के फैसले को पलटते हुए एक रेलवे जज की सेवाएं बहाल करने का फैसला दिया है।

साथ ही हाई कोर्ट ने अपने गलत फैसले को स्वीकार करते हुए खुद पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। कोर्ट ने यह फैसला पिछले सप्ताह दिया है।

अदालत ने कहा कि पिछले 12 साल के दौरान उनकी कुल सेलरी का 75 फीसद राज्य उन्हें तत्काल भुगतान करे।

कोर्ट ने कहा, हाई कोर्ट ने मलिक के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई को खारिज करते हुए जुलाई 2014 में सिंगल बेंच के आदेश को पलट दिया।

एकलपीठ ने फैसले में कहा था कि रेलवे जज मलिक के पास ट्रेन में देरी की जांच और ड्राइवर के केबिन में घुसने का अधिकार नहीं है। फैसले को पलटते हुए हाई कोर्ट की खंडपीठ ने कहा कि इस फैसले से याचिकाकर्ता को झटका लगने के साथ ही उनके साथ विश्वासघात भी हुआ था।

खंडपीठ के जजों ने अपनी टिप्पणी में कहा कि उदंड रेलवे कर्मचारियों से बेइच्जती ङोलने वाले जज की रक्षा करने की जगह उसे किसी गलत काम को रोकने की कोशिश करने के लिए कष्ट ङोलना पड़ा।

मलिक के इस एक्शन से रेलवे कर्मचारी (ज्यादातर मोटरमेन और ड्राइवर) उनके चैंबर के बाहर इकट्ठा होकर प्रदर्शन करने लगे। इस दौरान जज के चैंबर में तोड़फोड़ करते हुए उन्हें कई घंटे के लिए बंधक बना लिया गया।

मामले कलकत्ता हाई कोर्ट ने अपनी तरफ से इस मामले में एक रिपोर्ट के आधार पर मलिक को निलंबित करते हुए उनके खिलाफ जांच शुरू कर दी। हाई कोर्ट की ऐडमिनिस्ट्रेटिव कमिटी ने जांच रिपोर्ट में मलिक को दोषी ठहराया।

मामला यह था कि रेलवे जज मिंटू मलिक 5 मई 2007 को अपने कार्यस्थल पर जाने के लिए लेक गाडर्न से सियालदह जा रही ट्रेन पर बैठे।

ट्रेन में यात्र के दौरान उन्हें अपने सहयात्रियों से पता चला कि न्यू अलीपुर के पास अवैध सामान लोड करने की वजह से ट्रेन हमेशा लेट हो जाती है।

मलिक को लगा कि उन्हें इस मामले की जांच का अधिकार है और वह पूछताछ के लिए ड्राइवर के केबिन में घुस गए।

ट्रेन ड्राइवर के जवाब से असंतुष्ट जज मलिक ने ड्राइवर और गार्ड को सियालदह स्टेशन पर उनके कोर्टरूम में रिपोर्ट करने को कहा।

उनकी अनिच्छा को भांपते हुए मलिक ने रेलवे पुलिस से दोनों की कोर्टरूम में पेशी को सुनिश्चित करने को कहा।

Share Button

Related News:

न.1 जर्नलिस्ट.काम का पता बताओ भडास4मीडिया
सिर्फ मनमोहन और राहुल गांधी से बात करेंगे अनशन पर बैठे अन्ना !
HC ने AG से पूछा- MP और CM एक साथ कैसे रह सकते हैं योगी
दैनिक भास्कर रोहतक के एडीटोरियल हेड जितेंद्र श्रीवास्तव ने ट्रेन से कटकर की आत्महत्या
यह है दुनिया का सबसे अमीर गांव, इसके सामने हाईटेक टॉउन भी फेल
राष्ट्रपति शासन की और बढ़ रहा है झारखंड
नक्सलियों ने फूंका डुमरी बिहार रेलवे स्टेशन, मालगाड़ी इंजन में लगाई आग,स्टेशन मास्टर-ड्राइवर के वॉकी...
बोफ़ोर्स की तरह ही 'पीएम 2019' का खेल कहीं बिगाड़ न दे रफ़ाएल
एक दशक बाद सलमान खान का ब्रिटेन में द-बंग टूर
इन बालू माफियाओं के खिलाफ पंगु साबित है नालंदा पुलिस-प्रशासन
ई है सुशासन बाबू की नालन्दा नगरिया: सर्वत्र उठा सवाल,दोषी कौन?कुशासन या किसान?
टीम अन्ना आंदोलन को लेकर बुखारी ने अलापा सांप्रदायिकता राग
गांधी के रास्तों पर नहीं चल रहे हैं अन्नाः तुषार गांधी
दिमाग लगाईए और बचिये ऐसे लुभावने विज्ञापनों से
पत्थर माफियाओं के तांडव के बीच “तेलकटवा” गिरोह का आतंक
आरक्षण फिल्म के निर्माता प्रकाश झा के घर-दफ्तर पर हमला
सीएम अर्जुन मुंडा के प्रेस कॉन्फ्रेस में हावी रहे झारखंड के चिरकुट पत्रकार
HM से मिले MLA अमित, हुआ खुलासा, रांची की निर्भया कांड की CBI जांच की अनुशंसा तक नहीं !
चार साल में मोदी चले सिर्फ ढाई कोस
अब पश्चिम बंग कहलाएगा पश्चिम बंगाल !
सुप्रीम कोर्ट से महेंद्र सिंह धोनी की अपील- 39 करोड़ दिलाएं मी लार्ड
इलाहाबाद हाई कोर्ट ने भेजा था गैंगरेप के मामले में को राहुल गांधी नोटिस
30 दिसंबर,वुधवार को मोहराबादी मैदान मे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेगे शिबू सोरेन
गुरुघंटाल "गुरूजी" के कारण एक बार फिर झारखंड में राष्ट्रपति शासन के आसार

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!  
error: Content is protected ! india news reporter